Tally क्या है, अकाउंटिंग में इसके उपयोग – Introduction of Tally in Hindi

प्रिय पाठकों, इस पोस्ट Tally क्या है? (What is Tally in Hindi) में हम विस्तार से चर्चा करेंगे, कि Tally kya hai, इसके features क्या हैं तथा इस accounting software का उपयोग क्या हैं, तथा अंत मे हम सॉफ्टवेयर के महत्वपूर्ण जानकारियों को आपके साथ साझा करेंगे।

Tally Kya Hai What is Tally in Hindi

अगर आप अपना भविष्य एकाउंटिंग के फ़ील्ड में बनाना चाहते हैं और Tally सॉफ्टवेयर का उपयोग करना सीखना चाहते हैं तो आप इस पोस्ट से बहुत कुछ सीख सकते हैं।

अगर आपकी रुचि एकाउंटिंग में हैं, तो आपको इस स्किल को अवश्य सीखना चाहिए, माना आपको accounting का A भी नहीं आता तो घबराने वाली कोई बात नहीं हैं शुरुआत कीजिये जब आप इसके basic concept को समझ जाएंगे तो आपको इस सॉफ्टवेयर और accounting को समझते देर नहीं लगेगी।

Tally भारत में सबसे popular accounting software में से एक हैं। अगर आप भी अपने व्यवसाय की हर-दिन की purchase, sales, expenses, income, losses आदि के transaction को रिकॉर्ड करना चाहते हैं तो आप इस accounting software का उपयोग कर सकते हैं। जिससे आपका डेटा सुरक्षित रहता हैं।

आप Tally.ERP 9 के educational version को अपने computer में install करके, तथा Work in educational mode को चुनकर, लेनदेन की entry को एंटर करना सीख सकते हैं।

तो आइए शुरुवात Tally के परिचय (Introduction of tally in hindi) से करें!

टैली क्या है? (What is Tally in Hindi)

Tally एक ERP accounting software पैकेज हैं। जिसका उपयोग accountant द्वारा किसी company के प्रतिदिन की व्यवसायिक data entry को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता हैं। भारत में आज के समय में अधिकांश accounting firm में Tally के latest version Tally ERP 9 का उपयोग किया जाता हैं, जो आपके अधिकांश समय को बचाता हैं, और इस सॉफ्टवेयर का उपयोग करना आसान हैं।

यह एक ऐसा सॉफ्टवेयर हैं जो छोटे से लेकर मध्यम वर्ग के enterprises तक सभी प्रकार के व्यवसायिक उद्योगों के लिए अधिकतम facilities प्रदान करता हैं। जिसमें आपको GST (Goods and services tax) के नए features से सम्बंधित अपडेट्स भी देखने को मिलते है।

यह सॉफ्टवेयर combined functions, अधिक नियंत्रित, और in-built customizability features के साथ एक ऑल-इन-वन बिज़नेस मैनेजमेंट सॉल्यूशन और GST software हैं।

इसका उपयोग किसी भी कंपनी के सभी बिज़नेस कार्यों, जैसे purchasing, finance, sales, inventory, manufacturing को automate और integrate करने के लिए किया जाता हैं।

अगर आप accountant की जॉब पाना चाहते हैं तो आपको Tally ERP 9 का उपयोग करना आना चाहिए तथा आपको GST तथा एकाउंटिंग के basics के बारे में भी पता होना जरूरी हैं।

अगर आपने बी. कॉम की पढ़ाई की हैं तो आपको इस सॉफ्टवेयर को समझते देर नहीं लगेगी। और आप कुछ समय के बाद किसी भी कंपनी की एक दिन में financial year के लेन-देन की entry बड़ी ही आसानी से करने लगेंगे, तथा उस कंपनी की financial annual report (balance sheet, income statements, और cash flow statements) आदि भी तैयार करने लगेंगे।

Tally के क्या उपयोग है?

वैसे तो Tally का उपयोग आमतौर पर छोटे और मध्यम वर्ग के व्यवसायों द्वारा daily accounting के लिए किया जाता है। लेकिन इस accounting software का इस्तेमाल एक बिजनेस में कई अन्य उद्देश्यों के लिए भी होता है।

अगर आप Tally सीखना चाहते है तो आपके लिए यह जानना जरूरी है कि इसका इस्तेमाल करके आप क्या-क्या कर सकते है। नीचे इसके कुछ प्रमुख उपयोगों के बारे में बताया गया है।

Daily Accounting: एक बिजनेस के रोजाना के खर्चों का हीसाब रखने के लिए इसका उपयोग सबसे आम है। पहले के समय मे इसके लिए खाताबुक का उपयोग किया जाता है जिसमें मुनीम मैन्युअली रोजाना के लेन-देन का हिसाब रखता था। आज वहीं काम Tally software के माध्यम से किया जाता है जिसमें हम accounting entries को debit और credit के रूप में लिखते है। इसके अलावा sales और purchase की entries करने के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जाता है।

Bank Transactions: Bank से जुड़े हुए सभी transaction की entry करने के लिए इसका उपयोग किया जाता है। जैसे bank cash withdrawal और deposit की report बनाना, बैंक खाता बहियों के साथ bank statements का मिलान करना और इसके अलावा cheque को manage करने के लिए भी इसका उपयोग प्रमुख रूप से किया जाता है।

Inventory Management: Tally software का उपयोग inventory management के लिए भी बहुत आम है। inventory का मतलब होता है, वस्तुसूची यानी सामान की पूरी सूची। उदाहरण के लिए कोई दूकान है अगर वो माल खरीदते है तो वह inventory management की मदद से कितना समान order किया, कितना store है, कितना sell किया इन सब का record रख सकते है।

Balance Sheet Finalization: एक company की balance sheet को finalize करने का मतलब है खातों की बुक्स की जाँच करना और देखना कि वह सही, और सटीक है। आमतौर पर साल के अंत मे खातों की बुक्स को finalize किया जाता है पर सबसे अच्छा तरीका यह है कि समय-समय पर यानी मासिक और त्रैमासिक रूप से खातों की जांच और समाधान किया जाए।

Taxation और Billing: Tally का उपयोग tax filling जैसे GST, VAT, TDS, income tax, excise tax आदि के लिए भी किया जाता है। जिसमें आप tax filling के लिए विभिन्न reports बनाते हो, income tax payment को record करते है, income tax की entry करना, आदि।

टैली का इतिहास (History of Tally in Hindi)

Tally Solutions बहुराष्ट्रीय कंपनी को आज से 37 साल पहले यानी 1986 को Shyam Sunder Goenka, और Bharat Goenka द्वारा स्थापित किया गया था। जिसका मुख्यालय Bangalore, कर्नाटक (भारत) में स्थित हैं। और आज के समय में इनके ट्रेंडिंग प्रोडक्ट्स Tally Prime, TSS (Tally Software Service) Tally.ERP 9, Tally.Server 9, Tally.Developer 9 और Shoper 9 हैं।

यह एक business accounting software हैं। जो मुख्य रूप से accounting software, inventory software और ERP software का उद्योग करते हैं। जिसका मुख्य लक्ष्य टैली के complex business calculations को आसान बनाना है। जिसने पहले के मुकाबले आज हमारी business accounting को आसान और  बहुत समय बचाने वाला बना दिया हैं।

यह अपने यूज़र्स के लिए विभिन्न प्रकार के पैकेज की सुविधा प्रदान करता हैं ताकि यूजर अपने व्यवसाय के हिसाब से सही version का चुनाव कर सके। जिसमें यह educational version से लेकर audit version तथा विभिन्न प्रकार के पैकेज की सुविधा प्रदान करता हैं, जिसे ज्यादातर chartered accountant द्वारा उपयोग किया जाता हैं, और तब से आज तक इसके सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल 8 मिलियन से अधिक customer कर चुके हैं।

टैली अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर के सभी संस्करण

संस्करण (Versions)विवरण
Tally 3.0इस version को 1990 में launched किया गया था। जो केवल basic accounting कर पाने में सक्षम था पर यह छोटे enterprises की जरूरतों को पूरा करने के लिए भरपूर था। इस संस्करण सॉफ्टवेयर को ऑपरेट करने के लिए Basic pre-defined operating commands की जरूरत पड़ती थी। इस version का उपयोग उस समय MS-DOS में संभव था।
Tally 3.12इस संस्करण को 1991 में launched किया गया था। यह Tally3.0 के समान था पर इसमें पिछले के मुकाबले  accounting features को developed किया गया था।
Tally 4इस संस्करण को 1992 को लॉन्च किया गया था, जो एक MS-DOS based software था पर यह पिछले versions के मुकाबले काफ़ी बेहतर था।
Tally 4.2यह सॉफ्टवेयर MS-DOS based software था और पिछले संस्करण के समान था, Tally 4.2 को 1994 में मार्केट में उतारा गया था।
Tally 5इस version को 1996 में launched किया गया था।  यह एक graphic interface संस्करण था, जो टैली का window operating system के साथ first version था जिसमें Inventory modules भी विकसित किया गया था, जिससे व्यवसायों को अपने stock और godowns के रिकॉर्ड को maintain करने में काफी मदद मिली।
Tally 5.4इस version को 1996 में launched किया गया था, जो 5.0 का upgraded version था। इसमें data import जैसी आवश्यक सुविधा उपलब्ध थी, जो पुराने डेटा फॉर्मेट्स को नए में convert करने में सक्षम था।
Tally 6.3यह संस्करण 2001 में launched किया गया था। इस संस्करण में open data base connectivity (ODBC) है जो इसे अन्य सिस्टम के साथ इंटरैक्ट करने में सक्षम बनाता हैं।
Tally 7.2यह एक taxation system सॉफ्टवेयर हैं जिसमें Value added tax (VAT) Central sales tax (CST) Tax deduction at source (TDS), Tax collection at source (TCS) and Service tax शामिल हैं। tally 7.2 को 2005 में जारी किया गया था।
Tally 8.1इस सॉफ्टवेयर में multi languages (कम से कम 10) की सुविधा मौजूद हैं इस version को 2006 में लॉन्च किया गया था।
Tally 9.0इस संस्करण को bugs और errors से निपटने के लिए मार्किट में उतारा गया था। tally 9.0 में आपको  TDS, FBT, Payroll, E-TDS आदि भरने के लिए फ़ीचर्स मिल जाते हैं। यह version को 2006 में जारी किया गया था।
Tally.ERP 9इस version को 2009 में लॉन्च किया गया था, पर टैली ERP 9  का  फ़िलहाल के समय में सबसे latest versions (6.6.3.) हैं। जिसमें आपको remote access, tally.net, data security, आदि सुविधाएँ मिल जाती है। आपको यहाँ यह बता दे यह version आपकी industry को complete business solution देने में पूरी तरह से सक्षम हैं।

Tally कैसे सीखें

Tally क्या होता है और इसका क्या इस्तेमाल है, यह जानने के बाद अगर आप इस सॉफ्टवेयर को इस्तेमाल करना सीखना चाहते है तो हमने नीचे कुछ स्टेप्स बताए है जो आपको Tally सीखने में काफी मदद करेंगे।

यह तो आपको पता ही होगा कि टैली सॉफ्टवेयर किसी भी कंपनी के डेटा की डिजिटल फॉर्मेटिंग में accounting करता हैं। जैसे हम मैनुअल books में accounts को create करके debit और credit के रूप में entries  को लिखते हैं उसी तरह से हम इस सॉफ्टवेयर में भी entries को enter करते हैं।

तो चलिए अब जानते है इसका इस्तेमाल करना कैसे सीखें।

Accounting के Basics सीखें

अगर आप Tally सीखना चाहते है तो उसके लिए जरूरी है कि सबसे पहले आप accounting के basics सीखें। जैसे accounting क्या है, ledger क्या होता है, voucher किसे कहते है, inventory क्या है, journal entry क्या होती है, balance sheet क्या है, आदि। इसके अलावा debit, credit, assets, liabilities, capital, profit, loss, purchase और sales जैसी accounting terms को जानकारी आपको होनी चाहिए।

Tally.ERP 9 को Install करें

इस सॉफ्टवेयर का उपयोग करने से पहले आपको इसको अपने कंप्यूटर में install करना होगा इसके लिए आपको https://tallysolutions.com/ की वेबसाइट पर visit करना हैं इसके latest version को download कर ले। अगर आपका पीसी विंडोज हैं तो आप इसका आसानी से उपयोग कर सकते हैं। अगर आप tally सीखना चाहते हैं तो आपको इसके education mode का  इस्तेमाल करना होगा।

टैली ERP 9 को कीबोर्ड का उपयोग करके नेविगेट  करने के लिए design किया गया हैं। हालांकि आप अपने सुविधा के लिए किसी भी विकल्प पर क्लिक कर सकते हैं।

Company Create करना सीखें

इस सॉफ्टवेयर में काम करने के लिए सबसे पहले आपको एक कंपनी क्रिएट करनी पढ़ेगी इसके बिना आप इसमें एक भी entry एंटर नहीं कर पाएँगे, तो चलिए पहले एक कंपनी क्रिएट करते हैं।

स्टेप 1. Opening menu में create a company के विकल्प पर click करें।

स्टेप 2. जो भी कंपनी आप क्रिएट करना चाहते हैं उसकी details को भरें,  जैसे कंपनी का नाम, एड्रेस, फ़ोन नंबर, email आदि जानकारी को भरें।

स्टेप 3. अब Auto Backup को on करें, इसको on करने से आपका  work  इस software में सेव रहेगा।

स्टेप 4. अपने देश की currency को सेलेक्ट करें

स्टेप 5. यदि आप केवल अपने accounts को manage करने के लिए टैली का उपयोग कर रहे हैं, तो maintain मेनू में “only account’s” के  विकल्प को select करें, और यदि आप inventory manage के लिए भी टैली का उपयोग कर रहे हैं, तो “accounts with inventory” के विकल्प को select करें।

स्टेप 6. अपने financial year के start और book के start date को enter करें।

Ledger Create करना सीखें

अब यह समझना बहुत जरूरी हो जाता हैं कि हम लेजर्स किस लिए क्रिएट करें, क्योंकि ledgers का काम उस accounts के सभी transactions को रिकॉर्ड करना होता हैं।

आपको एक कि आवश्यकता पड़ेगी इसलिए एक ledger क्रिएट करें, प्रत्येक account के लिए जिसके साथ वे business करते हैं। आपको यह बात दे कि Tally में पहले से ही डिफ़ॉल्ट रूप से दो ledger क्रिएट रहते हैं पहला cash और दूसरा profit and loss account आप अपनी requirements के हिसाब से जितने चाहें ledger क्रिएट कर सकते हैं।

तो चलिए अब लेजर क्रिएट करने के लिए इसके स्टेप्स को देखते हैं।

स्टेप 1. दी गयी डायरेक्शन का उपयोग करते हुए Create Ledger विंडो को open करें

Gateway of tally > Account’s  info > Ledger > Create

स्टेप 2. अब group को चुनें। यहाँ आपको यह चुनना होगा कि किस group को Ledger assigned करेगा। आपके लिए सही group का चयन करना अत्यंत महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि यह effect करेगा कि बाद में numbers और sales का total क्या होगा।

स्टेप 3. फ़िर ledger को एक नाम दे। अपने लेजर को खोले बिना यह पता लगाने के लिए की इसमें क्या हैं, एक नाम एंटर करें।

स्टेप 4. अब Opening Balance एंटर करें।
For Example: यदि आप अपने bank account के लिए एक Ledger बना रहे हैं, तो यह current में उसमें मौजूद amount होगी। यदि आप किसी वेंडर को बकाया amount के लिए लेजर शुरू कर रहे हैं, तो आपके द्वारा बकाया राशि प्रारम्भिक शेष राशि होगी।

Voucher Create करना सीखें

अब आपको यहाँ वाउचर के purpose को समझना पड़ेगा, क्योंकि यह वह डाक्यूमेंट्स हैं जिसमें financial transaction की डिटेल्स होती हैं इनका उपयोग business के सभी aspects, sales से लेकर deposits करने तक के लिए किया जाता है। 

तो चलिए अब अलग-अलग वाउचर कैसे क्रिएट करना सीखें।

स्टेप 1. सबसे पहले voucher स्क्रीन को ओपन करें फ़िर geteway of tally को open करें अंत में accounting vouchers section को ओपन करें।

स्टेप 2. इस step में, हम वह वाउचर चुन सकते हैं जिसे हम क्रिएट करना चाहते हैं नीचे इन वाउचर की सूची इस प्रकार है:

Contra Voucher (F4)

कंपनी के Bank में deposit या withdrawn किए गए amount को रिकॉर्ड करने के लिए, या उस कंपनी में दो accounts के बीच transferred किसी भी amounts को रिकॉर्ड करने के लिए इस वाउचर का उपयोग करें।

Contra वाउचर को ओपन करने के लिए अपने keyboard से F4 key press करें लें, जिससे आपकी टैली स्क्रीन पर contra वाउचर खुल जायेगा।

Payment Voucher (F5)

इस वाउचर का उपयोग किसी भी business के द्वारा की गई payments के लिए करें। पेमेंट वाउचर को अपने टैली स्क्रीन में खोलने के लिए अपने कीबोर्ड के F5 प्रेस करें।

Receipt Voucher (F6)

इस वाउचर का उपयोग company द्वारा earned किसी भी income जैसे sales, rent interest आदि तथा sundry debtors से प्राप्त income को रिकॉर्ड करने के लिए करें। इस वाउचर में एंट्री करने के लिए अपने कीबोर्ड से F6 प्रेस करें।

Journal Voucher (F7)

सभी adjustment या entries due उदाहरण के लिए prepaid expense, accrued income, purchase of assets, input tax reversal, charge entries under GST आदि की एंट्री करने के लिए इस वाउचर का उपयोग करें। इस वाउचर में एंट्री करने के लिए अपने कीबोर्ड से F7 प्रेस करें।

Sales Voucher (F8)

इस वाउचर का उपयोग कंपनी द्वारा की गई सभी Sales को रिकॉर्ड करने के लिए करें।

Purchase Voucher (F9)

इस वाउचर का उपयोग व्यवसाय के दौरान कंपनी द्वारा खरीदे गए सभी inventories को रिकॉर्ड करने के लिए करें।

स्टेप 3. आवश्यक information enter करें। वाउचर को पूरा करने के लिए आवश्यक जानकारी इस बात पर निर्भर करती है कि हम किस प्रकार का वाउचर बनाना चाहते हैं। हमें आम तौर पर यह निर्धारित करने की आवश्यकता होगी कि वाउचर किस लेजर से जुड़ा होगा, साथ ही किसी भी शामिल पार्टियों की तारीख और नाम दर्ज करें।

Tally ERP 9 Training Course करें

अगर आपको खुद से सीखने की मेहनत नहीं करनी तो आप अपने शहर में मौजूद किसी computer training institutes से Tally का course कर सकते है। यह 2 से 3 महीने का कोर्स होता है जहाँ आपको इस accounting software की शुरुआत से जानकारी दी जाती है। कोर्स को पूरा करने के बाद आपको एक सर्टिफिकेट भी दिया जाता है।

हालांकि अगर आपके पास खुद का कंप्यूटर या लैपटॉप है तो आप online course खरीदकर भी Tally software का इस्तेमाल करना सीख जायेंगे।

Google और YouTube की मदद लें

Google और YouTube आज के समय मे ऐसे प्लेटफार्म है जहाँ से आप कुछ भी सकते है। Tally का कैसे उपयोग करें इस पर हज़ारों videos और articles उपलब्ध है। आप Tally के बारे में जो भी सीखना चाहते है उससे सम्बंधित सर्च करें आपको कई सौ परिणाम मिल जाएंगे।

Tally.ERP 9 के प्रमुख Features

वैसे तो Tally ERP 9 के फ़ीचर्स बहुत सारे lहै पर कुछ key features नीचे बताएं गए हैं जिन्हें आपको जानना चाहिए:

1) Tally ERP 9 की पहली विशेषता यह हैं कि आप इस अकाउंटिंग सॉफ्टवेयर का सेटअप और उपयोग बड़े ही आसानी से कर सकते हैं। क्योंकि इस सॉफ्टवेयर को enterprises से जुड़ी दिन-प्रतिदिन की जटिल एक्टिविटी को सरल बनाने के लिए design किया गया हैं।

2) इसका उपयोग करके एक business के सभी financial operations को automate किया जा सकता है।

3) यह एक business की accounting और inventory से सम्बंधित सभी आवश्यकताओं का हल प्रदान करता है। इसलिए इसे complete business solution भी कहा जाता है।

4) इस सॉफ्टवेयर को remotely access किया जा सकता है इसका अर्थ है कि आप कही भी जाये बस Internet के माध्यम से Tally के data को access कर सकते है।

5) Tally.ERP 9 में एक यूजर accounting only और accounting with inventory के बीच मे चुन सकता है।

6) यह आपको एक ही package में multiple company create करने की सुविधा प्रदान करता है।

7) इसमें बहुभाषी क्षमता (multilingual capability) होती है अर्थात आप किसी भी Indian language में जानकारी को देख और प्रिंट कर सकते है।

8) कंप्यूटर के अचानक बन्द होने या बिजली के गुल होने पर भी कोई data loss नही होता है।

9) एक उपयोगी feature यह भी है कि आप इसमें एक या एक से ज्यादा company या सभी companies का backup एक single directory में ले सकते है।

10) दुसरे software के बीच data को import/export करने की facility भी प्रदान करता है।

Conclusion (संक्षेप में)

तो, इस पोस्ट से आपने सीखा Tally क्या है (What is Tally in Hindi), इसका क्या उपयोग है और इसे कैसे सीखें? Tally.ERP 9 भारत मे उपयोग होने वाला सबसे लोकप्रिय accounting software है। अगर आप accounting के क्षेत्र में जाना चाहते तो इस सॉफ्टवेयर को बड़ी ही आसानी से सीख और इस्तेमाल कर सकते है।

उम्मीद है, इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको टैली सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी हो गई होगी। फिर भी अगर आपने मन मे इस टॉपिक से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया नीचे कमेंट में हमें बताए हम जल्द ही उसका हल आपको देने की कोशिश करेंगे।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here