नेटवर्क के प्रकार – Types of Network in Hindi

पोस्ट में आप नेटवर्क के प्रकार (Types of Network in Hindi) क्या है? इस बारे में जानेगें। एक Network दो या दो से अधिक कंप्यूटर सिस्टम को आपस मे जोड़कर बनाया जाता है। दूसरी परिस्थिति में नेटवर्क, कई इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों जैसे – कंप्यूटर, सर्वर, मेनफ्रेम, नेटवर्क डिवाइस और अन्य पेरिफेरल उपकरणों का समूह भी हो सकता है।

Types of Network in Hindi

इस Network की मदद से हम इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के बीच इन्फॉर्मेशन का आदान-प्रदान कर सकते है। आमतौर पर नेटवर्क में मौजूद कंप्यूटर व दूसरे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के बीच कनेक्शन स्थापित करने के लिए केबल, टेलीफोन लाइनों, रेडियो तरंगो और सेटेलाइट का उपयोग किया जाता है।

यदि आप “Computer Network” के बारे में पढ़ रहे है, तो शायद आप LAN और WAN के बारे में कुछ जानते हो। आगे पोस्ट में हम विभिन्न प्रकार के Networks के बारे में विस्तार से बताएंगे जिसके बाद नेटवर्क कितने प्रकार के होते है और उनके उपयोग क्या है? इसकी पूरी जानकारी आपको हो जाएगी।

नेटवर्क के विभिन्न प्रकार – Types of Network in Hindi

Computer Network विभिन्न प्रकार के होते है। सामान्यतः नेटवर्क के आकार और उपयोग करने के उद्देश्य के आधार पर नेटवर्क के निम्नलिखित प्रकार होते है:

  1. PAN (Personal Area Network)
  2. LAN (Local Area Network)
  3. WLAN (Wireless Local Area Network)
  4. MAN (Metropolitan Area Network)
  5. WAN (Wide Area Network)

1) Personal Area Network अथवा PAN

पर्सनल एरिया नेटवर्क अथवा PAN वो नेटवर्क है, जो एक व्यक्ति (Individual) के व्यक्तिगत उपयोग के लिये स्थापित किया गया होता है। आमतौर पर इस Network में एक या उससे अधिक कंप्यूटर, फोन, टैबलेट, प्रिंटर, वीडियो गेम कंसोल और दूसरे पर्सनल इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस शामिल होते है।

personal area network diagram

उदाहरण के लिए – आप अपने मोबाइल फोन को दूसरे डिवाइस से कनेक्ट करके आपस में फोटो, ऑडियो, वीडियो और कई दूसरी फाइल इत्यादि ट्रांसफर करते है, तो उसे Personal Area Network कहा जायेगा। अपनी डिवाइस के बिच इस प्रकार के कनेक्शन को आप USB cable की मदद से या फिर Wireless तकनीक जैसे Bluetooth के माध्यम से स्थापित कर सकते है।

तो PAN कम दूरी लगभग 10 मीटर की सीमा के भीतर Interconnected, पर्सनल इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों का एक नेटवर्क है। हालांकि, अगर कई यूजर एक ही घर मे अपने उपकरणों को जोड़ते है, तो Home Area Network (HAN) अधिक लोकप्रिय है, PAN की तुलना में।

सम्बंधित पोस्टनेटवर्क प्रोटोकॉल क्या होते है

2) Local Area Network अथवा LAN

स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क अथवा LAN किसी सीमित क्षेत्र (limited area) में इंटरकनेक्टेड कम्प्यूटरों का एक समूह है। उदाहरण के लिये एक ऑफिस, घर, स्कूल, यूनिवर्सिटी और कार्यालय भवन में मौजूद कम्प्यूटरों के बीच फाइलों के आदान-प्रदान के लिये LAN को स्थापित किया जाता है।

local area network diagram

इस टाइप के Network में कम्प्यूटरों और अन्य पेरीफेरल डिवाइस जैसे कि प्रिंटर को आपस मे कनेक्ट करने के लिए आमतौर पर Wired connections (Ethernet) का इस्तेमाल होता है। LAN के माध्यम से आपस मे कनेक्टेड डिवाइस, Network से जुड़ी दूसरी डिवाइस से डेटा एक्सेस करने में सक्षम होती है।

इसके अलावा उपयोगकर्ता उस नेटवर्क का उपयोग एक-दूसरे से सवांद करने तथा ईमेल भेजने के लिए भी कर सकते है। Local Area Network के बनने के लिये जिन कॉम्पोनेन्ट की आवश्यकता होती है उसमे:

  • Workstation (Computers)
  • File Servers
  • Routers
  • Hub
  • Switches
  • Network Interfacing Unit (NIU) और
  • Communication Channels/LAN Cables शामिल है।

उदाहरण :-

Home Network – अपने घर मे मौजूद कंप्यूटरों, मोबाइल फोन और प्रिंटर को एक-दूसरे से कनेक्ट करने के लिये आप LAN का उपयोग कर सकते है। इसे स्थापित करने के कई उद्देश्य हो सकते जैसे घर के सभी उपकरणों के फाइल व फोल्डर तक पहुंच, किसी भी डिवाइस का उपयोग करके एक ही प्रिंटर से प्रिंट निकाल सकते है, घर के सभी इलेक्ट्रॉनिक उपकरण को Internet से जोड़ सकते है।

Office Network – कार्यालय में मौजूद एक कर्मचारी बाकी कर्मचारियों के साथ फाइलें और कंप्यूटर संसाधनों को शेयर पाए इसके लिये जरूरी है कि कार्यालय में मौजूद सभी कंप्यूटर एक नेटवर्क से कनेक्ट हो।

Offline Network – एक परमाणु ऊर्जा स्टेशन में उसके उपकरणों व प्रक्रियाओं को मॉनिटर और कंट्रोल करने के लिये LAN का उपयोग होता है।

लाभ :-

  • LAN को स्थापित (set-up) और संचालित (operate) करना बहुत आसान और सस्ता है।
  • इससे जुड़े कंप्यूटर एक-दूसरे के संसाधनों (resources) को आपस मे शेयर कर सकते है।
  • LAN से जुड़े कम्प्यूटरों के बीच डेटा बहुत तेज स्पीड से ट्रांसफर होता है, डेटा ट्रांसफर स्पीड 1Gbps तक आसानी से पहुंच सकती है।
  • सभी कंप्यूटरों के डेटा को Network के भीतर एक सर्वर पर स्टोर किया जा सकता है। जिसके बाद उस डेटा को कोई भी कंप्यूटर आसानी से एक्सेस कर सकता है।
  • स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क को अधिक सुरक्षित (secure) माना जाता है। क्योंकि LAN एक Local Network है, जो सिर्फ एक ऑफिस या स्कूल तक सीमित होता है।

3) Wireless Local Area Network अथवा WLAN

यह LAN के समान ही एक स्थानिय क्षेत्र का Network है, परन्तु WLAN में इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के बीच कनेक्शन स्थापित करने के लिये Wireless technology जैसे कि WiFi और Bluetooth का उपयोग किया जाता है। क्योंकि इसमें कंप्यूटरों को इंटरकनेक्ट करने के लिये किसी भी केबल की जरुरत नही इसीलिए ये ऑफिस और छोटी संस्थाओं में अधिक लोकप्रिय है।

सम्बंधित पोस्टइंटरनेट और इंट्रानेट में अंतर को समझे

4) Metropolitan Area Network अथवा MAN

Metropolitan Area Network एक पूरे भौगोलिक क्षेत्र (Geographic area) सामान्यतः 50kms के दायरे में मौजूद इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को आपस मे कनेक्ट करता है। MAN में कई क्षेत्रीय नेटवर्क (LANs) आपस मे इंटरकनेक्ट होते है। MANs के माध्यम से अक्सर पूरे एक शहर या बड़े विश्वविद्यालय के कंप्यूटरों को आपस मे कनेक्ट करके उनके बीच संचार कराया जाता है।

metropolitan area network diagram

MANs क्षेत्रीय संसाधनों को सांझा करने के लिये एक High-Speed Network के रूप में कार्य करते है। इस प्रकार के Network को आमतौर पर किसी एक संगठन द्वारा मैनेज नही किया जाता है। बल्कि गवर्मेन्ट या बड़ी कॉर्पोरेशन MAN को मैनेज करते है। विभिन्न LANs को एक MAN में जोड़ने के लिये स्थानीय टेलीफोन एक्सचेंज को इस्तेमाल में लिया जाता है।

इसके अलावा MAN से जुड़े कम्प्यूटरों के बीच डेटा ट्रांसफर करने के लिये switches और routers को भी उपयोग में लिया जाता है। Metropolitan Area Network की डेटा ट्रांसफर स्पीड लगभग 1000 Mbps होती है।

लाभ :-

  • MAN को स्थापित करने के लिये WAN की तुलना में कम संसाधनों की आवश्यकता होती है। जिससे इसे सेट-अप करने में लगने वाली लागत (cost) कम होती है।
  • MAN में सारे डेटा का केंद्रीयकृत तरीके से प्रबंधन (centralized management) किया जाता है। जिसके कारण Network पर डेटा को एक्सेस या शेयर करना बेहद आसान होता है।
  • यदि आपको लोकल ईमेल भेजने है, तो ऐसा आप MAN के माध्यम मुफ्त में और तेजी से कर सकते है।
  • डेटा को MAN में एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक फ़ास्ट ट्रांसफर किया जा सकता है।
  • उपयोगकर्ता अपने इंटरनेट कनेक्शन को MAN से कनेक्टेड दूसरे उपयोगकर्ता को शेयर कर सकते है।

सम्बंधित पोस्टसोशल नेटवर्किंग किसे कहते है

5) Wide Area Network अथवा WAN

जैसे नाम से ही मालूम होता है कि Wide Area Network एक ऐसा नेटवर्क है, जो सिर्फ किसी एक भौगोलिक क्षेत्र या देश तक सीमित नही है बल्कि ये पूरी दुनिया को कवर कर सकता है। इसका सबसे अच्छा उदाहरण Internet है। कई LANs, WANs और दूसरे छोटे Networks आपस मे इंटरकनेक्ट होकर WAN बनाते है।

wide area network diagram

विश्वभर के इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को आपस मे जोड़ने के लिये WAN में विभिन्न तरह के कम्युनिकेशन चैनल जैसे कि टेलीफोन लाइन, फाइबर ऑप्टिक केबल और सेटेलाइट को इस्तेमाल में लिया जाता है। Wide Area Networks को समान्यतः सेवा प्रदाताओं (service providers) द्वारा स्थापित किया जाता है।

उदाहरण :-

Internet – दुनिया का सबसे बड़ा नेटवर्क जिसका उपयोग करके आप दुनिया के किसी भी स्थान में बैठकर इस WAN Network से जुड़े दूसरे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के साथ संवाद (communicate) कर सकते है।

Mobile Broadband – एक 2G, 3G या 4G Network जो किसी अधिक जनसंख्या वाले क्षेत्र या देश मे मौजूद इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को एक-दूसरे से जोड़ता है।

Private Network – एक कंपनी देश भर मौजूद अपनी विभीन्न शाखाओं को उसके डेटा सेंटर से कनेक्ट करने के लिये प्राइवेट नेटवर्क का उपयोग करती है। सामान्यतः ऐसी परिस्थिति में WAN को ही स्थापित किया जाता है।

लाभ :-

  • चूंकि WAN दुनिया के बहुत बड़े हिस्से को कवर कर सकता है, इसलिये उपयोगकर्ता एक स्थान में बैठकर दुनिया के दूसरे हिस्से में मौजूद व्यक्ति से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के माध्यम से सवांद कर सकते है।
  • एक कंपनी को दुनियाभर में फैली अपनी प्रत्येक ब्रांच के लिए ईमेल अथवा फ़ाइल सर्वर को खरीदने की जरूरत नही होती है। उन्हें बस WAN के माध्यम से सभी कार्यालयों को मुख्य ब्रांच के डेटा सेंटर से कनेक्ट करने की आवश्यकता है।
  • WAN स्थापित करने से आप कंपनी के संवेदनशील डेटा को सुरक्षित तरीके से कंपनी की दूसरी शाखाओं के साथ शेयर कर सकते है।
  • यदि कंपनी उसके मुख्य डेटा सेंटर में फाइलों को अपडेट करती है, तो सभी कनेक्टेड डिवाइस कुछ की पल में उस अपडेट किये गए डेटा को प्राप्त कर सकते है।
  • WAN से जुड़ी हूई सभी डिवाइस सॉफ्टवेयर एप्लिकेशन और दूसरे संसाधनों को आपस मे सांझा कर सकते है।
  • कई ऐसे वेब एप्लीकेशन उपलब्ध है जैसे कि मैसेंजर, व्हाट्सएप्प, फेसबुक और स्काइप इत्यादि जिनकी मदद से आप टेक्स्ट, वॉयस, और वीडियो चैट के माध्यम से दोस्तों से संवाद कर सकते है।

सम्बंधित पोस्टइंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर किसे कहते है

संक्षेप में

Network एक तरह का माध्यम है, जो कई सारे कंप्यूटर सिस्टम और दूसरे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को आपस मे इंटरकनेक्ट करके उनके बीच एक कम्युनिकेशन लिंक स्थापित करता है। जिसके बाद वे आपस मे इन्फॉर्मेशन का आदान-प्रदान कर पाते है। पोस्ट में हमने आपको कुल पांच प्रकार के नेटवर्क के बारे में बताया।

जिसमे PAN, LAN, WLAN, MAN और WAN शामिल है। जिनका उपयोग अलग-अलग उदेश्यों के लिए जाता है। ये सभी एक प्रकार के दूरसंचार नेटवर्क (Telecommunication Network) है।

तो उम्मीद है, इस पोस्ट नेटवर्क के प्रकार – Types of Network in Hindi? को पढ़कर आपको नेटवर्क के विभिन्न प्रकार व उनके उपयोग के बारे में जानकारी हो गयी होगी। अंत मे यदि पोस्ट से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव है, तो कृपया नीचे कमेंट में जरूर बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here