डीवीडी क्या है | CD और DVD में अंतर

DVD क्या हैं? यह डाटा को स्टोर करने का वह माध्यम हैं, जिसकी सहायता से हम बड़ी मात्रा में अपने डाटा को सुरक्षित रख सकते हैं। यह आधुनिक परिवर्तनों की खोज हैं। इसका Dimension एक Compact Disc (CD) के समान ही होता हैं। परंतु यह CD से अधिक डाटा को स्टोर करके रख सकती हैं।

DVD Kya Hai Explain in Hindi

DVD का पूरा नाम हैं, Digital Versatile Disc या Digital Video Disc है। इसका उपयोग वीडियो को पुनः संचालित करने एवं कंप्यूटर संबंधित डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं।

आइये सबसे पहले DVD क्या हैं? जानने से शुरुवात करें।

डीवीडी क्या हैं – What is DVD in Hindi?

DVD (or Digital Versatile Disc) अधिक डाटा संग्रहित करने वाली एक ऑप्टिकल डिस्क हैं। इसका ज्यादा उपयोग एक से अधिक movies को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं। इसका का विकास 1995 में Sony, Philips और Panasonic द्वारा किया गया।

एक DVD के अंदर आप 6 CD तक के डेटा को स्टोर करके रख सकते हैं। इसमें आप अपनी आवश्यकता अनुसार डाटा को स्टोर एवं जो डाटा आपके काम का नही हैं, उसे Delete करके उस space का उपयोग अन्य किसी डाटा को स्टोर करने के लिए कर सकते हैं।

इस डिस्क को रीड करने के लिए आपके पास DVD Player या फिर DVD Supportable Device का होना अत्यंत आवश्यक हैं। आप इसको चलाने वाले Device में CD को भी चला सकते हैं।

इसकी storage क्षमता कॉम्पैक्ट डिस्क की तुलना में अधिक होती हैं। जिस कारण यह मूल्य में CD की तुलना में थोड़ा महँगी होती हैं। इसकी महत्वता को स्वीकार कर इसका उपयोग प्रत्येक क्षेत्र में विस्तृत रूप से किया जाता हैं।

इसकी परतें भी कॉम्पैक्ट डिस्क की तरह पॉली कार्बोनेट से बनी होती हैं। इसको CD से अधिक सुरक्षित रखने की आवश्यकता होती हैं, क्योंकि इसमें CD की अपेक्षा कई अधिक डाटा स्टोर किया जा सकता हैं। जिस कारण अधिक नुकसान होने की आशंका बढ़ जाती हैं।

सम्बंधित पोस्ट: –
हार्ड ड्राइव (HDD) क्या होती है
SSD क्या है इसके फायदे
Random Access Memory (RAM)
Read Only Memory (ROM)
Cache Memory क्या है इसका उपयोग

डीवीडी के प्रकार – Types of DVD in Hindi

DVD को भी CD की भांति तीन भागों में विभाजित किया जाता हैं और विभाजन का यह कार्य भी इनके कार्य करने के तरीकों में भिन्नता के आधार पर किया जाता हैं। जो निम्न प्रकार हैं: –

  1. DVD-ROM
  2. DVD-R
  3. DVD-RW

1. DVD-ROM (Read Only Memory)

इसके अंतर्गत आप डाटा को सिर्फ पढ़ या देख सकते हैं। इसमें आप अपनी आवश्यकता अनुसार write नहीं कर सकते। इसलिए इसे DVD-ROM के नाम से जाना जाता है।

2. DVD-R (Recordable)

यदि आप डिजिटल वर्सटाइल डिस्क का उपयोग किसी डाटा को रिकॉर्ड करने के लिए करते हैं, तो उसे सामान्यतः DVD-R के नाम से जाना जाता हैं। इस प्रकार की disc का सर्वाधिक उपयोग फ़िल्म क्षेत्र में music को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता हैं।

3. DVD-RW (Rewritable)

DVD के इस प्रकार में आप डाटा को लिख और पढ़ दोनों सकते हैं और अनावश्यक डाटा को delete कर सकते हैं। delete किये गए डाटा से प्राप्त storage में अतिरिक्त डाटा स्टोर कर उसे उपयोग में ला सकते हैं।

DVD कितना Data Store कर सकती हैं?

डीवीडी की डाटा को स्टोर करने की क्षमता अलग-अलग होती हैं। इसे निम्न आधारों पर समझा जा सकता हैं –

  • सिंगल साइडेड, सिंगल लेयर डीवीडी में 4.7GB तक के डाटा को स्टोर करके रख सकते हैं।
  • सिंगल साइडेड डबल लेयर डीवीडी 8.5GB या 8.7GB तक का डाटा स्टोर कर सकते हैं।
  • दो तरफा सिंगल लेयर डीवीडी में 9.4GB तक का डाटा स्टोर कर सकते हैं।
  • दो तरफा डबल लेयर डीवीडी में 17.08GB तक का डाटा स्टोर कर सकते हैं। परंतु डीवीडी के इस प्रकार की उपलब्धता Market में कम ही देखने को मिलती हैं।

सीडी और डीवीडी में अंतर- Difference Between CD and DVD in Hindi

DVD में CD की तुलना में डाटा को स्टोर करने की मात्रा अधिक होती हैं। जहाँ आप CD में 700MB तक कि फ़ाइल को स्टोर कर सकते हैं, वहीं इसमें 4.7 GB से 17.8GB तक का डाटा स्टोर करके रख सकते हैं। सामान्य शब्दों में समझे तो यह CD की तुलना में 7 गुना अधिक डाटा को स्टोर कर सकती हैं।

CD में रिकॉर्डिंग लेयर डिस्क के ऊपर होती हैं, वही इसमें रिकॉडिंग लेयर डिस्क के बीच मे स्थित होती हैं। Compact disc की डाटा Transfer करने की गति 1.4MB से 1.6MB/sec होती हैं, तो वहीं इसकी डाटा ट्रांसफर करने की गति 11MB/sec होती हैं।

यह Compact Disc की अपेक्षा अधिक पतली होती हैं। जहाँ CD की thickness 1.2mm होती हैं, वहीं इसकी Thickness 0.6mm होती हैं। इसका का मूल्य CD की तुलना में अधिक होता हैं, क्योंकि इसमें CD की तुलना में अधिक space होता हैं।

कॉम्पैक्ट डिस्क एक पुरानी संरचना हैं, वहीं DVD विकास आधुनिक तकनीकी के आधार पर हुआ हैं। जहाँ CD का विकास 1982 में हुआ था, वहीं इसका का विकास 1995 में किया गया था। सामान्यतः Compact disc में सिंगल लेयर होती हैं, वहीं इसमें डबल लेयर होती हैं।

CD Player मे आप सिर्फ CD का ही उपयोग कर सकते हैं, जबकि DVD Player में आप CD और DVD दोनों का उपयोग कर सकते हैं। कॉम्पैक्ट डिस्क का उपयोग छोटी मात्रा में डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं और इसका उपयोग अधिक मात्रा में डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं।

संक्षेप में – Conclusion

DVD क्या हैं? यह डाटा स्टोर करने की वह वस्तु हैं, जिसमें हम कई प्रकार के डाटा को स्टोर करके रख सकते हैं। इसकी क्षमता 4.7 से 17.8GB तक के डाटा को स्टोर करने की होती हैं। स्टोर डाटा में हम अपनी आवश्यकता अनुसार परिवर्तन भी कर सकते हैं।

इसका उपयोग Computer Software, Movies, Music, Videos, Education related data, Applications आदि प्रकार के डाटा को स्टोर करने के लिए किया जाता हैं।

तो दोस्तों आज आपने जाना कि डीवीडी क्या हैं – What is DVD in Hindi. अगर आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे अपने अन्य मित्रों के साथ भी अवश्य शेयर हैं। जिससे उनके ज्ञान में वृद्धि हो सकें।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here