Web Browser क्या होता है? इसके प्रकार व उदाहरण

क्या आप जानते है, वेब ब्राउजर किसे कहते है? नहीं जानते तो कोई बात नही इस पोस्ट में आप जानेंगे Web Browser क्या है, इसका क्या कार्य होता है? हालांकि यह कोई ऐसा शब्द नही है, जिसके बारे में आपने ना सुना हो। क्योंकि आजकल हर कोई Internet का इस्तेमाल जानकारी खोजने करने के लिए करता है। हो सकता है, आप इसे वेब ब्राउज़र के नाम से नही जानते हो बल्कि UC Browser, Chrome Browser, Opera Mini, Firefox, Internet Explorer, etc. नामों से जानते हो।

web browse kya hai (web browser in hindi)

परन्तु असल मे यह सब Web browser ही है। अब क्योंकि यह अलग-अलग सॉफ्टवेयर कंपनी द्वारा बनाये गए है, इसीलिए इनके नाम भी अलग है। इसमे जानने योग्य बात यह नही है, कि वेब ब्राउज़र क्या होता है? बल्कि कैसे काम करता है? और इसकी कार्यक्षमता क्या है? यह जानना काफी दिलचस्प है। हम में से बहुत लोग Browser इस्तेमाल तो करते है, लेकिन इसके कई ऐसे फीचर्स होते है, जिनके बारे में हमे कोई जानकारी नही होती है।

इस पोस्ट में आपको Web Browser के बारे में ऐसी बाते जानने को मिलेगी जिससे आपकी पकड़ Computer के क्षेत्र में और मजबूत हो जाएगी। तो चलिए सबसे पहले जानते है, Web browser क्या है और कौन कौन से ब्राउज़र सबसे बेहतरीन है? उसके बाद इसके बाकी पहलुवों पर बात करेंगे।

वेब ब्राउज़र क्या है – What is Web Browser in Hindi?

एक Web browser (or Internet Browser, Browser) एक एप्लीकेशन है। जिसका कार्य इंटरनेट का प्रयोग करके वेबसाइट को एक्सेस करना और उन्हें आपके कंप्यूटर या मोबाइल पर दिखाना है। इसे एक तरह का Program भी कहा जाता है। अगर इसकी तकनीकी परिभाषा को समझना हो तो, यह World Wide Web पर जानकारी खोजने वाला एक सॉफ्टवेयर है।

कई लोगों को Web Browser और Search Engine में समानता दिखती है, परन्तु यह दोनों बिल्कुल भिन्न है, और इनके कार्य भी अलग-अलग है। Search Engine सिर्फ एक Website है, जो अन्य कई वेबसाइटों का खोज योग्य डेटा स्टोर करता है। कुछ मुख्य सर्च इंजिन जैसे: Google, Bing, Yahoo, Yandex, etc. है। इसके विपरीत Server से जुड़ने और वेबसाइटों के पेजों को Computer में डिस्प्ले करने के लिए आपको एक Web Browser की आवश्कता होती है।

इनका पहला काम HTML को रेंडर करना होता है. HTML एक Markup Language है, जिसका प्रयोग वेबसाइटों के पेज को डिज़ाइन करने में किया जाता है। जब आपका ब्राउज़र किसी Web Page को रीड करता है, उस समय उस वेबपेज का सारा डेटा जैसे — Texts, Images और Links इत्यादि सभी एक HTML File के रूप में मौजूद होता है। ब्राउज़र इन सभी चीजो को प्रोसेस करता है, उसके बाद उन्हें आपको दिखाता है।

Web Browser के कार्य क्या होते है?

एक Web Browser का क्या कार्य होता है? यह जानना बहुत जरूरी है, क्योंकि ज्यादातर लोग इसके कार्यो के बारे में कुछ भी नही जानते है। अगर सरल भाषा मे जाने तो एक ब्राउज़र का कार्य उपयोगकर्ता के लिए किसी वेबसाइट को खोजना और खोलना होता है। यह Web में किसी वेबसाइट के कंटेंट और अन्य फाइलों का पता लगाता है, उन्हें प्राप्त करता है, और आपके लिए डिस्प्ले करता है। यह Computer पर चलने वाला वह क्लाइंट है, जो आपके अनुरोध पर सर्वर (एक कंप्यूटर प्रोग्राम या डिवाइस) से सम्पर्क करके वहां मौजूद जानकारी को आप तक लाता है।

उदाहरण के लिए जब आप अपने Browser में एक वेब पेज का URL जैसे: https://www.nayaseekhon.com डालते है, तो असल मे यह वेब पेज उस समय इंटरनेट पर किसी Server पर स्टोर रहता है, इसे आपके सामने परोसने का काम Web Browser करता है। देखने मे यह प्रोसेस काफी सरल मालूम पड़ती है, परन्तु इसके पीछे काफी जटिल प्रकिया होती है।

वेब ब्राउज़र के उदाहरण

Web Browser एक Computer का सबसे महत्वपूर्ण Software होता है। इसके बिना कोई भी ऑनलाइन सेवा नही ली जा सकती, फिर चाहे वह वीडियो देखना हो या किसी Website से जानकारी लेना, इसके इस्तेमाल के बगैर इंटरनेट का कोई अस्तित्व नही है। तो अब आप समझ चुके होंगे कि ब्राऊज़र क्या होते है।

नीचे कुछ लोकप्रिय Web Browsers के उदाहरण दिए गए है, यह सभी आज के समय सबसे ज्यादा इस्तेमाल होते है, और इनकी अपनी अलग-अलग विशेषताएं है।

1. Google Chrome

यह एक Google प्रोडक्ट है, जिसे 2008 में जारी किया गया था। Chrome Browser लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम: Android, iOS, Windows और Linux को सपोर्ट करता है। अगर आप एक वेबसाइट चलाते है, तो इसमे कई सारे एक्सटेंशन है, जिनका उपयोग आप अपने काम को सरल बनाने के लिए कर सकते है। Web Browser के रूप में यह बिल्कुल फ्री में उपलब्ध है।

इसके Incognito Window का इस्तेमाल करके आप प्राइवेट ब्राउज़िंग भी कर सकते है। यह एक क्रॉस-प्लेटफार्म वेब ब्राउज़र है। आज के समय सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाले Internet Browser में इसका नाम सबसे पहले आता है।

2. Mozilla Firefox

Firefox एक ऐसा Web Browser है, जो अपनी बेहतरीन परफॉरमेंस के लिए जाना जाता है। यह विंडोज और एंड्राइड डिवाइस दोनों के लिए उपलब्ध है। आज यह Google Chrome के बाद दूसरा सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। यह बिल्कुल फ्री और एक ओपन-सोर्स प्लेटफार्म है। Firefox को 2002 में Mozilla Foundation द्वारा जारी किया गया था। आपको इसमे बाकी Web Browsers के मुकाबले ज्यादा फीचर देखने को मिलते है।

3. JioPages

JioPages पहला भारतीय Web Browser है, जिसे उपयोगकर्ता को फ़ास्ट, सिक्योर और बेहतरीन ब्राउज़िंग अनुभव देने के लिए बनाया गया है। इसमें उपयोगकर्ता होम-स्क्रीन को अपने हिसाब से कस्टमाइज कर सकता है, वे वेबसाइट जो आपको उपयोगी लगती है, उन्हें आप अपनी होम-स्क्रीन में ही पिन कर सकते है। इस Browser में आपको Incognito Mode का विकल्प भी दिया जाता है, जिसकी मदद से आपकी ब्राउज़िंग सिक्योर रहती है।

4. Opera Mini Browser

Opera Mini से तो आप अच्छी तरफ वाकिफ होंगे ही क्योंकि एक समय ऐसा था, जब यह अपनी परफॉरमेंस के लिए जाना जाता था। आज भी कई लोग इसका इस्तेमाल करते है। यह भी सबसे पुराने Web Browsers की लिस्ट में आता है। यह विंडोज, लिनक्स और एंड्राइड व अन्य सभी महत्वपूर्ण ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता है। इसे Opera Software द्वारा 1995 में जारी किया गया था।

5. Microsoft Edge

Edge भी बेहतरीन Web Browsers में से एक है। Microsoft द्वारा बनाया यह ब्राउज़र लगभग सभी ऑपरेटिंग सिस्टम को सपोर्ट करता है। बेहतर ब्राउज़िंग अनुभव के साथ-साथ इसमें Tracking Prevention, AdBlock Plus और InPrivate Mode जैसे कई अन्य फीचर दिए गए है। चूँकि माइक्रोसॉफ्ट द्वारा विकसित किया गया है, इसलिए डेटा सुरक्षा के लिहाज से भी यह एक बेहतरीन Web Browser है।

वेब ब्राउज़र की खोज किसने की

Web Browser का एक पुराना इतिहास है। आज हम जिन ब्राउज़र का इस्तेमाल करते है, ये पुराने ब्राउज़र के नए वर्शन है, या इन्हे हाल फ़िलहाल में यूजर की मांग को देखते हुवे विकसित किया गया है। यह प्रक्रिया आगे भी चेलेगी समय के साथ आज के Internet Browser में बदलाव होंगे और उनमे नयापन लाने की कोशिश होगी। तो चलिए अब इसके इतिहास में थोड़ी नजर डालते है, और जानते है, Web Browser की खोज किसने की थी।

इसके इतिहास की शुरुवात होती है, जब वर्ल्ड-वाइड-वेब को Tim Berners-Lee ने 1989 में विकसित किया था। यही वो इंसान थे, जिन्होंने दुनिया का पहला वेब ब्राउज़र विकसित किया, जिसका नाम था — WorldWideWeb. हालाँकि बाद में इसका नाम बदलकर Nexus कर दिया गया। अगर इसके निर्माण की बात करे तो इसे 1991 के शुरुआती महीनों में जारी किया गया था।

इसके कुछ सालों बाद एक नया Web Browser जारी किया, जिसे आज हम Mosaic नाम से जानते है। यह उस समय का पहला Browser था, जो टेक्स्ट और इमेज को एक साथ डिस्प्ले कर सकता था। इसे National Center for Super Computing Application द्वारा विकसित किया गया था। इसके बाद समय के साथ-साथ कई दूसरे Internet Browser जैसे — Opera, Internet Explorer (IE) और Firefox आये।

Microsoft द्वारा बनाये गये Internet Explorer ने अपने नए वर्शन में कई सारे बदलाव किये। उस समय तक ब्राउज़र में मल्टीमीडिया एप्लीकेशन और इंटरनेट ईमेल जैसी सुविधाएं उपलब्ध नही थी। अब क्योंकि ऐसी सुविधाएं लाने वाला यह पहला Browser था, तो जल्द ही 1999 तक इंटरनेट इस्तेमाल करने वाले लगभग 60% यूजर इसका इस्तेमाल करने लगे। एक तरह से दुनिया के पहले Web Browser को इसने पूरी तरह से पीछे कर दिया था।

इसके बाद Robert Cailliau ने एप्पल के पहले Web Browser — MacWWW (or Samba) को डेवेलप किया, जिसे Macintosh Computers में उपयोग किया गया। Web Browsers की दौड़ में 2004 तक माइक्रोसॉफ्ट के Internet Explorar ने अपना दबदबा कायम रखा और इस दौड़ में Nexus पूरी तरह से पिछड़ गया। लेकिन जब Firefox को लांच किया गया तो IE को काफी हद तक एक अच्छा मुकाबला मिलने लगा। साल 2010 में जाकर यह आंकड़ा बिल्कुल बदल गया; अब लगभग 50% इंटरनेट यूजर को Firefox पसंद आने लगा था।

अब तक Google Chrome भी बाजार में आ चुका था, और लगभग 10% यूजर इसका इस्तेमाल करते थे। साल 2021 तक आते-आते यह आंकड़े बिल्कुल बदल चुके है, लगभग 77.03% इंटरनेट यूजर ब्राउज़िंग के लिए Chrome Browser को इस्तेमाल करते है। उसके बाद Safari, Firefox और Edge का नंबर में आता है। तो आपने देखा किस तरह से इस क्षेत्र में लगातार बदलाव होते है, अभी यह स्थिति आगे और बदलने वाली है। उम्मीद है, इसमे कुछ नए अविष्कार होंगे और हमे और बेहतर ब्राउज़िंग अनुभव मिलेगा।

Web Browser कैसे काम करता है

वेब एक क्लाइंट सर्वर मॉडल पर काम करता है। जब हम किसी Web Page को इंटरनेट पर खोजते है, तो Browser विभिन्न सर्वर से कांटेक्ट करके अनुरोधित फाइल को लाकर, उसकी फेचिंग करके, उयोगकर्ता के कंप्यूटर स्क्रीन पर डिस्प्ले कर देता है। यहां यूजर का कंप्यूटर एक क्लाइंट के रूप में कार्य करता है। अब यह पूरी प्रक्रिया आपको बहुत आसान लग रही होगी। क्योंकि जब भी आप किसी वेबसाइट को खोलते है, या किसी लिंक पर क्लिक करते है, तो वह आपके सामने पलक झपकते ही खुल जाता है।

लेकिन वास्तविकता यह है, कि इसके पीछे की प्रोसेस बहुत जटिल है। इस पूरी प्रक्रिया को समझने के लिए हमे इसके कुछ मुख्य चरणों को समझना होगा।

पहला चरण — जब हम Web Browser के Address Bar में कोई URL दर्ज करते है, तो यह सबसे पहले DNS Server से कांटेक्ट करता है। DNS Server में सभी Websites (Domain Name) के रिकार्ड्स मौजूद रहते है। जब यह एक दूसरे से जुड़ते है, तो ब्राउज़र उस वेबसाइट के यूआरएल को DNS Server को देता है, जिसके बाद वह अपने रिकार्ड्स को चेक करके Browser को उस Server का IP Address देता है, जहां वह वेबसाइट स्टोर है।

दूसरा चरण — अब Browser को जैसे ही IP Address प्राप्त होता है, तो वह उस Server को उसका अनुरोध भेजता है। उदाहरण के लिए हम इस वेबसाइट के URL: “https://www.nayaseekhon.com” को लेते है।

यह URL दो भागों में विभाजित है:

  • HTTP (Hypertext Transfer Protocol) — एक Protocol है, जो Browser और Server को साथ में संचार करने में मदद करता है।
  • www.nayaseekhon.com — इस वेबसाइट का Domain Name, हम इसे वेबसाइट का पता भी कह सकते है।

तीसरा चरण — अब चूँकि कोई भी वेब पेज एक सर्वर के अंदर HTML फाइल के रूप में होता है, जिसे Web Browser बदलकर उसके असली रूप में लाता है। इस पूरी प्रोसेस को Rendering कहा जाता है। यह हो जाने के बाद ही आप अपने डिवाइस में उस वेब पेज को देख पाते है।

संक्षेप में

अब तक आप समझ चुके होंगे Web Browser क्या है, इसका कार्य क्या होता है? अगर आप टेक्नोलॉजी और कंप्यूटर के क्षेत्र में इंटरेस्ट रखते होंगे तो आपको यह लेख काफी पसंद आया होगा। इस वेबसाइट पर आपको ऐसी ही कई सारी पोस्ट आगे भी देखने को मिलेगी, जिससे आपके ज्ञान में काफी व्रद्धि होगी। अगर आपको इस लेख में कोई कमी या फिर जानकारी का अभाव लगता है, तो कृपया नीचे कमेंट में हमारे साथ जरूर शेयर करे, आपके कमेंट का जवाब जरूर दिया जाएगा।

अंत में पोस्ट ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे Social Media पर Share जरूर करे, ताकि आपके माध्यम से अन्य लोगों तक यह जानकारी पहुंच पाए।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

10 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here