Linux Operating System क्या है और इसकी विशेषताएं

इस पोस्ट में हम बहुत ही विश्वसनीय और सुरक्षित सिस्टम Linux के बारे में आपको जानकारी देंगे। पोस्ट के अंत तक आप समझ जायेंगे Linux Operating System क्या है, इसकी विशेषताएं और इसका उपयोग क्यों करना चाहिए?

Linux Operating System Kya Hai

आइये इसे समझने के लिये सबसे पहले जानते है, Operating System (OS) क्या होता है? क्या आपको पता है कि आपके computer में सबसे महत्वपूर्ण software कौनसा है? नहीं पता, कोई बात नहीं। उसका नाम operating system है।

एक phone हो या computer सभी कार्य करने के लिये इस पर निर्भर होते है। कहने का अर्थ है अगर आपकी डिवाइस में OS नही है तो आपके लिये उसे चलाना आसान नही होगा।

यह हमारे और (user) और computer के बीच एक interface है, जिसका उपयोग करके हम computer पर काम कर सकते है।

न सिर्फ यह एक platform प्रदान करता है जिसके ऊपर अन्य application program को run किया जाता है, बल्कि यह CPU, memory और storage जैसे system hardware को भी manage करता है।

इसके कुछ उदाहरणों में Windows, Android, iOS, Linux, इत्यादि शामिल है। हालांकि आप अन्य के नाम से ज्यादा परिचित होंगे परन्तु Linux से शायद नही। इस पोस्ट में हम जानेंगे Linux क्या है और यह अन्य operating system से कैसे अलग है?

Jump to:
लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है
लिनक्स की शुरुवात कब हुई
लिनक्स के कंपोनेंट्स क्या होते है
लिनक्स की विशेषताएं
लिनक्स का उपयोग कहाँ होता है

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है (Linux Operating System in Hindi)

सबसे पहले हम जानेंगे कि Linux होता क्या हैं? दोस्तो Windows, macOS और iOS की तरह Linux भी एक operating system (OS) है।

operating system एक कम्प्यूटर यूजर और कम्प्यूटर हार्डवेयर के बीच एक interface होता है। जिससे user computer के साथ आसानी से interact कर सकता है।

OS, software का एक संग्रह है जो computer hardware resources को manage करता है और कंप्यूटर प्रोग्राम के लिए सामान्य सेवायें प्रदान करता है। OS के बिना software कोई भी कार्य नही कर सकता है।

Linux सबसे लोकप्रिय और multi-user operating system है जो आपके डेस्कटॉप या लैपटॉप से जुड़े सभी hardware resources को manage करता है. यह Unix operating system का एक बहुत ही मशहूर version है।

यह एक free तथा open source software है जिसका मतलब है की एक डेवलपर इंटरनेट पर मुफ्त में Linux code को अपने अनुसार modify कर commercial तथा personal उपयोग में ले सकता है।

Linux operating system को वास्तविक रूप से personal computer के लिए बनाया गया था। लेकिन आज इसे अन्य इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे mobile, smart TV, gaming console यहा तक की वाहनों के OS के रूप में भी उपयोग किया जाता है।

यह Unix की तरह ही मिलता जुलता है और इसका इस्तेमाल server तथा computer system device में सबसे अधिक होता है।

सम्बंधित पोस्ट –
Compiler क्या होता है
Interpreter (इंटरप्रेटर) क्या है
Assembler किसे कहते है
SQL क्या है और इसका उपयोग

कैसे हुयी Linux की शुरुवात

Linux को Linus Torvalds ने 1991 में विकसित किया और इसे AT&T Laboratories द्वारा general public license (GPL) के तहत जारी किया गया। जब Linus फिनलैंड स्थित University of Helsinki के छात्र थे तब वह Unix Operating System का एक version Minix उपयोग कर रहे थे।

जब Linus और कुछ users ने यह पाया कि Minix में कुछ बदलाव करने पर यह और भी बेहतर तरीके से काम कर सकता है। उन्होंने इसके निर्माता Andrew Tanenbaum को Minix में modification और सुधार करने की मांग की पर Andrew ने इसका विरोध किया और कहा की यह बदलाव आवश्यक नही है।

यही वो समय था जब Linus ने अपना operating system बनाने का फैसला किया जो यूजर के सुझाव को ध्यान में रख के किया गया। Linus चूँकि C programming language के छात्र थे तो उन्होंने उसी में code लिखना शुरू किया।

Linux OS का code लगभग 95% ‘C’ में लिखा गया और बाकी की coding assembly और अन्य languages में लिखी गयी। coding तैयार करने के बाद Linus ने उसका का नाम अपने नाम के पहले 4 alphabet और Unix के last alphabet X को जोड़कर Linux रख दिया।

Linux को Unix के अनुकूल design किया गया था इसलिए इसकी functionality Unix से मिलती जुलती है। दोनों ही कई माइनो में समान है लेकिन Unix free नही है जब कि Linux बिल्कुल free में उपलब्ध है।

इसके अलावा Linux computers के लिए बहुत ही भरोसेमन्द operating system है क्योंकि यह अच्छे security features प्रदान करता है. जो user की फ़ाइल और डेटा को encrypted form में रखता है।

Linux के Components क्या होते है

अगर बात की जाए Linux operating system के components की तो वे निम्नलिखत हैं:

  • Hardware
  • Kernel
  • Shell
  • System Utility

Hardware: सबसे पहला component है Hardware जिसमे peripheral device जैसे कि Ram, Hard Disc और CPU मिलकर Linux के लिए hardware layer का निर्माण करते है।

Kernel: यह Linux का मुख्य भाग होता है और यह इस operating system की प्रमुख गतिविधियों के लिए ज़िम्मेदार होता है। यह internal hardware के साथ सीधा interact होता है। यह सिस्टम या प्रोग्राम में hardware की lower level details को छुपाने की सेवाएं प्रदान करता है।

Shell: यह user और kernel के बीच एक interface है। यह user से kernel के कार्य की complexity को छुपाता है। साथ ही यह यूजर के commands को स्वीकार करता है और उस पर action भी लेता है।

System Utility: यह user को operating system के समान ही functions का उपयोग करने के लिए सेवाएं प्रदान करता है। व्यक्तिगत और विशेष कार्य का उपयोग system utility के ज़रिए ही किया जा सकता है।

Linux Operating System की विशेषताएं

Linux operating system अन्य OS से काफी बेहतर है और इसके बहुत सारे features भी है। लेकिन हम यहां पर कुछ खास विशेषताओं के बारे में ही बताएंगे जिन के बारे में आप सभी को जानना चाहिए।

1. Linux एक open source operating system हैं और यह इंटरनेट पर इस्तेमाल करने के लिए बिल्कुल मुफ्त में उपलब्ध है। जिसे कोई भी user या developer अपने हिसाब से उसमे बदलाव कर सकता है।

2. Portability इसकी मुख्य विशेषताओं में से एक है। जिसने Linux को इसके user के बीच इतना लोकप्रिय बना दिया हैं। लेकिन इसका मतलब ये नही की यह सिस्टम फ़ाइल के आकार में छोटा है और इसे pen drive, CD और memory card पर ले जाया जा सकता है।

पर ऐसा बिल्कुल नही है इसके बजाए portability का मतलब है कि Linux OS और इसके application एक ही तरह से विभिन्न प्रकार के हार्डवेयर पर काम कर सकते है।

Linux kernel और application program बहुत कम से कम हार्डवेयर configuration पर भी अपनी स्थापना का समर्थन करते है। जिससे आप अपने पुराने computers में भी जान डाल सकते है।

3. Linux एक multi user और multi programming operating system है। जिस में एक साथ एक से ज़्यादा users computer के हार्डवेयर को access कर सकते है और इस्तेमाल कर सकते है।

4. Linux में multi tasking का feature भी उपलब्ध होता है। जिससे की एक user एक ही समय मे एक से ज़्यादा program, task या software को रन कर सकता है।

5. Security किसी भी OS का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा होता है। उन संघटन या यूजर के लिए जो अपने open कार्य के लिए सिस्टम का उपयोग कर रहे है। यह यूजर के डेटा और सिस्टम को unauthorized access से बचाने के लिए कई security concepts प्रदान करता है।

यह पुरी तरह से संकटमुफ्त operating system है और इसमें virus या malware जैसे कोई भी समस्याए मौजूद नही होती।

लिनक्स का उपयोग कहाँ होता है

दुनिया भर में हज़ारों कंपनिया Linux operating system का उपयोग इसकी affordability और low cost license के कारण कर रहे है।

Google, Amazon और Facebook जैसी कंपनियां अपने server की सुरक्षा के लिए इसका उपयोग करती है क्योंकि यह विष्वसनीय और स्थिर OS है।

इसका उपयोग केवल personal computers और laptops में ही नही बल्की छोटे gadgets जैसे PDA, mobile phone, smart watch, digital storage device और cameras, आदि में भी किया जाता है।

संक्षेप में – Conclusion

उम्मीद है, इस लेख को पढ़ने के बाद आपको जानकारी हो गयी होगी कि लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है? (Linux Operating System in Hindi), इसकी विशेषताएं, और इसका उपयोग क्यों करें?

यदि पोस्ट से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपिया कमेंट में हमें जरूर बताये। अंत में पोस्ट ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे Social Media पर Share जरूर करे, ताकि आपके माध्यम से अन्य लोगों तक यह जानकारी पहुंच पाए।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here