Internet क्या है और कैसे चलता है?

आज के इस महत्वपूर्ण लेख में हम जानेगें Internet क्या है और कैसे चलता है? दोस्तों इंटरनेट का इस्तेमाल तो हम सभी tweet, post, email, download, online shopping करने तथा google पर जानकारी खोजने के लिए करते ही है. परन्तु connected network के इस worldwide system के बारे में आप वाकई कुछ जानते है. आज की generation के लिये भले ही internet एक आम शब्द हो, परन्तु मनुष्य के इतिहास में यह सबसे बड़े अविष्कारों में से एक था.

internet kya hai in hindi

तो इस लेख के माध्यम से हम आपको internet की दुनिया के कुछ ऐसे सवालों के जवाब देंगे जिनसे आप अनजान है. हमे पूरी उम्मीद है, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप जान जायेंगे इंटरनेट क्या है? इंटरनेट के जनक कोन थे? इंटरनेट से होने वाले फायदे व नुकसान क्या है? अब चूंकि इतने सवाल के जवाब इस लेख में है, जाहिर है यह पोस्ट थोड़ी लम्बी होगी अगर आप इसे पूरा नही पड़ना चाहते बल्कि कुछ ही सवालों के जवाब चाहते है, तो आप विषय सूची पर उस सवाल के उप्पर क्लिक करे. तो चलिए अब बिना समय गवायें शुरू करते है.

इंटरनेट क्या है (What is Internet in Hindi)

INTERNET जिसे आम भाषा मे Net. कहा जाता है, एक telecommunication network है, जो computer और अन्य devices को World Wide Web से जोड़ने के लिये telephone lines, cables, satellites और wireless connection का उपयोग करता है. अगर इसे आसान भाषा मे समझे तो इंटरनेट पूरी दुनिया मे फैला हुवा एक ऐसा network system या जाल है, जो दुनिया के सभी computers के बीच connection स्थापित करता है. ताकि उनके बीच data का आदान – प्रदान हो सके.

उदाहरण के लिये जब आप अपना browser खोल कर कोई जानकारी search engine (google) में खोजते है, तो जाहिर है वो कही store होगी. Internet पर मौजूद सभी files (img sound, video, web page) इत्यादि server नामक कंप्यूटर में save रहती है. तो internet के माध्यम से आपके कंप्यूटर और सर्वर के बीच एक सम्बंध स्थापित होता है. जिसके कारण आपके कंप्यूटर तक सर्वर में रखी जानकारी पहुँच पाती है. इसीलिये इंटरनेट को computer network का worldwide system भी कहा जाता है. चूंकि दुनिया के सभी कंप्यूटर और सर्वर internet के माध्यम से आपस मे जुड़े हुवे है, जिसके कारण यह दुनिया का सबसे largest network है.

Internet के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बिंदू.

1) दो कंप्यूटरों के बीच data के आदान – प्रदान के लिये इंटरनेट TCP/IP Protocol का उपयोग करता है. प्रोटोकॉल के बारे में जानने के लिये Protocol क्या है? यह पोस्ट पढ़े.

2) Internet service को access करने के लिये हमें computer modem, broadband, या 3G, 4G Network का उपयोग करना होता है. जो ISP के माध्यम से जुड़ा हुवा है. ISP क्या होता है? इसके बारे में जाने.

3) जब आपके पास इंटरनेट का access आ जाता है तो आप किसी भी browser का उपयोग internet surfing के लिये कर सकते है.

4) इंटरनेट या ब्राउज़र हमे जानकारी खोज कर नही देते बल्कि यह तो माध्यम है. Internet पर जानकारी प्राप्त करने के लिये हम search engine (google, bing, yahoo) का उपयोग करते है.

5) जानकारी खोजने के अलावा इंटरनेट का उपयोग social network, chat, email के माध्यम से दूसरों के साथ communicate करने के लिये भी किया जाता है.

6) इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) का उपयोग अक्सर एक दूसरे के लिये होता है. लेकिन वे वास्तव में एक चीज नही है. इसको समझने के लिये WWW क्या है? इस पोस्ट को पढ़े.

Internet का इतिहास

आपका “Internet” आज जैसा है, यह 90 के दशक में वैसा नही था. इसके पीछे एक history है. कहते है, ना किसी बड़े अविष्कार (invention) की शुरुवात एक problem के solution ढूढने से होती है. Internet का अविष्कार भी कुछ ऐसे ही हुवा. 1990 के दशक में America के शीत युद्ध war think tank corporation के लिये सबसे बड़ी समस्या उनके अधिकारी युद्ध के दौरान आपस मे कैसे बातचीत कर पाये या अपना संदेश कैसे दूसरे अधिकारी तक पहुँचाये यह थी. इसी समस्या का समाधान निकालते – निकालते इंटरनेट का जन्म हुआ.

अब अगर यह समझा जाये कि internet का अविष्कार उन अमेरिकी थिंक टैंक ने किया तो यह बिल्कुल गलत होगा. क्योंकि internet कोई ऐसी चीज नहीं है, जो एक बार में ही विकसित हो गयी. यह धीरे – धीरे develop हुई और देखते ही देखते पूरी दुनिया मे फैल गई. इसको बनाने में कई scientist, programmers और engineers का हाथ है. इन्होंने ही इसमे लगातार काम किया और समय के साथ इंटरनेट में नए features और technology को विकसित करते गये जो अंततः एक information superhighway बन गया.

इंटरनेट के निर्माण की सबसे दिलचस्प बात यह है, कि Internet technology के अस्तित्व में आने से कई सालों पहले ही कुछ scientist ने worldwide network की आशंका जताई थी. Nicola Tesla ने 1900 के दशक में world wireless system पर अपनी राय रखी थी. साथ ही कई visionary thinkers ने media और books को store करने के लिये searchable storage system की परिकल्पना की थी. लेकिन जब J.C.R Licklider ने computers के intergalactic network के विचार को लोकप्रिय बनाया तब जाके इस idea पर काम शुरू हुवा. जिसके बाद computer scientist ने packet switching की अवधारणा विकसित की, जो electronic data को प्रभावी ढंग में प्रसारित करने की एक विधि है.

अगर बात की जाये Net के पहले काम करने योग्य prototype की तो वह 1960 के दशक में Advance Research Project Agency (ARPANET) के निर्माण के साथ आया था. असल मे यह एक American Agency है, जिसे U.S Department of Defence के लिए बनाया गया था. ARPANET ने ही सबसे पहले single Network पर कई computers को communicate करने की अनुमति देने के लिये packet switching का उपयोग किया. 1970 के दशक में जब Robert kahn और Vinton cerf द्वारा transmission control protocol और internet protocol (TCP/IP) विकसित किया गया तब भी internet technology का विकास जारी रहा. समय के साथ – साथ वैज्ञानिकों को यह समझ आने लगा कि कैसे network के बीच data transmit किया जा सकता है.

ARPANET ने 1 जनवरी 1983 को TCP/IP को अपनाया और तब शोधकर्ताओं ने Network of Network को बनाना शुरू किया जो आगे चलकर modern internet बन गया. Internet को सही पहचान तब मिली जब 1990 में कंप्यूटर वैज्ञानिक Tim Berners-Lee ने World Wide Web (WWW) का अविष्कार किया. यह एक ऐसा तरीका है, जिसके माध्यम से website और hyperlink के रूप में online data तक पहुँचा जा सकता है. Web ने ही लोगो के बीच internet को लोकप्रिय बनाया.

Internet का हिंदी नाम क्या है

हम सब internet का इतना इस्तेमाल करते है. आज यह हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा बन चुका है. पर क्या आप इसका हिंदी नाम जानते है. क्या आप जानते है इंटरनेट को हिंदी में क्या बोलते है. वैसे तो internet को शुरुवात में इंटरनेट ही कहा जाता था. परन्तु बाद में इसका हिंदी नाम “अंतरजाल” रखा गया. यानी ऐसा सूचनाओं का भंडार जहां ज्यादा सवालों का जवाब मिल सके. परन्तु यह नाम इतना बोलचाल में नही आया.

इंटरनेट किसने बनाया

अगर हम Net के मालिक या internet inventors की बात करे तो दो नाम Robert E. KahnVint Cerf सबसे पहले आते है. परन्तु इंटरनेट बनाने में सिर्फ दो व्यक्तियों का हाथ नही है. इसके विकास में कई लोगो ने अपना योगदान दिया है. फिर चाहे वह Leonard Kleinrock द्वारा दिया गया विचार हो या Tim Berners-Lee द्वारा विकसित की गई WWW सबका इसमे बराबर का योगदान है.

इंटरनेट का महत्व

क्या आप बिना internet इस दुनिया की कल्पना कर सकते है? यह असम्भव है. कम से कम आज के दौर में इसकी हमे सबसे ज्यादा जरूरत है. क्योंकि internet पर communication और entertainment जैसी सरलतम गतिविधियाँ बहुत अधिक निर्भर करती है. हमारे जीवन को सरल बनाने में इसका एक बड़ा योगदान है. तो चलिये जानते है, इंटरनेट का हमारे जीवन मे क्या उपयोग है.

हमारे जीवन मे internet की importance क्या है?

शिक्षा के क्षेत्र में – अगर हम पहले के समय मे जाये जब internet विकसित नही हुआ था. तब आपके पास पढ़ाई करने के क्या साधन थे. जो भी knowledge मिलती थी वह school जा कर ही प्राप्त होती थी. परन्तु आज आपको कोई भी education help internet के माध्यम से मिल सकती है. यहाँ तक कि आज कई online learning institute है, जहां से आप घर बैठे पढ़ाई कर सकते है.

संचार करने में – Net ने एक तरह से पूरे world को आपस मे connect कर दिया है. जिससे आज हम एक दूसरे से कही भी कभी भी communicate कर सकते है. पहले जब आप किसी को पत्र भेजते थे तो वह कितना समय लेता था. परन्तु आज internet के माध्यम से आप एक सेकंड में email भेज सकते है. कुल मिलाकर इंटरनेट ने दुनिया के बीच communication को बहुत सरल बना दिया है.

मनोरंजन के लिये – अगर आपसे पूछा जाये आप Net का उपयोग सबसे ज्यादा किस चीज के लिये करते है, तो जवाब entertainment होगा. आज इंटरनेट पर सबके लिये कुछ न कुछ है. अगर आपके पास इसका access है, तो internet पर मनोरंजन के कई तरीके है. जैसे – online Video, music, social media, video game कुल मिलाकर आप ऊब नही सकते.

जानकारी खोजने के लिए – internet एक information source है, आपको किसी भी तरह की जानकारी चाहिये बस उसे search कीजिये आपको हजारो जवाब मिल जायेंगे. बल्कि आज voice search technology के माध्यम से सिर्फ सवाल बोल कर आप जवाब पा सकते है. तो कहने का मतलब है, इंटरनेट हमारी हर तरह से मदद कर रहा है.

कार्यक्षेत्र में – अगर आप job करते है, तो office का काम करने में internet आपकी कितनी मदद करता है. आज बड़ी से बड़ी कंपनी व छोटे से छोटा business अपना सारा कार्य online करते है. पहले के दौर में किसी भी business या government sector का सारा record दस्तावेजों में कैद होता था. परन्तु इंटरनेट ने यह प्रथा समाप्त कर दी जिससे हमारे समय की बहुत बचत होती है.

वित्तीय लेन देन – financial transaction के क्षेत्र में internet एक तरह की क्रांति लाया . आप घर बैठे कही भी money transaction कर सकते है. अब तो आपकी sallery भी सीधे आपके bank account में आती है. Payment gateway app की मदद से आप अपना electricity bill, insurance, DTH recharge, phone recharge, flight ticket, railway tickets इत्यादि सब online book कर सकते है.

इसके अलावा भी बहुत सारे काम है, जो internet की मदद से पूर्ण हो पाते है.

इंटरनेट कैसे चलता है

हर कोई यह जानना चाहता है, कि इंटरनेट कैसे चलता है या कैसे काम करता है? एक बार internet से अपने computer या mobile को जोड़ने पर कैसे हमारी पहुंच दुनिया की हर जानकारी तक हो जाती है. तो चलिए आज इसको एक सरल भाषा मे आपको समझाने की कोशिश करते है.

हम सभी जानते है, इंटरनेट computer का world wide network है. इस network को बनाने के लिये हमने कई cable lines, satellite, tower और अन्य उपकरणों का उपयोग किया है. Internet के इन कम्प्यूटरों को दो श्रेणीयों में बांटा जाता है Server और Browser.

  • Server वे कंप्यूटर है, जहां इंटरनेट की सारी information store रहती है, ये विशिष्ट कंप्यूटर है. Data store करने के अलावा यह information को अन्य सर्वरों के साथ share भी करते है. कुल मिलाकर यह हमारे लिये जानकारी उपलब्ध कराने का काम करते है.
  • Browser के बारे में आप सब जानते ही है. इनका कार्य computer को World Wide Web से जोड़ना होता है. अभी आप ने किसी न किसी browser पर इस web page को खोल रखा होगा Browser की जानकारी के लिए यह पोस्ट पढ़े.

तो जब आप अपने कंप्यूटर में internet connect करते है, आप एक विशेष प्रकार के server से जुड़ जाते है. इस सर्वर को आपके Internet Service Provider (यानी जहाँ से आपने internet connection लिया है) द्वारा operate और provide किया जाता है. यह ISP server आपके ब्राऊज़र और इंटरनेट के बीच link प्रदान करता है. यह सिर्फ आपके ही नही बल्कि कई browser’s के internet connection को संभालता है. यानी एक सर्वर से हजारों लोग जुड़े होते है.

अब जैसे ही आप ब्राउज़र में कुछ search मारते है, तो वह request को ISP server द्वारा receive किया जाता है. अब यह सर्वर हमारे अनुरोध को Host server पर ले जाता है. Host server जहां websites स्थित होती है. जैसे इस वेबसाइट का सारा data एक होस्ट सर्वर पर मौजूद है. अब Host server उस जानकारी को वापस ISP server को देता है और ISP server उसे browser को भेज देता है. जिसके बाद result आपकी screen में display हो जाता है.

इंटरनेट के फायदे और नुकसान

School और college में अक्सर internet के Advantage और Disadvantage पर निबंध या lecture देने को जरूर बोला जाता है. अगर आपके साथ भी यह समस्या है, तो हमने internet से होने वाले फायदे व नुकसान को नीचे सरल भाषा मे बताया है.

इंटरनेट के फायदे क्या है?

● इंटरनेट जानकारी का भंडार है, यहां से हम किसी भी तरह की information और knowledge प्राप्त कर सकते है.

● इंटरनेट के माध्यम से दुनिया के बीच एक connectivity आयी है. आज हम किसी से भी इंटरनेट पर communicate कर सकते है. Social media पर अपनी photos व thoughts को share कर सकते है.

● स्थान की location पता करने में भी Internet हमारी मदद करता है. GPS technology की मदद से आप किसी भी जगह तक पहुँचने का map निकाल सकते है.

● अब आपको पैसों का transaction करने के लिए bank जाने की कोई जरूरत नही. आप internet के माध्यम से अपना balance check, money transaction आसानी से कर सकते है. इसके साथ ही आप online bill payment, ticket booking और online shopping घर बैठे सिर्फ कुछ मिनटों में कर सकते है.

● online business के क्षेत्र में भी इंटरनेट का बहुत बड़ा फायदा है. अगर आप अपने किसी product की online sell करना चाहते है, तो एक website के माध्यम से आप लोगों तक उस product को पहुंचा सकते है. आज दुनिया भर में कई online services मौजूद है, जो तरह – तरह की सुविधाएं लोगो तक पहुँचा रही है.

● मनोरंजन को हम कैसे भूल सकते है. Internet का उपयोग करके आप video, music, online game इत्यादि का मजा ले सकते है. इंटरनेट पर entertainment की कोई कमी नही है.

इंटरनेट के नुकसान क्या है?

● इंटरनेट के अधिक इस्तेमाल से ज्यादातर युवा कई चीजो के addiction लग चुकी है. बच्चे कई – कई घंटे online games व video देखने मे समय बर्बाद कर देते है. आज इंटरनेट addiction, time waste और distraction का कारण बन रहा है.

● इसका एक नुकसान धोखाधड़ी भी है. आज internet पर कई लोगो के साथ froud होता है. Identity theft, hacking जैसी समस्या आम है.

● स्वास्थ की दृष्टि से भी यह खतरनाक होता जा रहा है. Phone screen पर ज्यादा समय बिताने से हमारी health पर इसका गहरा असर होता है. मोटापा, अस्वस्थ जीवनशैली इसके खास लक्षण है.

● हम इसका इस्तेमाल जानकारी खोजने से ज्यादा बेकार की चीजो को देखने मे करते है. व्यर्थ चीजो को देखने व पढ़ने से हमारा patience व focus प्रभावित होता है.

दोस्तो हर चीज के advantage और disadvantage होते है, परन्तु यह पूरी तरह से आप पर निर्भर करता है, कि आप इसका कैसे इस्तेमाल करते है. Internet को हमारे फायदे के लिए ही बनाया गया है, पर कई लोग इसका गलत उपयोग करते है. जो उनका ही नुकसान करता है.

Conclusion

तो उम्मीद है, इस पोस्ट Internet क्या है और कैसे चलता है? को पढ़ने के बाद आपको सारे सवालों के जवाब मिल गए होंगे. अगर technology आपका पसंदीदा विषय है, तो आपको इस लेख से काफी कुछ सीखने को मिला होगा. दोस्तों आपकी इस लेख के सम्बंध में कोई राय या सवाल हो, तो कृपया उसे नीचे comment में जरूर बताये. आपका suggestion हमारे लिये सबसे महत्वपूर्ण होता है. इससे हमें पता चलता है, कि क्या हमारे द्वारा दी गयी जानकरी लोगो के समझ मे आ रही है. क्या वो ज्यादा technical तो नही है? जिसके बाद हम इसमे सुधार करने की कोशिश करते है. अंत मे अगर जानकारी आपको ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे facebook, twitter, instagram पर अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे. धन्यवाद

10 COMMENTS

  1. आपने बढ़िया तरीके से समझाया है आपके इस ब्लॉग वेबसाइट पर जानकारियों का भंडार है में हर दिन आपके ब्लॉग पर विजिट करता हूं मुझे आपकी ब्लॉग पोस्ट काफी पसंद आती है.

  2. Thank You! For sharing such a great article, It’s been a amazing article.It’s provide lot’s of information, I really enjoyed to read this,i hope, i will get these kinds of information on a regular basis from your side.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here