B.Sc क्या है: Course, Admission, Eligibility, Subjects, Jobs & Career

12th क्लास पास करने के बाद साइंस स्टूडेंट्स आगे कौन सा कोर्स करें? इसको लेकर वे काफी दुविधा में रहते है। ये उनकी जिंदगी के सबसे महत्वपूर्ण निर्णयों में से एक होता है, क्योंकि इसी से निर्धारित होगा कि वे भविष्य में कैसी जॉब और सैलरी पायेंगे। हालांकि अधिकांश साइंस स्टूडेंट्स या तो इंजिनीरिंग और MBBS करते है, या फिर वे B.Sc कोर्स के लिये जाते है। पोस्ट में आपको इसी बारे में जानने को मिलेगा कि B.Sc क्या है, बीएससी कैसे करें, और इसे करने के क्या फायदे है?

B.Sc kya hai in hindi

B.Sc एक ग्रेजुएट-लेवल का कोर्स है, जिसके लिये हर साल लाखों स्टूडेंट्स अप्लाई करते है। खासकर अगर आप साइंस और टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में करियर बनाना चाहते है, तो आपके लिए B.Sc Degree Course करना फायदेमंद साबित हो सकता है। B.Sc के अंतर्गत कई सारे Courses होते है, जिसमें से स्टूडेंट अपनी रूचि के अनुसार किसी एक में विशेषज्ञता भी प्राप्त कर सकते है।

चलिये सबसे पहले B.Sc क्या होता है? इसे समझें।

बीएससी क्या है – What is B.Sc in Hindi?

B.Sc की फुल फॉर्म “Bachelor of Science” है। यह एक अंडरग्रेजुएट डिग्री कोर्स है, जो आमतौर पर 3 साल का होता है। ऐसे स्टूडेंट्स जिन्होंने 12th क्लास साइंस स्ट्रीम से पास किया हो, उनके लिए बैचलर्स डिग्री के रूप में B.Sc सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है। भारत के सभी प्रमुख राष्ट्रीय और राज्य-स्तरीय कॉलेज/यूनिवर्सिटी द्वारा B.Sc की डिग्री ऑफर की जाती है।

यह डिग्री कोर्स दो प्रकार का होता है, जिसमें B.Sc General और B.Sc Honours शामिल है। स्टूडेंट जो साइंस के मुख्य सब्जेक्ट्स जैसे भौतिक विज्ञान (Physics), रसायन विज्ञान (Chemistry), गणित (Mathematics), जन्तु विज्ञान (Zoology) और वनस्पति विज्ञान (Botony) की बुनयादी जानकारी प्राप्त करना चाहते है, वे जनरल कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते है; वही वे स्टूडेंट्स जो साइंस के किसी एक क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त करना चाहते है, उनके लिए ऑनर्स से बीएससी करना फायदेमंद रहेगा।

कुछ प्रमुख B.Sc Courses जिनमें स्टूडेंट्स विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते है ― एग्रीकल्चर, नर्सिंग, कंप्यूटर साइंस, इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (IT), माइक्रोबायोलॉजी, बायोटेक्नोलॉजी, फिजिक्स, केमिस्ट्री, मैथ, इत्यादि।

B.Sc Course Details in Hindi

फुल फॉर्म बैचलर ऑफ साइंस
डिग्री बैचलर्स
कोर्स की अवधि 3 साल
योग्यता न्यूनतम 50% अंकों के साथ 12वीं की परीक्षा साइंस स्ट्रीम (PCM or PCB) से पास की होनी चाहिए।
प्रवेश प्रक्रिया अधिकांश कॉलेज में मेरिट के आधार पर एडमिशन मिलता है, वही कुछ जगह इसके लिए एंट्रेन्स एग्जाम देना होता है
कोर्स फीस 10,000 से लेकर 1 Lakh रुपये प्रति वर्ष तक हो सकती है

सम्बंधित कोर्सB.Com क्या है और कैसे करें

B.Sc General vs B.Sc Honours

स्टूडेंट्स अक्सर B.Sc General और B.Sc Honours को लेकर दुविधा में रहते है। वो यह फैसला नही कर पाते कि उन्हें इन दोनों में से किसे चुनना चाहिये। एक आम धारणा यह भी है, कि ऑनर्स करने वाले स्टूडेंट्स को जॉब के अधिक अवसर मिलते है। तो आइए जाने इनके बीच अंतर क्या है।

B.Sc General: इसे एक आसान बैचलर्स डिग्री के रूप में देखा जाता है। अधिकांश कॉलेज/यूनिवर्सिटी इस कोर्स को ऑफर करती है। इसमें एडमिशन लेना उतना मुश्किल नही होता। 12वीं क्लास में कम परसेंटेज होने के बावजूद भी स्टूडेंट्स B.Sc General Course में प्रवेश ले सकते है। कोर्स के अंतर्गत स्टूडेंट्स को साइंस के तीन सब्जेक्ट पढ़ने होते है। उदाहरण के लिये अगर स्टूडेंट की 12वीं क्लास में गणित थी तो वे फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथ पढ़ेंगे; वही बायोलॉजी होने पर वे जूलॉजी, बॉटनी और केमेस्ट्री पढ़ेंगे। हालांकि कुछ अन्य सब्जेक्ट भी होते है, जिनमें से स्टूडेंट्स चुनाव कर सकते है।

B.Sc Honours: इसके अंतर्गत स्टूडेंट्स साइंस के किसी एक सब्जेक्ट को चुनकर उसमें विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते है। इसे प्रोफेशनल बैचलर डिग्री कोर्स कहा जा सकता है। B.Sc Honours Course की पढ़ाई सिर्फ कुछ प्रशिद्ध कॉलेज/यूनिवर्सिटी में ही कराई जाती है। इसमें एडमिशन लेना उतना भी आसान नही होता और इसकी पढ़ाई भी काफी कठिन मानी जाती है। हालांकि ऑनर्स से B.Sc करने पर अच्छी जॉब पाने में सहायता मिलती है।

B.Sc कौन कर सकता है (Eligibility Criteria)

B.Sc Course कौन कर सकता है, इसके लिए विभिन्न कॉलेजों द्वारा मानदंड तय किये जाते है। अगर एक स्टूडेंट उन मानदंडों को पूरा करता है, तो उसे B.Sc में एडमिशन मिल जाएगा। हालांकि यह मानदंड विभिन्न कॉलेजों में अलग हो सकते है, परंतु कुछ प्रमुख मानदंड निम्नलिखित है:

  • B.Sc में प्रवेश प्राप्त करने के लिए कैंडिडेट ने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं की कक्षा साइंस साइड से उत्तीर्ण की होनी चाहिये।
  • 12वीं में कैंडिडेट के न्यूनमतम अंक 50% होने चाहिए। हालांकि यह भी विभिन्न कॉलेजों पर निर्भर करता है।
  • B.Sc Course में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट की न्यूनतम आयु 18 वर्ष से उप्पर होनी चाहिए।

यह भी पढ़ेंIIT क्या है? जानें

प्रमुख बीएससी कोर्स

अगर आप B.Sc जनरल में इक्छुक नही है, तो कुछ कॉलेजों और इंस्टीट्यूट द्वारा कई सारे Courses ऑफर किये जाते है। स्टूडेंट्स जिस भी फील्ड में रूचि रखते है, वे उसे चुनकर उसमें विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते है। कुछ सबसे लोकप्रिय B.Sc Courses की सूची नीचे दी गयी है।

B.Sc Computer Science

इस कोर्स के अंतर्गत स्टूडेंट्स कंप्यूटर साइंस से सम्बंधित विषयों जैसे ― प्रोग्रामिंग लैंग्वेज, कंप्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर इत्यादि की जानकारी प्राप्त करते है। अधिकांश इंस्टीट्यूट इस कोर्स में एडमिशन मेरिट के आधार पर देते है।हालांकि कई जगह इसके लिए एंट्रेन्स एग्जाम पास करना होता है। कंप्यूटर साइंस से B.Sc कर लेने के बाद कई क्षेत्रों में जॉब के अवसर आपके लिए खुलते है। एक कंप्यूटर साइंटिस्ट से लेकर सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर और हार्डवेयर इंजीनियर जैसे प्रोफेशन में आप जा सकते है। अगर आपकी रूचि कंप्यूटर के क्षेत्र में है, तो यह कोर्स आपके लिए बेस्ट विकल्प है।

B.Sc IT (Information Technology)

IT कोर्स, कंप्यूटर साइंस के काफी समान है। कई सब्जेक्ट ऐसे है, जो दोनों ही कोर्स में देखने को मिलते है। हालांकि यह कोर्स कंप्यूटर सिस्टम के डेवेलपमेंट और उसके रखरखाव पर केंद्रीत होता है, ताकि ऐसे प्रोफेशनल तैयार किये जायें, जो यह सुनिश्चित करे कि एक नेटवर्क में डेटा का सिक्योर ट्रांसफर हो रहा है। इसके अलावा B.Sc IT में स्टूडेंट्स को एक संगठन के विशाल डेटा/इन्फॉर्मेशन को मैनेज करने की प्रकिया के बारे में भी जानकारी दी जाती है।

B.Sc Physics

अगर आप ऐसे स्टूडेंट्स में से है, जो फिजिक्स में काफी अच्छे हो और इसी फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते है, तो B.Sc Physics आपके लिये सबसे बेहतरीन विकल्प है। इस दौरान स्टूडेंट्स फिजिक्स के फंडामेंटल्स तो सीखते ही है, साथ ही कोर्स के अंतर्गत मॉडर्न फिजिक्स पर भी जोर दिया जाता है। इससे स्टूडेंट को भौतिकी के क्षेत्र काफी गहरी समझ प्राप्त होती है। कोर्स को करने के बाद स्टूडेंट M.Sc Physics, M.Tech, B.Ed etc. की पढ़ाई भी कर सकते है, जिससे वे भविष्य में अच्छी सैलरी पर जॉब पाए।

B.Sc Chemistry

वे स्टूडेंट्स जो अपनी 12वीं में केमेस्ट्री के बेसिक फंडामेंटल्स सीख चुकें है, और केमेस्ट्री उनका पसंदीदा सब्जेक्ट भी है। तो B.Sc Chemistry करना उनके लिए सबसे अच्छा है। कोर्स के अंतर्गत आपको केमेस्ट्री की विभिन्न शाखाओं — ऑर्गेनिक केमेस्ट्री, इनऑर्गेनिक केमेस्ट्री, फिजिकल केमेस्ट्री, एनालिटिकल केमेस्ट्री इत्यादि की गहराई से समझ प्राप्त होती है। इसके अलावा रसायन विज्ञान से B.Sc करने पर आपके लिए कई क्षेत्रों में करियर के विकल्प बनते है।

B.Sc Mathematics

यह कोर्स मुख्य रूप से मैथमेटिक्स की विभिन्न शाखाओं पर केंद्रित होता है। कोर्स के अंतर्गत आपको मैथेमेटिक्स के मूल विषयों की समझ तो प्राप्त होती ही है, साथ ही आपकी एनालिटिकल स्किल्स में भी सुधार होता है। इस कोर्स को करने के बाद स्टूडेंट्स आगे की पढ़ाई M.Sc Mathematics से कर सकते है, इससे अच्छी जॉब पाने के अवसर बढ़ जाते है। मैथमेटिक्स से बैचलर की डिग्री प्राप्त करने के बाद आप प्राइवेट और गवर्मेन्ट दोनों हो सेक्टर में जॉब पा सकते है।

B.Sc Nursing

अगर आप हेल्थकेयर सेक्टर में जाना चाहते है, और मानवता की सेवा करना चाहते है, तो B.Sc Nursing आपके लिये एक बेहतरीन विकल्प है। यह कोर्स आमतौर पर 4 साल का होता है। इसमें एडमिशन लेने के लिये स्टूडेंट ने अपनी 12वीं क्लास फिजिक्स, केमेस्ट्री और बायोलॉजी सब्जेक्ट से पास की होनी चाहिये। इस कोर्स का मुख्य मकसद स्टूडेंट्स को मेडिकल साइंस की जानकारी प्रदान करना है। इसके अलावा उन्हें कई प्रकार की ट्रेनिंग भी दी जाती है, ताकि वह मरीज की अच्छी तरह से देखभाल कर पाए।

B.Sc Agriculture

हम सभी जानते है, कि भारत एक कृषि प्रधान देश है। लेकिन क्या आप ये जानते है, कि भारत मे कृषि ऐसे क्षेत्रों में से एक है, जो रोजगार के सुनहरे अवसर पैदा करता है। तो अगर आप इस क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते है, तो आपको Agriculture में B.Sc करनी चाहिए। यह आमतौर पर 4 साल का कोर्स होता है। कोर्स मुख्य रूप से कृषि विज्ञान पर केंद्रित होता है। जिसके अंतर्गत स्टूडेंट्स उन तरीकों के बारे में सीखते है, जिससे बेहतर खेती करने में मदद मिलती है।

B.Sc Biotechnology

B.Sc बायोटेक्नोलॉजी उन बैचलर कोर्स में से है, जो बायोलॉजी के स्टूडेंट्स के बीच काफी लोकप्रिय रहता है। यह कोर्स 3 साल की अवधि का होता है। इसके अंतर्गत जीवित जीवों का अध्ययन किया जाता और उनका उपयोग करके ऐसे केमिकल तैयार किये जाते है, जिनका उपयोग कृषि, खाद्य विज्ञान और चिकित्सा जैसे क्षेत्रों में किया जाता है। यह उन क्षेत्रों में से जहाँ करियर के बहुत सुनहरे अवसर आपको मिलते है।

B.Sc Electronics

यह सामान्यतः 3 साल का कोर्स होता है, जिसमें स्टूडेंट्स इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों, उनकी संरचना और ऐसे उपकरणों को बनाने में उपयोग की जाने वाली सामग्रियों का अध्ययन करते है। इसके अलावा स्टूडेंट्स को इलेक्ट्रॉनिक सर्किट के विभिन्न फीचर और उनके कार्यो को समझने में मदद मिलती है। इलेक्ट्रॉनिक्स से B.Sc करने के बाद कई क्षेत्रों में आप जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है, या फिर आप इलेक्ट्रॉनिक्स में ही मास्टर की डिग्री भी प्राप्त कर सकते है।

B.Sc Courses की लिस्ट और भी लंबी है। यदि आप उन सभी के बारे में जानकारी चाहते है, तो यहाँ क्लिक करें

B.Sc में कितने सब्जेक्ट होते है

B.Sc में आपके क्या सब्जेक्ट होंगें यह आपके चुने गए कोर्स पर निर्भर करता है। अगर आप B.Sc General से कर रहे है, तो कुछ मुख्य सब्जेक्ट है, जिनकी पढ़ाई आपको करनी पढ़ सकती है:

  • फिजिक्स
  • केमेस्ट्री
  • मैथमेटिक्स
  • जूलॉजी
  • बॉटनी

B.Sc कैसे करे

अगर आपने B.Sc करने का मन बना लिया है, तो सबसे पहले आपको कॉलेज का चुनाव करना चाहिये। आपके स्टेट में ही कई ऐसे कॉलेज होंगे, जहां पर आप B.Sc के लिए अप्लाई कर सकते है। कई कॉलेजों में एडमिशन मेरिट के आधार पर होता है, वही कुछ इसके लिए एन्ट्रेंस एग्जाम भी करवाते है।

  • मेरिट के आधार पर: अधिकांश कॉलेज कैंडिडेट की योग्यता के आधार पर एडमिशन देते है। अर्थात 12वीं कक्षा में कितने प्रतिशत अंक आये थे, उसके आधार पर तय होता है, कि कैंडिडेट को एडमिशन मिलेगा की नही। अंको का न्यूनमतम कट-ऑफ 50% है, अर्थात आपके इतने प्रतिशत अंक तो होने ही चाहिए।
  • एंट्रेन्स एग्जाम के आधार पर: कुछ यूनिवर्सिटी से B.Sc की पढ़ाई करने के लिये आपको एंट्रेन्स एग्जाम देना होता है। देशभर में होने वाले कुछ प्रमुख बीएससी एंट्रेन्स एग्जाम है — GSAT, NEST, OUAT, UPCATET, etc.

B.Sc में एडमिशन कैसे ले

स्टेप 1: कॉलेज में जाकर रेजिस्ट्रेशन फॉर्म भरे और सभी जरूरी डॉक्यूमेंट को फॉर्म के साथ जमा करें। यह काम कॉलेज की आधिकारिक वेबसाइट से ऑनलाइन भी किया जा सकता है।

स्टेप 2:अब कॉलेज की कट-ऑफ लिस्ट का इंतेजार करें।

स्टेप 3:लिस्ट में नाम आ जाने के बाद कोर्स फीस भरें, इसके बाद आप अपनी पढ़ाई शुरू कर सकते है।

नोट – एडमिशन की प्रक्रिया विभिन्न कॉलेज/यूनिवर्सिटी में अलग हो सकती है। इसलिए जहां भी आप एडमिशन के लिए जा रहे है, वहां की एडमिशन प्रोसेस क्या है, इस बारे में पता करें।

B.Sc के लिये बेस्ट कॉलेज

भारत में मौजूद कुछ बेस्ट B.Sc Colleges के नाम और वे कौनसी स्टेट में मौजूद है, इसकी जानकारी नीचे दी गयी है।

क्र.सं. कॉलेज का नाम स्थान
1. हिन्दू कॉलेज नई दिल्ली
2. लोयोला कॉलेज चेन्नई
3. मिरांडा हाउस नई दिल्ली
4. हंसराज कॉलेज दिल्ली
5. मद्रास क्रिश्चियन यूनिवर्सिटी चेन्नई
6. किरोड़ीमल कॉलेज नई दिल्ली
7. श्री वेंकटेश्वर कॉलेज नई दिल्ली
8. फर्ग्यूसन कॉलेज पुणे
9. क्राइस्ट यूनिवर्सिटी बैंगलोर
10. स्टेला मैरिस कॉलेज चेन्नई

B.Sc में करियर

बीते कुछ सालों में ये देखा गया कि Engineering और MBBS करने वाले स्टूडेंट्स की संख्या बहुत अधिक तेजी से बड़ी है। उसका कारण है, कि इंजीनियरिंग और एमबीबीएस करने वाले छात्रों के पास करियर के बेहतर अवसर मौजूद होते है। इससे एक सवाल सबके मन मे उठा है, कि क्या अब B.Sc डिग्री की वो मान्यता नही रह गयी। ऐसा बिल्कुल नही है, B.Sc डिग्री प्राप्त कर लेने के बाद आपके पास विभिन्न क्षेत्रों में करियर बनाने के अवसर होते है।

हालांकि अगर स्टूडेंट जनरल कोर्स से B.Sc करने के बजाए किसी एक सबजेक्ट में विशेषज्ञता प्राप्त करते है, तो वे काफी अच्छी सैलरी पर जॉब पाएंगे। कई ऐसे B.Sc Courses है, जिन्हें करने के तुरंत बाद आप सीधे जॉब के लिए अप्लाई कर सकते है। हालांकि अधिकतर करियर एडवाइजर और प्रोफेसर ये सलाह देते है, कि अगर आप अपने लिए बेहतर नॉकरी के विकल्प चाहते है, तो आपको Master’s Degree के लिए जाना चाहिए।

हालांकि वो स्टूडेंट्स जो B.Sc कोर्स पूरा करने के बाद सीधे जॉब करना चाहते है, उनके लिए शैक्षिक संस्थानों, स्वास्थ्य सेवा उधोग, अनुसंधान फर्मों, परीक्षण प्रयोगशालाओं, फार्मास्यूटिकल्स और जैव प्रौद्योगिकी जैसे विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार के अवसर मौजूद होते है। वे एक टीचर, साइंटिफिक असिस्टेंट, टेक्निकल राइटर, लैब केमिस्ट जैसे कई प्रोफेशन में जा सकते है। तो कुल मिलाकर एक B.Sc ग्रेजुएट न सिर्फ साइंस फील्ड में बल्कि कई दूसरे फील्ड में भी जॉब पा सकते है।

सम्बंधित कोर्सबैचलर ऑफ़ आर्ट्स (BA) क्या है और कैसे करे

संक्षेप में:

  • B.Sc एक बैचलर्स डिग्री है, जिसे पूरा करने में आमतौर पर 3 साल का समय लगता है।
  • कोर्स को फुल-टाइम के अलावा कई कॉलेजों द्वारा पार्ट-टाइम मोड में भी ऑफर किया जाता है।
  • स्टूडेंट्स जिन्होंने अपनी 12वीं की कक्षा साइंस स्ट्रीम से पास की है, वे इस डिग्री कोर्स के लिए अप्लाई कर सकते है।

उम्मीद करते है, पोस्ट के माध्यम से आपको B.Sc क्या है, बीएससी कैसे करें, और इसे करने के क्या फायदे है? इस बारे में जानकारी हो गयी होगी। पोस्ट से सम्बंधित सवाल पूछने के लिए आप निचे कमेंट कर सकते है। अंत में पोस्ट ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे Social Media पर Share जरूर करे, ताकि आपके माध्यम से अन्य लोगों तक यह जानकारी पहुंच पाए।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

3 COMMENTS

  1. This article gives full details of BSC but I late because I am doing second year of BSC General,
    Before reading this article, I do not know the difference between BSc General and Hons

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here