Server क्या है और यह कैसे काम करता है

आज के इस महत्वपूर्ण लेख में आप जानेंगे Server क्या है और यह कैसे काम करता है? Computer technology में सर्वर शब्द की शुरुवात आज से कई सालों पहले की गई थी. Internet पर सर्वर की भूमिका क्या है और आपको इसके बारे में क्यों जानना चाहिए यह एक बुनियादी सवाल है. कई बार आपने देखा होगा जब हम bank में किसी काम से जाते है, तो वह हमें बोलते है, कि server down है या server error आ रहा है. तो इसका सीधा मतलब है कि यह एक ऐसा विषय है जो महत्वपूर्ण हो सकता है. खासकर तब जब आप computer science या technology जैसे क्षेत्रों से जुड़े हुवे हो.

दूसरा अगर आप खुद की Website host करना चाहते है, तो भी आपको server के बारे में जानकारी लेनी चाहिए. वैसे यह नाम काफी technical word लगता है, परन्तु इसे समझना काफी आसान है. इस पोस्ट में आपको सर्वर के बारे में पूरी जानकारी दी गयी है, जिसे पढ़कर आप सर्वर क्या है अच्छी तरह से जान जाएंगे. तो चलिए जानते है Server क्या है और यह कितने प्रकार के होते है?

Server क्या है (What is server in hindi)

Server क्या है, एक सर्वर कोई Computer program या device है. जो अन्य कंप्यूटरों को data प्रदान करता है. यह system को स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (LAN) या internet पर विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क (WAN) पर data प्रदान कर सकता है. सर्वर को हम network पर computer का एक हिस्सा भी मान सकते है, जो network resources को manage करता है. एक Data server में server program चलाने वाले physical computer को भी सर्वर के रूप में ही जाना जाता है.

>Web Designing क्या है ? (What is web designing in hindi)

>कृत्रिम बुद्धिमत्ता क्या है?

अब चूंकि यह कई प्रकार के होते है, इसीलिये इनके कार्य भी अलग-अलग होते है. उदाहरण के लिए- File server – जिसे आप Storage device भी कह सकते है, यह files store करने के लिए समर्पित होता है. पूरे internet में जितना भी data उपलब्ध है फिर चाहे वह website data, youtube videos, photos, pdf कुछ भी हो यह सब file server में मौजूद रहता है. जब आप server कैसे काम करता है पढ़ेंगे तो आपको इसके बारे में समझ मे आएगा. कुछ और मुख्य सर्वर जिनमे Web server, Mail server, App server और Database server शामिल है. सर्वर कई और प्रकार के भी होते है, जिनके बारे में हम नीचे बात करेंगे.

Server पूरी तरह से dedicated होते है. इसका मतलब है, कि वे server task करने के अलावा कोई दूसरा काम नही करते है. हालांकि multiple operating system पर एक computer एक साथ several programs को execute कर सकता है. कहने का तात्पर्य है, कि कुछ machine एक dedicated server भी हो सकती है साथ ही उनका उपयोग अन्य कार्यो को करने में भी किया जा सकता है.

सर्वर की आवश्यकता क्यों है

सर्वर एक ऐसा शब्द है, जो computer क्षेत्र में हमेशा सुनाई देता है “Server” नाम को शब्द Serve से लिया गया है जिसका हिंदी अर्थ परोसनेवाला होता है. वास्तव में यह उपयोगकर्ता के अनुरोध पर उसके लिए web page को serve करता है. यह सवाल कि server की आवश्यकता क्यों है आपको सर्वर को समझने में काफी सहायता करेगा.

मान लीजिये आप कोई Online website बनाना चाहते है, तो आपको उसे store करने के लिए ऐसी जगह की आवश्यकता होगी जो internet network से जुड़ा हुवा हो. इसी जगह को नाम दिया गया है Server और सभी वेबसाइट किसी न किसी तरह के सर्वर का उपयोग करती है.

तो चलिए कुछ ऐसे बिंदुओं पर नजर डालते है जो server की आवश्यकता अथवा need को दर्शाते हैं.

1) एक Server हमे Network security प्रदान करता है. किसी वेबसाइट के उप्पर जब आप individual या group account बनाते है, तो आपका data उस वेबसाइट के file server में store हो जाता है. इन सर्वर को यह अधिकार होता है कि उस डाटा को किसी दूसरे उपयोगकर्ता की पहुँच से दूर रखा जाये.

2) सर्वर हमेशा 24×7 चालू रहते है. अगर hardware fail भी हो जाए उस स्थिति में भी यह server सेवाये देते है. अगर आप एक personal computer की बात करे तो बिजली चले जाने पर उसका सर्वर automatically shut down हो जाता है. जिससे आपका data खो सकता है, परन्तु server कई power supply से लैस होते है. इसी वजह से एक power supply बंद हो जाने पर इसका असर normal system operation को प्रभावित नही करता है.

3) सर्वर data lose या काम मे रुकावट को रोकने के लिए PC में इस्तेमाल होने वाली solitary hard disk के बजाए RAID Configuration में काम करने वाली कई hard drive का उपयोग करता है इसी कारण सर्वर में higher storage capacity होती है.

4) Server हमे network पर file store और कई computer तक पहुँच प्रदान करने की सुविधा देता है. सर्वर को नेटवर्क में उपयोग किया जाने वाला computer भी कहते है. Server में आमतौर पर client computer की तुलना में अधिक memory, storage और processing power होती है.

सर्वर के प्रकार (types of server)

सर्वर कई प्रकार अथवा types के होते है. विभिन्न server अलग – अलग काम करते है. website hosting से लेकर internet networks की सुरक्षा और email, video की सेवा तक सभी काम एक सर्वर द्वारा ही किये जाते है. तो चलिए आज इस्तेमाल होने कई प्रकार के सर्वरो के बारे में जानते है.

Web Server: वेब सर्वर क्या है, यह एक server software या hardware है जो वेबसाइटों को चलाता है. इसे computer program भी कहा जाता है इसका मुख्य कार्य उपयोगकर्ता के लिए web page store, process और deliver करना होता है. इसमे inner communication करने के लिए hypertext transfer protocol (HTTP) का उपयोग होता है.

Application Server: एप्लिकेशन सर्वर क्या है, यह एक ऐसा program है जो उपयोगकर्ता और संगठन के Backend business application या database के सभी application संचालन को संभालता है. यह एक ऐसा framework है, जहाँ सभी एप्लिकेशन को विकसित करने और चलाने के लिए एक application server का उपयोग किया जाता है. यह कई प्रकार के होते है जैसे- PHP, Java और .NET framework.

>PHP क्या है इसका क्या उपयोग है?

>JavaScript क्या है और यह क्या कर सकता है?

>एप कैसे बनाये? एंड्राइड एप बनाने का तरीका.

Proxy Server: जिसे आमतौर पर “proxy” भी कहा जाता है. यह user और internet के बीच gateway के रूप में कार्य करता है. जब एक client, proxy server से जुड़ता है और किसी सेवा के लिए अनुरोध करता है. जैसे किसी webpage के लिए तो यह उस अनुरोध को सरल बनाने और उसकी जटिलता को नियंत्रित करने के तरीके का मूल्यांकन करता है. यह network connection sharing, network data filtering और data caching करने के लिए client program और external server के बीच mediator की तरह कार्य करता है.

File Server: मुख्य रूप से किसी network के भीतर file store करने के लिए जगह प्रदान करता है. ये files कुछ भी हो सकती है. text document से लेकर multimedia, photos तक server model में एक file server को computer ही कहा जाता है. क्योंकि यह data files को store और manage करने के लिए जिम्मेदार होता है. इसकी एक ही network के अन्य कंप्यूटरों की फाइलों तक पहुंच होती है.

Database Server: एक computer system है जिसका कार्य database से data को access करने और पुनः प्राप्त करने से सम्बंधित सेवाएं प्रदान करना होता है. यह warehouse के समान है, जहां website का data और information को store और maintain करके रखा जाता है.

Mail Server: जैसा नाम से ही पता चलता है यह ऐसा server है, जो internet में एक network पर email को संभालता है और deliver करता है. Mail server को mail server transfer agent (MTA) या internet mailer भी कहा जाता है. हर email जो हमारे द्वारा भेजा जाता है वह मेल सर्वर की एक श्रंखला से होकर गुजरता है. जब आप कोई email send करते है, तो यह तुरंत दूसरे तक पहुंच जाता है. परन्तु वास्तविकता यह है कि mail transfer की एक जटिल परिक्रिया होती है.

FTP Server: इसका पूरा नाम File transfer protocol है, जिसका कार्य online file transfer करना होता है. जब आप web browser पर किसी webpage का अनुरोध करते है, तो ब्राउज़र इसी protocol का इस्तेमाल करता है आपके समक्ष उस फाइल को लाने में. FTP दुनिया के किसी भी computer में files transfer करने का एक तरीका है, जो इंटरनेट से जुड़ा हुवा है.

सर्वर कैसे काम करता है

उम्मीद है, अब तक आप Server क्या है और इसके बारे में काफी हद तक जान चुके होंगे. जब भी कभी computer technology की बात आती है. तो इसकी कई अवधारणाएं है जिन्हें समझना काफी मुश्किल है. परन्तु इसके विपरीत एक server कैसे काम करता है “how server work” यह जानना काफी आसान है. तो चलिए इसके कार्य करने के तरीके पर नजर डालते है.

Server कैसे काम करते है, इसके कार्य करने के लिए कुछ चरण होते है, जिनके बारे में अब हम जानेंगे.

  • Communicate to server – अगर सबसे निचले स्तर से बात करे जब आप अपने browser में किसी वेबसाइट का URL type करते है. जैसे- https://nayaseekhon.com तो आपका ब्राउज़र उस वेबसाइट को host करने वाले server के साथ communicate करता है. ताकि आपके ब्राउज़र पर उस वेबसाइट को दिखाने के लिए data मिल सके.
  • Breaking the URL – उसके बाद browser आपके द्वारा डाले गये URL को तीन हिस्सो में break करता है. पहला Protocol (http) दूसरा Servername (www.nayaseekhon.com) तीसरा File name (server-kya-hai)
  • Converting Servername to IP Address – अब ब्राउज़र उस वेबसाइट के server name को IP address में translate करता है. हर website का एक unique IP Address  होता है, जिसके कारण ही ब्राउज़र किसी server से जुड़ पाता है.
  • Send and Receive requests – एक बार जब browser और server आपस मे connect हो जाते है, तो ब्राउज़र आपकी request को server तक भेजता है और इस webpage की मांग करता है. सर्वर में सभी फाइलें HTML document के रूप में उपस्थित होती है. वहां से आपका ब्राउज़र data को वेब पेज में परिवर्तित करता है और request receive करने के बाद आपकी screen पर दिखाता है.

तो उम्मीद करते है, आपको काफी हद तक समझ आ गया होगा कि एक server कैसे काम करता है. यह process काफी तेज होती है आपके URL enter करते ही आपके द्वारा request किया webpage आपके सामने होता है.

>वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) क्या है?

>Random access memory (RAM) क्या है ?

>कंप्यूटर में इंटरनेट कैसे चलाये ?

Server Down का मतलब क्या है

अगर आप किसी computer क्षेत्र में कार्य करते है, तो आपने server down या server failed शब्द कई बार सुना होगा. तो इसका मतलब क्या है और server down क्यों होता है आज हम इसी बारे में जानेंगे. Client server architecture में एक सर्वर की जिम्मेदारी हमेशा अपने client की सेवा करने की होती है. लेकिन जब कभी server यह करने असफल होता है तो हम इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करते है.

इसका यही अर्थ है कि जब हम server not found और server not responding जैसे संदेश प्राप्त करते है. तब उस सर्वर से जुड़े उयोगकर्ता को उस server तक पहुँच नही मिलती है. लेकिन कोई server down क्यों होता है, इसके कई कारण हो सकते है जिनमे कुछ मुख्य कारण Network problem, Application crash, operating system crashes, power failure, DOS attack है. इसके अलावा भी कई और कारण हो सकते है.

अपना खुद का server बनाना संभव है.

अगर आप हमसे पूछते है, कि क्या हम अपना खुद का सर्वर मतलब own server बना सकते है. तो जवाब है, हाँ आप एक पुराने computer का उपयोग करके Home server चला सकते है और इसे अपने internet service and provide से connect कर सकते है. लेकिन इसको बनाने के लिए आपके पास कोई वजह होनी चाहिए. तो चलिए जानते है कि home server क्या है और इसकी जरूरत क्यों होती है.

Home Server क्या है इसके Benefits

➡️ यह एक computer है जो home network में server की तरह कार्य करता है. यह वास्तविक computer system को दिया जाने वाला विशिष्ट नाम भी है. अब क्योंकि यह हमारे घर मे स्थित होता है इसीलिए यह home network या Internet के माध्यम से घर के अंदर या बाहर अन्य devices को सेवाएं प्रदान करता है.

➡️ घर मे server set करने के कई कारण है. इसमे से एक है कि आपको अपनी खुद की website host करने के लिए कोई web hosting नही खरीदनी पड़ेगी. इसे आप खुद के system में host कर पाएंगे. ऐसे ही कुछ और कारण है जिनके बारे में बात करते है.

➡️ खुद के सर्वर का पहला benefit यह कि आप अपनी movies, photos, songs को इसमे store और organize कर पाएंगे. कुल मिलाकर home server आपकी media files को रखने के लिए एक space provide करता है.

➡️ यह हमेशा 24×7 चालू या ON रहता है. सामान्य desktop या laptop की तुलना में यह immediate action के लिए तैयार रहता है.

➡️ इसमे आप अपने document और अन्य files का backup ले सकते है और उन्हें सुरक्षित रख सकते है.

➡️ Home server की मदद से आप automation device जैसे – lighting system, watering system, heating cooling इत्यादि को नियंत्रित कर सकते है.

➡️ एक desktop की तुलना में server में अधिक powerful processor होते है. वे कई processor, cores और threads का उपयोग करते है.

Conclusion

तो उम्मीद है, अब आपको समझ आ गया होगा कि Server क्या है (What is server) और यह कैसे काम करता है? अगर आप एक Computer science या IT क्षेत्र के student है, तो आपके लिए यह लेख काफी फायदेमंद हो सकता है. Technology में रूचि रखने वाले लोगो के लिए भी यह लेख बहुत ज्ञानवर्धक हो सकता है. यदि आप चाहते है, की हम ऐसी ही कुछ ज्ञानवर्धक विषयो पर लेख लिखे तो आप अपने विचार को नीचे comment बॉक्स में शेयर जरूर करे. आपको इस लेख में कोई त्रुटि या कमी लगे तो हमे suggestion जरूर दे. दोस्तो हमारा संकल्प हिंदी भाषा को सही पहचान दिलाना और आपको ज्ञानवर्धक विषयो पर जानकारी देते रहना है. अगर आप भी इस मुहिम में हमसे जुड़ना चाहते है, तो आप Instagram, FB, Twitter पर हमारे पेज Nayaseekhon को फॉलो कर सकते है.

अंत के आपसे एक विनम्र निवेदन है, अगर आपको यह जानकारी ज्ञानवर्धक लगी तो इसे अपने Facebook में Share करना बिल्कुल न भूले. धन्यवाद

“हिंदी भाषा को इंटरनेट में हमारे साथ आगे बढ़ाने के लिए आपका दिल से धन्यवाद व शुक्रिया”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *