Computer Virus क्या होता है? कंप्यूटर वायरस की जानकारी

कंप्यूटर के बेहतर प्रदर्शन और उसकी सुरक्षा के लिए आपको Computer Virus क्या है और उससे बचने के उपाय के बारे में जरूर जानना चाहिये. आम भाषा मे कंप्यूटर वायरस को एक प्रकार का इलेक्ट्रॉनिक संक्रमण (electronic infection) कहा जाता है, जो यदि आपके computer system में किसी तरह से आ जाये. तो यह आपके computer की performance slow करने से लेकर data loss और system crashes जैसी कई खतरनाक चीजें आपके कंप्यूटर के साथ कर सकता है.

computer virus in hindi

कंप्यूटर अथवा किसी भी electronic gadgets के लिए यह Virus बेहद खतरनाक होते है. कुछ सबसे dangerous computer viruses में Melliss virus, ILOVEYOU, और Code red जैसे नाम शामिल है. अगर आप अपने कंप्यूटर को इस तरह के वायरस से सुरक्षित रखना चाहते है, तो आपको कई तरह की सावधानियाँ बरतनी होगी. इस पोस्ट में हम आपको बतायेंगे असल मे कंप्यूटर वायरस क्या होते है और यह वायरस कंप्यूटर को कैसे प्रभावित करते है?

जब हम computer security के बारे में बात करते है, तो virus प्रमुख खतरा है. Computer virus अपने आप पैदा नही होते, बल्कि इन्हें programmer द्वारा किसी खास मकसद के लिए बनाया जाता है. computer virus आपके सिस्टम में कई तरह से आ सकते है. एक बार system में execute हो जाने के बाद यह पूरे कंप्यूटर में फैलते जाते है, जिसके बाद आपके computer में कई तरह की खामियां दिखाई देने लगती है. तो चलिए बिना समय व्यर्थ किये जानते है, कंप्यूटर वायरस क्या होता है? और इससे बचने के लिए हमे क्या करना चाहिये?

कंप्यूटर वायरस क्या है (What is Computer Virus in Hindi)

Computer Virus एक Malicious software program है, जो कंप्यूटर संचालन तरीकों को बदलने और उन्हें नुकसान पहुचाने के लिए design किया जाता है. यह computer virus अपने code को computer में निष्पादित (execute) करने के लिए किसी document अथवा computer program के साथ attach होकर संचालित होता है और धीरे – धीरे आपके कंप्यूटर में फैलता जाता है. एक computer virus में अप्रत्याशित और हानिकारक प्रभाव पैदा करने की क्षमता होती है.

आमतौर पर यह computer virus कमजोर सिस्टम (Vulnerable system) पर सबसे अधिक infect करते है. एक बार computer system में execute हो जाने के बाद यह आपके program और files को damage कर सकते है. इसके अलावा यह कंप्यूटर की performance slow करते है साथ ही system software को पूरी तरह काम करने से रोकते है. इन computer virus को बनाने का उद्देश्य कमजोर सिस्टम को संक्रमित करना, व्यवस्थापक नियंत्रण हासिल करना और सवेंदनशील डेटा चोरी करना होता है.

हैकर्स दुर्भावनापूर्ण इरादे से “computer virus” डिज़ाइन करते है और online user को धोखा देकर वायरस को उनके सिस्टम तक पहुचा देते है. यह computer virus आपके system में कई तरह से आ सकता है. सबसे प्रमुख विधि जिसके द्वारा वायरस फैलता है, वह emails के माध्यम से होता है. जैसे email attachment को खोलना, किसी infected website पर जाना, executable files पर click करना या infected websites advertisement को खोलने से भी यह आपके सिस्टम तक पहुँच सकता है. इसके अलावा वायरस युक्त USB drive से भी आपके कंप्यूटर में virus फैल सकता है.

कंप्यूटर वायरस के प्रकार

कंप्यूटर सुरक्षा की दृष्टि से आपको नीचे बताये गये computer viruses के बारे में जानकारी होनी चाहिए.

Web scripting virus

इस प्रकार के वायरस सबसे प्रचलित है. यह virus कुछ websites के link, advertisement, image placement, video के साथ attached रहते है. वेबसाइट की इन सामग्री पर click करने से malicious code आपके computer या मोबाइल पर automatically download हो जाता है. इसके अलावा यह आपको किसी malicious website पर भी भेज सकता है. इस प्रकार के computer virus उन वेबसाइटों पर पाये जाते है, जिनका उपयोग social networking उद्देश्यों के लिए किया जा रहा हो.

उदाहरण के लिए ऐसी websites जहां पर user reviews, web mail, chat room और message board जैसी सुविधाएं उपलब्ध हो. यदि यह computer virus आपके सिस्टम में मौजूद है, तो इसके कई symptoms आपको दिखाई देंगे जैसे आपके web browser और desktop का background अपने आप बदल जायेगा या फिर आपके computer की performance slow हो जाएगी. इसके अलावा दूसरे लक्षण भी है.

Browser hijacker

यह वायरस user की permission के बिना ही web browser की setting को modify कर देता है, जिसके बाद आप विभिन्न वेबसाइटों पर पहुँच सकते है. उदाहरण के लिए जब आप ब्राउज़र के address bar में एक url डालते, तो browser hijacker आपको उस वेबसाइट में ले जाने के बजाय दूसरी infected website पर पहुँचा देता है. आमतौर पर इस प्रकार की रणनीति advertisement से आय बढ़ाने के लिए की जाती है. इस तरह के वायरस से संक्रमित होने पर आपका ब्राउज़र थोड़े – थोड़े समय के बाद आपको unwanted advertisement show करने लगता है.

Boot sector virus

एक बूट सेक्टर वायरस का infected code तब आपके कंप्यूटर पर फैलता है, जब system एक संक्रमित डिस्क द्वारा boot होता है. यह computer virus खासकर floppy disk के boot sector या Hard disk के Master boot record (MBR) को संक्रमित करता है. यह वायरस load होने के बाद अगर infected computer में access होता है, तो यह अन्य फ्लॉपी डिस्क को भी संक्रमित करेगा.

हालांकि आज यह virus अप्रचलित हो गया है, परन्तु फिर भी यह दूसरे तरीको से सिस्टम तक पहुचने की कोशिश करता है.

Direct action virus

इस प्रकार के computer virus कुछ specific files पर ही हमला करते है. आमतौर पर .com और .exe extension वाली फाइलें इससे संक्रमित होती है. यह virus तब तक action में नही आता जब तक इसकी file को execute (क्लिक करके खोलना) नही किया जाता. इस वायरस का काम अपने program को दोहराना और फाइलों को संक्रमित करना होता है. हालांकि यह computer virus उतना खतरनाक नही है. इसे antivirus program की मदद से हटाया जा सकता है.

File infector virus

आज के मौजूदा वायरस का एक बड़ा हिस्सा इसी श्रेणी का है. यह computer virus एक कंप्यूटर में store files को आसानी से संक्रमित कर सकता है. जब आपके द्वारा संक्रमित किसी file या program को चलाया जाता है, तो file infector virus सक्रिय हो जाता है. यह आपके system program को slow करने के अलावा अन्य हानिकारक प्रभाव पैदा कर सकता है. यह आपके कंप्यूटर में मौजूद application के लिए जोखिम भरा है. ये वायरस malicious code को repeat करके उसे अन्य application पर लागू कर सकता है. सभी executable files इस computer virus का शिकार हो सकती है.

Network virus

नेटवर्क वायरस internet और स्थानीय नेटवर्क क्षेत्र (LAN) के माध्यम से फैलता है. इस प्रकार के वायरस network की performance को कम करने की क्षमता रखते है. इसके प्रभाव के कारण महत्वपूर्ण device, program और network connection पूरी तरह से disable हो जाते है. एक बार network virus का संक्रमण फैलने पर सिस्टम का उन्मूलन मुश्किल हो जाता है. computer virus जो network protocol का इस्तेमाल कंप्यूटर को संक्रमित करने व अन्य कंप्यूटरों में फैलने के लिए करते है, उन्हें Worms कहा जाता है. LAN, MAN, WAN नेटवर्क क्या है इनके बारे में जाने.

Maltipartite virus

यह computer virus सबसे तेजी से फैलने वाला वायरस माना जाता है. अधिकांश virus या तो boot sector, system या program files को infect करते है. परन्तु यह वायरस एक ही समय मे बूट सेक्टर और प्रोग्राम फाइलों दोनों को प्रभावित कर सकता है. इसी कारण यह दूसरे computer virus की तुलना में अधिक नुकसान पहुंचाता है. यह वायरस बूट सेक्टर और निष्पादन योग्य फाइलों पर हमला करने के लिए file infector या boot infector का इस्तेमाल करता है.

Macro Virus

मैक्रो वायरस उन application और software को infect करते है, जिनमे macros होते है. मैक्रोज एक स्वचालित इनपुट अनुक्रम है, जो keystroke या mouse क्रियाओं का अनुकरण करता है. आमतौर पर keyboard और mouse क्रियाओं की एक दोहराव श्रृंखला को बदलने के लिए एक macro का उपयोग किया जाता है. खासकर यह word processing और spreadsheet जैसे application (MS Excel, MS World) में आम है.

अगर कोई macro virus इन software को infect कर दे. तो जब भी आप सॉफ्टवेयर को खोलेंगे मैक्रो वायरस स्वचालित रूप से अपनी क्रियाओं को चालू कर देगा. अब क्योंकि यह computer virus सॉफ्टवेयर या एप्लीकेशन के द्वारा फैलता है. इसीलिये यह किसी भी operating system (Windows, macOS, Linux, Android, iOS etc.) को संक्रमित कर सकता है.

Resident virus

रेजिडेंट वायरस वह कंप्यूटर वायरस है, जो खुद को RAM memory में store करता है और अन्य files, program को infect करने की अनुमति देता है. यह virus कई क्रियाओं को करने की क्षमता रखता है. रेजिडेंट वायरस के सबसे लोकप्रिय उदाहरण CMJ, Meve, Mrklunky और Randex है.

Encrypted virus

यह एक ऐसा वायरस है, जिसको detect करना एक Antivirus program के लिए भी काफी difficult होता है. क्योंकि यह वायरस encrypted malicious code का उपयोग करते है. इसी कारण antivirus software के लिए इन्हें पकड़ना मुश्किल है. ऐसा नही है, कि इन्हें हटाना नामुमकिन है. अपने program को repeat करने के दौरान यह वायरस encrypted code का इस्तेमाल नही करते है. यानी उस समय यह खुद को decrypt करते है. हालांकि computer की files और folder को इनसे कोई नुकसान नही है. लेकिन यब PC performance को बुरी तरह प्रभावित करते है.

Computer Virus के Symptoms – लक्षण

आमतौर पर वायरस एक Malicious software है, जिसे हम malware कहते है. यह आपके computer या mobile की personal information चुरा सकते है या आपके system को damage पहुँचा सकते है. कुल मिलाकर यह कंप्यूटर के लिए एक बेहतरीन चीज नही है.

तो यदि आपके कंप्यूटर में वायरस मौजूद हो तो आप कैसे पता करेंगे? जब हमारे कंप्यूटर या मोबाइल में इस तरह की कोई गड़बड़ होती है, तो वह खुद हमे संकेत देते है. नीचे हम आपको ऐसे ही कुछ symptoms अथवा sign बतायेंगे जिससे आप जान सकते है, कि आपके कंप्यूटर में virus है या नही.

Slow internet speed ― यदि आपकी internet speed लगातार कुछ समय से अधिक slow हो गयी है, तो आपको यह जांचना चाहिए कि कही यह computer virus की वजह से तो नही. ऐसी समस्या उन कंप्यूटर उपयोगकर्ता के साथ होती है, जो बिना किसी antivirus program के लगातार इंटरनेट का उपयोग करते है.

Unexpected advertisement ― कई बार हमारे computer पर बीच – बीच में pop-up window खुलने लगती है. जिसमे विज्ञापन दिखाई देते है. यह unexpected on-screen advertisement किसी virus infection का संकेत हो सकता है. ऐसे किसी भी pop-up ad पर क्लिक नही करना चाहिए. कई बार विज्ञापन में ही यह बताया जाता है कि आपके कंप्यूटर में वायरस मौजूद है. उसे हटाने के लिए यह antivirus download करे. लेकिन वास्तव में वह एक computer virus होता है.

Slow performance ― अक्सर यह कम RAM या less hard disk होने की वजह से भी होता है, परन्तु यदि आपके कंप्यूटर में पर्याप्त space मौजूद है, तो यह किसी computer virus की वजह से भी हो सकता है. अगर आपका PC शुरू होने में अधिक समय ले रहा है या किसी program के खुलने में ज्यादा load time लग रहा है, तो आपके कंप्यूटर में वायरस हो सकता है.

Error massage ― ब्राउज़र इस्तेमाल करने के दौरान यदि आपकी स्क्रीन पर error massage या warning alert आने लगे तो इसका कारण आपके कंप्यूटर में मौजूद virus भी हो सकता है. कई प्रकार के computer virus यदि आपके सिस्टम में मौजूद हो तो वह दूसरे कई वायरस के लिए रास्ते खोल देते है.

Security attacks ― यदि आप अपने किसी document या program को खोल नही पा रहे, तो इसका अर्थ हुआ कि आपका कंप्यूटर एक dangerous virus से संक्रमित हो चुका है. कुछ computer virus इसलिए design किये जाते है, ताकि वह किसी सिस्टम की security को तोड़ सके.

Missing or extra files ― वायरस आपके कंप्यूटर में फैलने के साथ खुद की या unwanted files की copies install करते रहता है. जिससे आपकी RAM या hard disk भरने लगती है. इसके साथ ही यह अप्रत्याशित रूप से files को computer से remove कर देते है. यदि आप अपने कंप्यूटर पर कुछ इस तरह की गड़बड़ देख रहे है, तो तुरंत virus scan करे.

Unnecessary emails ― यदि आपके मित्र को आपकी तरफ से emails या message प्राप्त होते है, जिसमे किसी attachment को खोलने या link पर क्लिक करने को कहा गया हो, तो इसका मतलब आपका कंप्यूटर virus infected है. जिस कारण वह आपके खाते से अन्य कंप्यूटरों में फैलने का प्रयास कर रहा है. इसके लिए तुरंत अपना password बदले.

System crashes ― अगर आपका computer system अचानक crash हो जाता है या अधिक hang करने लगता है, तो इसका कारण computer virus भी हो सकता है. वायरस आपकी हार्ड ड्राइव को नुकसान पँहुचाते है. यदि आपका कंप्यूटर ऐसी परिस्थिति झेल चुका है तो अपने कंप्यूटर में antivirus software जरूर चलाये.

कंप्यूटर में वायरस कैसे आता है – Causes of Computer virus in hindi

ऐसे कई तरीके है, जिनके द्वारा एक कंप्यूटर virus, worms, spyware, torjan horse, logic bombs इत्यादि से संक्रमित हो सकता है. नीचे आपको कुछ ऐसे मुख्य तरीको के बारे में बताया गया है, जिनसे वायरस आपके computer में प्रवेश कर सकता है.

1) ब्राउज़र इस्तेमाल करते समय कभी – कभी हमारी स्क्रीन पर एक advertisement दिखाई देने लगती है, जिसमे लिखा होता है “Your computer is infected” और इसे ठीक करने के लिए यह Antivirus application download करे. यदि आप उस पर क्लिक करके उसे अपने सिस्टम में जगह दे दें. तो इस तरह से आपके कंप्यूटर पर वायरस आ सकता है.

2) किसी software को install करने के दौरान वह आपसे कई तरह की permission मांगता है. यदि आप allow करते है, तो उस सॉफ्टवेयर के पास आपके सिस्टम का access चला जाता है. ज्यादातर लोग बिना prompt पढ़े ही उसको अनुमति दे देते है.

3) अगर आप किसी ऐसी website से application download करते है, जो infected हो. तो ज्यादा संभावना है, कि आपके सिस्टम में किसी तरह का computer virus प्रवेश कर जाए.

4) ऐसी E-mail attachment को खोलना जिसे आप प्राप्त करने की अपेक्षा नही कर रहे थे. एक बार आप उस email में दिए link या attachment में क्लिक करते है, तो malicious code आपके कंप्यूटर को संक्रमित कर सकता है.

5) पहले से Infected disk, USB drive या DVD को अपने कंप्यूटर से जोड़ने पर भी virus आपके सिस्टम में प्रवेश कर सकता है.

6) कई बार हम अपने operating system और बाकी programs को update नही करते है. जिसकी वजह से उनकी sucurity में खामियां आने लगती है और computer virus के लिए हमारे सिस्टम में प्रवेश करना आसान हो जाता है.

7) यदि आप pirated window या piracy software का इस्तेमाल करते है. तो यह आपके कंप्यूटर की सुरक्षा को उतना बरकरार नही रख पाता है.

8) बिना Antivirus के लगातार कंप्यूटर का इस्तेमाल करने से भी आपके सिस्टम में computer virus के प्रवेश करने की संभावना बढ़ जाती है. यदि आप Microsoft Windows के साथ कंप्यूटर चला रहे है, तो यह अत्यधिक जरूरी है, कि आप एक antivirus का इस्तेमाल करे.

कंप्यूटर से वायरस कैसे निकाले

कंप्यूटर को पूरी तरह से virus free बनाने के लिए सबसे पहले आपको अपने computer का virus scan करना होगा. इससे आपको पता चल पाएगा कि आपका सिस्टम किस तरह से वायरस पीड़ित है. याद रखिये एक आसान वायरस स्कैन से काम नही चलेगा. आपको किसी बेहतर Antivirus softwareका इस्तेमाल करना होगा. यदि आप किसी free antivirus को install कर उसका इस्तेमाल अपने PC में करते है, तो यह उसकी performance और security को बेहतर करने के बजाए और खराब कर सकता है.

इसलिए में आपको किसी Paid Antivirus का इस्तेमाल करने की सलाह दूंगा. नीचे दस ऐसे Antivirus की सूची दी गयी है, जिन्हें आप online या offline दोनों तरीको से खरीद सकते है.

  • Quick Heal
  • Kaspersky internet security
  • BitDefender
  • Norton
  • McAfee
  • Avast
  • Guardian total security
  • Avg antivirus
  • K7 antivirus
  • Avira

कंप्यूटर वायरस से बचने के उपाय

आज के आधुनिक युग मे हर कोई internet और नई technology का उपयोग करता है. इसमे कोई दोहराई नही है, कि टेक्नोलॉजी ने मनुष्यो की जिंदगी को बहुत आसान बना दिया है. परन्तु ज्यादातर लोग इसके खतरे से से वाकिफ नही है. Computer virus और दूसरे प्रकार के malware उन खतरों में से है, जो आपकी online security और data के साथ बहुत बड़ी दुर्घटना कर सकते है. कोई भी व्यक्ति जो इंटरनेट का इस्तेमाल करता है, उसे इनसे बचने के उपायों के बारे में जरूर जानकारी होनी चाहिए.

नीचे बताये तरीको का अनुसरण करने पर आप इन computer virus से बच सकते है.

  1. एक premium antivirus का इस्तेमाल करे. अगर आप रोजाना अपने PC में internet का इस्तेमाल करते है, तो आपको इसकी खास जरूरत है.
  2. किसी भी अनजानी वेबसाइट से third party application download न करे. ऐसी वेबसाइटों के इस्तेमाल से बचें जो तरह -तरह के offers दे रही हो.
  3. अपने कंप्यूटर को up to date रखे. सभी operating system समय – समय पर update लाते रहते है. जिसमे पिछले अपडेट की खामियां को हटाया जाता है.
  4. इन computer virus से बचने का एक बेहतरीन तरीका यह है, कि आप malicious program को अच्छे से समझ ले. जैसे यह कैसे दिखते है और किस तरह से फैलते है.
  5. E-mail attachment से सावधान रहें. किसी भी email में दिए link या advertisement पर क्लिक न करें. अगर चाहे तो पहले उस ईमेल को antivirus की मदद से scan कर ले.
  6. संदिग्ध वेबसाइट (suspicious websites) पर जाने से बचे. आजकल हम हर तरह की जानकारी प्राप्त करने के लिए Search engine (google, bing) का इस्तेमाल करते है. इसीलिये किसी भी वेबसाइट पर जाने से पहले देखे क्या वह trusted source है.
  7. अपने कंप्यूटर से किसी Pen drive या hard disk को जोड़ने से पहले यह ध्यान रखे कि आपके पास एक अच्छा एंटीवायरस उपलब्ध हो. अन्यथा infected pen drive आपके कंप्यूटर को नुकसान पहुंचा सकती है.
  8. अगर आपके कंप्यूटर पर important data store है, तो उसका backup जरूर रख ले. कोई भी antivirus आपको सौ प्रतिशत सुरक्षा नही देता है.
  9. Malware scanner का प्रयोग करे. यह antivirus program से भिन्न है. यह किसी भी तरह के मैलवेयर प्रोग्राम को पकड़ने की हैसियत रखता है.
  10. जितना हो सके file sharing करने से बचे. हम बिना सोचे समझे किसी भी device से video, music, movies और image इत्यादि को bluetooth या file sharing tool के माध्य्म से प्राप्त करते है. इससे संक्रमित फाइल हमारे कंप्यूटर या फोन में पहुच सकती है.

Conclusion

इस लेख के माध्यम से आपने जाना Computer Virus क्या है और इससे बचने के उपाय? इसके अंतर्गत हमने आपके साथ कंप्यूटर वायरस के बारे में सम्पुर्ण जानकारी सांझा की है. उम्मीद है, आपको यह पोस्ट पड़ कर अपने सवालों का जवाब मिल चुका होगा. यदि फिर भी किसी तरह का सवाल या सुझाव हो तो कृपया नीचे comment कर हमें जरूर बताये. आपके सवाल का जवाब जरूर दिया जाएगा. कंप्यूटर वायरस के बारे में हर इंटरनेट उपयोगकर्ता को पता होना चाहिए. अगर आप चाहे तो जागरूकता के लिए इस पोस्ट को शेयर जरूर करे धन्यवाद.

इन्हे भी पढ़े-

6 COMMENTS

  1. jis prakar aap ek acha article ham logo ke provie kiya hai.yah ham logo ke liye helpful hai aur iske sath-sath aapke website design bahut acha hai.aise article share karne ke liye aapka sahi dil se dhanyawad.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here