कीबोर्ड क्या है हिंदी में – What is Keyboard in Hindi

3

जब भी computer की बात होती है, तो आपने input device के बारे में जरूर सुना होगा. Keyboard भी एक मुख्य इनपुट डिवाइस है. यदि आप कंप्यूटर में text, characters या command को input करना चाहते तो आपको कीबोर्ड की जानकारी हिंदी में होनी चाहिए. इस लेख में आपको जानने को मिलेगा Keyboard क्या है और इसका यूज कैसे करते है?

Keyboard का उपयोग करना बिल्कुल भी मुश्किल नही है. यदि आपको “कंप्यूटर कीबोर्ड” की बेसिक जानकारी हो जाये तो बात बन जायेगी. अगर आप अच्छे Typewriter बनना चाहते है उसके लिए सभी keyboard keys और उनके functions के बारे में आपको पता होना चाहिए. तो यदि आप इस पोस्ट को अच्छे से पड़ेंगे में आपको विश्वास दिलाता हूं कि आज आप इसके बारे में बहुत कुछ जान जायेगे.

तो चलिये सबसे पहले जानते है, Computer Keyboard क्या होता है? फिर इसके बाकी पहलुवों पर बात करेंगे.

Keyboard Kya Hai in Hindi

कीबोर्ड क्या है – Keyboard Definition in Hindi

Keyboard एक प्राइमरी इनपुट डिवाइस है, जिसका यूज computer में text को enter करने के लिए होता है. ये उपयोगकर्ता को कंप्यूटर में डाटा इनपुट करने में सक्षम बनाता है. एक computer keyboard में अक्षरों, संख्याओं और विशेष कैरेक्टर के साथ – साथ विशिष्ट कार्यो को करने के लिए button होते है. जिन्हें हम keyboard key कहते है. इसके साथ ही कंप्यूटर माउस भी प्रमुख इनपुट उपकरणों में से एक है.

एक standard keyboard में लगभग 101 से 104 button होते है. Keyboard को Computer से connect करने के लिए उसमे PS/2 या USB cable दिए गए होते है. जब भी हम किसी key को push करते है, तो computer को इन्ही केबल के माध्यम से signal प्राप्त होता है. जिससे उसे पता चलता है, कि स्क्रीन पर कौन से letters, numbers, character या symbol को show करना है.

हालांकि computer keyboard के design आज भी typewriter की तरह ही होते है. परन्तु इन कीबोर्ड में कुंजियों की संख्या टाइपराइटर के मुकाबले अधिक होती है. यदि keyboard के layout की बात करे तो ये कई प्रकार के होते है और इनमे सबसे अधिक उपयोग होने वाले QWERTY type के कीबोर्ड है. जिसके पहले छः अक्षर QWERT and Y होते है.

कीबोर्ड का अविष्कार कब और किसने किया

Keyboard का इतिहास typewriter के अविष्कार के साथ ही शुरू होता है. वो Christopher Latham Sholes ही थे, जिन्होंने 1868 में पहले व्यवहारिक आधुनिक टाइपराइटर को पेटेंट कराया था. समय के साथ कई तकनीकी सुधारों के चलते ही टाइपराइटर धीरे-धीरे standard computer keyboard के रूप में विकसित हुवे. सबसे पहले 1878 में QWERTY keyboard को कम्प्यूटरों में इस्तेमाल किया गया था.

Keyboarding क्या है

कीबोर्ड और उसके फंक्शन को समझना ही keyboarding कहलाता है. हम सभी जानते है, आज के दौर में computer कितनी महत्वपूर्ण डिवाइस है. उसे नियंत्रित करने के लिए हम Keyboard का यूज करते है. कंप्यूटर में इनपुट देने और टाइपिंग करने के लिए हमे इसका ज्ञान होना ही चाहिए.

कंप्यूटर कीबोर्ड के प्रकार – Different Types of Keyboard in Hindi

आज मार्केट में विभिन्न प्रकार के कीबोर्ड मौजूद है. जिन्हें अलग-अलग उद्देश्यों के लिए बनाया गया है. हम सभी जानते कि keyboard कंप्यूटर का एक important part है. लेकिन इसे खरीदते समय हम ये नही देखते है कि हमारे लिए कौन सा keyboard बेस्ट रहेगा. तो आइये विभिन्न प्रकार के कीबोर्ड और उनके उद्देश्य के बारे में जानते है.

Membrane Keyboard

इस प्रकार के computer keyboard को हम regular keyboard के नाम से जानते है. ये काफी सस्ते होते है और मार्केट में आसानी से मिल जाते है. अगर आपने एक computer खरीदा है तो उसके साथ आपको यही कीबोर्ड दिया जाता है. इसमे प्रत्येक button के नीचे rubber dome और membrane का use किया जाता है. जिसके कारण key press करने पर आप खट-खट की साउंड सुनते है.

ये उन लोगो के लिए बिल्कुल भी सही नही है, जो typing work ज्यादा करते है. हालांकि general use के लिए सबसे अधिक इन्हें ही इस्तेमाल किया जाता है.

Mechanical Keyboard

इनके प्रत्येक बटन के नीचे स्प्रिंग और स्विच का उपयोग किया जाता है, जिन्हें हम mechanical switches के नाम से जानते है. इसका फायदा ये है कि जब भी आप key press करते है. तो उसमे लगे spring के कारण ये उंगलियों को पीछे की तरफ अधिक push करता है. जिससे आपकी उंगलियों को आराम मिलता है और आप fast typing कर पाते है. ये Regular keyboard की तुलना में अधिक महंगे होते है.

Gaming Keyboard

गेमिंग के उद्देश्य से बनाये गए इन Keyboard में प्रत्येक button के नीचे mechanical switch का उपयोग किया गया होता है. जिससे आपको एक अच्छा gaming experience मिलता है. इन computer keyboard में आपको कई unique features देखने को मिलते है. साथ ही आपको different color की back-lighting भी देखने को मिलती है. Price के मामले ये अधिक expensive होते है.

Ergonomic Keyboard

अगर आप continuously typing करते है तो Ergonomic keyboard आपके लिए सबसे बेहतर है. क्योंकि इसका design V shape में होता है. जिससे इसे उपयोग करना आपके लिए comfortable हो जाता है. इसका उद्देश्य आपके typing experience को अधिक कुशल बनाना और आपकी उंगलियों को आराम देना है.

Wireless Keyboard

आमतौर पर computer से connect होने के लिए ये कीबोर्ड WiFi या Bluetooth का यूज करते है. मूल रूप से ये mechanical या membrane keyboard हो सकते है. आजकल मार्केट में wireless keyboard और mouse आम है. अगर आप केबल वाले कीबोर्ड का उपयोग नही करना चाहते तो ये आपके लिए एक अच्छा विकल्प है.

Multimedia Keyboard

एक regular keyboard की तुलना में इनमे कई function के लिए extra key होती है. इसमे volume control और play/pause जैसे button भी दिए गए होते है. अगर आप एक छात्र है, तो इस तरह के computer keyboard आपके लिए फायदेमंद हो सकते है. इससे आप अपने कंप्यूटर को एक ही जगह से कंट्रोल कर सकते है.

ये थे कुछ मुख्य keyboards Type अगर आपको इसके अलावा कीबोर्ड के किसी और प्रकार के बारे में जानकारी है. तो नीचे कमेंट कर हमें जरूर बताये. आइये अब इसके कुछ button style के बारे में जानते है.

विभिन्न प्रकार के कीबोर्ड लेआउट

Different types of keyboard layout:-

QWERTY: ये कंप्यूटर या लैपटॉप में सबसे अधिक उपयोग होने वाला कीबोर्ड लेआउट है. इसके अलावा QWERTY को ही first keyboard layout के रूप में उपयोग किया गया था. वर्ष 1873 में इसे Christopher Latham Sholes ने present किया था. इस लेआउट को डिज़ाइन करने का मकसद typing में होने वाली mistakes को कम करना था.

Dvorak: वर्ष 1936 में August Dvorak ने Dvorak keyboard layout को प्रस्तुत किया था. ये कीबोर्ड speed typing के लिए डिज़ाइन किया गया था. इसमे common letters की key को ऐसे लगाया गया था जिससे वे जल्दी टाइप किये जा सके. अधिकतर पेशवर टाइपराइटर इन्ही keyboard layout का उपयोग करते है.

AZERTY: फ्रांस में बना ये keyboard layout अधिकतर France में ही उपयोग किया जाता है. दिखने में बिल्कुल QWERTY layout की तरह ही होता है परन्तु इसमे लगे पहले six letter इसके नाम पर दिए गए है. हालांकि ये कई संस्करण में आते है.

Colemark: यह एक आधुनिक कीबोर्ड लेआउट है. ये वैज्ञानिक रूप से एक typewriter को fast speed में typing करने की सुविधा देता है. इसे QWERTY और Dvorak keyboard layout का upgrade version माना जाता है.

Keyboard का यूज कैसे करते है

Keyboard का यूज करना बहुत आसान है, आप नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके इसे आसानी से उपयोग कर सकते है:

  1. कीबोर्ड का उपयोग करने से पहले आपको इसे computer से connect करना होगा.
  2. टेक्स्ट, नंबर या कमांड को इनपुट करने के लिए आपको keys के बारे में बेसिक जानकारी होनी चाहिए (नीचे सभी keys के नाम और उनके कार्यो के बारे में बताया गया है).
  3. टाइप करने से पहले आपको finger position का भी ध्यान रखना है.
  4. उदाहरण के लिए आपके left-hand के तीन fingers की position A, S, D पर होनी चाहिये और right-hand fingers की position J, K, L keys पर होनी चाहिए.
  5. “Practice Make Men Perfect” जी हाँ, अब आपको रोजाना टाइपिंग का अभ्यास करना है. जिससे आप कुछ ही समय मे कीबोर्ड चलाना सीख जाएंगे.

Keyboard में कितने Type की Keys होती है

Keyboard keys उन buttons को कहा जाता है, जिन्हें press करके हम computer में text, symbols या command को input करते है. एक windows keyboard की बात की जाए तो उसमें keys की संख्या 104 होती है. हालांकि अलग layout के हिसाब से इनकी स्थिति अलग हो सकती है, परन्तु मूल रूप से सभी कीबोर्ड में keys समान ही होती है. नीचे हमने इन keys को इनके functions के आधार पर सात categories में बांटा है.

1) Alphanumeric Keys

एक keyboard में मौजूद letters और numbers को alphanumeric keys के नाम से जाना जाता है. इनमे alphabets (A-Z) और numbers (0-9) के लिए कुंजियां होती है. अगर आप एक QWERTY keyboard की तरफ ध्यान दे तो आप पायेंगे top row से नीचे के बटन numbers के होते है और इसके बाद कि तीन पंक्तिया letters के लिए दी गयी होती है. सामान्य कीबोर्ड में आपको बाई तरफ के सिरे में भी numeric keys की सुविधा मिल जाएगी. ये typing के लिए important key की लिस्ट में सबसे उप्पर आती है.

2) Punctuation Keys

वे सभी extra symbols जिन्हें हम full stop(.), comma (,), question mark (?), dash (-), etc. के नाम से जानते है, punctuation marks कहलाते है. इनका उपयोग writing में आम है और ये काफी महत्वपूर्ण भी है. Keyboard में आपको number और symbols के लिए एक ही बटन दिया गया होता है. आप इन्हें shift key के साथ press करके यूज कर सकते है.

3) Function Keys

कीबोर्ड के top-line में F1-F12 तक के बटन को function key कहा जाता है. ये सभी key अलग-अलग function को perform करने के लिए design की गई होती है. जैसे F3 को find bar खोलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. इन्हें हम shortcut key भी कहते है.

4) Toggle Keys/Indicator Keys

Functions को on or off या switch करने के लिए toggle keys का उपयोग होता है. ये कुल तीन प्रकार की होती है जिनमे Num Lock, Caps Lock, और Scroll Lock key शामिल होते है.

5) Cursor Control/ Navigation Key

Screen पर cursor को उप्पर-नीचे या दाएं से बाएं move कराने या command देने के लिए इन keys का उपयोग किया जाता है. इन्हें cursor control keys भी कहते है. ये निम्न प्रकार की होती है. Enter, Insert, Home, Page Up, Delete, End, Page Down, Arrow Key, Tab Key, Space key और Backspace ये सभी इसके अंतर्गत आती है.

6) Modifier Keys

इसके अंतर्गत आपके Keyboard में मौजूद Ctrl key, Alt key, और Shift key आती है. इनका उपयोग करने के लिए अक्सर आपको इन्हें किसी दूसरी key के साथ इस्तेमाल करना होता है. उदाहरण के किसी text को copy करने के लिए आपको Ctrl+A दबाना होता है. इन्हें अक्सर shortcut key भी कहा जाता है. Typing में इनका यूज सबसे अधिक होता है.

7) Special Keys

ये key हमे कंप्यूटर पर कुछ अतिरिक्त control की अनुमति देता है. इसमे Esc key और Windows key शामिल है. नीचे हम इन सभी के बारे में विस्तार से जानेगें.

Keyboard All Keys & Their Functions

QWERTY Keyboard IMG
Keys NameFunctions
AlphabetsA से Z तक के अक्षर वाली कुंजियां
Number0 से 9 तक के नंबर वाली कुंजियां
F1-F12इन्हें Function Key कहते है ये अलग-अलग कार्यो के लिए होती है.
Enterकिसी कमांड या ऑपेरशन को निष्पादित करती है साथ ही डॉक्यूमेंट में कर्सर को नेक्स्ट लाइन में भेजती है.
Backspaceये कर्सर की वर्तमान स्थिति से पहले के सभी कैरेक्टर को डिलीट कर देता है.
Windowsइसका यूज स्टार्ट मेनू को ओपन करने के लिए होता है
Menuये विंडो key के साथ मे ही होती है और राइट क्लिक का काम करती है.
Escकिसी चल रहे प्रोग्राम या ऑपेरशन को रोकने के लिए इसका यूज होता है.
Caps lockइसे दबाने से हम लेटर को कैपिटल या स्मॉल के बीच में स्विच कर सकते है.
Tabटैब key आपको अलग-अलग डॉक्यूमेंट या वेब पेज के बीच स्विच करने की अनुमति देता है.
Shiftये यूजर को एक कैपिटल लेटर टाइप करने और शिर्ष नम्बर कुंजियों को सिंबल में बदलने की अनुमति देता है.
Ctrlइसे दूसरी कुंजियों के साथ शॉर्टकट key के रूप में उपयोग किया जाता है.
Altये भी एक टाइप की शॉर्टकट key है, जिसका उपयोग दूसरी कुंजियों के साथ किया जाता है.
Spacebarएक सेन्टेंस में वाक्यों या कैरेक्टर को सेपरेट करता है या उनके बीच स्पेस बनाता है.
Arrowsकर्सर को उप्पर-नीचे या दाएं-बाएं ले जाने के लिए इनका उपयोग होता है.
Deleteशब्दों को आगे से डिलीट करता है.
PrtScrnइसे दबाने पर ये करंट पेज की स्क्रीन शॉट पेंट सॉफ्टवेयर के पास भेज देता है.
Scroll lockपेज स्क्रॉलिंग को डिसेबल कर देता है.
Pause Breakकंप्यूटर में चल रहे प्रोग्राम या प्रोसेस को अस्थायी रूप से रोकता है.
Insertटेक्स्ट एडिटर या वर्ड प्रोसेसर में इन्सर्ट मोड को ऑन और ऑफ करने के लिए उपयोग होती है.
Homeडॉक्यूमेंट या पेज के स्टार्टिंग पॉइंट में पहुचने के लिए इसका यूज होता है.
Page upडॉक्यूमेंट या वेब पेज पर उप्पर जाने के लिए यूज करते है.
Page downपेज में नीचे जाने के लिए यूज किया जाता है.
Endकिसी पेज के लास्ट में जाने के लिए इसे दबाते है.
Num lockये keyboard में दिए अतिरिक्त numeric key को डिसेबल या इनेबल करता है.
`Back quote
!Exclamation mark
~Tilde
#Hash
@at symbol
$Dollar sign
%percent
^Caret
&and symbol
*Asterisk or star
(Left parenthesis
)Right parenthesis
_Underscore
Hyphen
+Plus.
=Equal
\Forward slash
/Backslash
|Pipe
£Pound symbol.
Euro sign.
Cent symbol.
¥Yuan symbol
§Section.
°Degree.
{}Curly bracket
[Open bracket
]Close bracket
:Colon.
;Semicolon.
Quotation mark or inverted commas.
<Less than.
>Greater than.
,Comma.
.Dot or full stop.
?Question mark

कीबोर्ड की लैंग्वेज कैसे चेंज करे

हमारे keyboard की default language English होती है. लेकिन यदि आप हिंदी language में typing सीखना चाहते है, तो उसके लिए पहले आपको कीबोर्ड भाषा को change करना होगा. इसके लिए आप नीचे दिए गए तरीके का इस्तेमाल कर सकते है.

  1. Keyboard में मौजूद Windows key को press करे और फिर control panel को open करे.
  2. अब Regional and Language पर click करे.
  3. यहाँ Keyboard and language वाली tab में click करे फिर Change keyboard पर click कर दे.
  4. Genral tab में ADD पर click करे.
  5. अब यहाँ से अपनी language select करके OK पर क्लिक कर दे.
  6. आपके द्वारा Add की गई input language बाहर list में show होने लगेगी. अब आपने उसे select करके OK पर क्लिक करना है.

इस प्रक्रिया को करने के बाद आप अपनी keyboard language को हिंदी में बदल पाएंगे. इसके अलावा आप कभी भी नीचे language bar से वापस English में switch कर सकते है. Alt+Shift key को साथ मे press करके भी आप select language के बीच स्विच कर सकते है.

PS/2 व USB Keyboard में Difference

PS/2 Keyboard एक 6 pin के PS/2 port के साथ आते है. ये अधिकतर IBM के पुराने कंप्यूटरों के साथ उपयोग होते थे. हालांकि आज के नए Motherboard model भी में PS/2 port को जोड़ने के लिए connector दिए जाते है. ये काफी fast response करता है. यानी अगर आप कोई key press करते है, तो ये तुरंत CPU को interrupt करता है. जिससे आपके स्क्रीन पर वो character दिखाई देता है. Professional gamer और IT expert आज भी PS/2 port को उपयोग में लेते है.

USB keyboard कंप्यूटर से जुड़ने के लिए USB port का यूज करते है. सभी modern computers में इसी प्रकार के कीबोर्ड को उपयोग में लिया जाता है. ये एक plug and play interface है यानी इसे computer से connect करते ही ये काम करना शुरू कर देता है. जबकि PS/2 port में आपको पहले कुछ setting करनी होती है. हालांकि ऐसा माना जाता है, कि PS/2 के compare में USB का response time कम होता है.

इसका कारण ये है कि जब भी आप keyboard उपयोग करते है. तो CPU को बार- बार इससे पूछना पढ़ता है, कि क्या करना है. जिससे response करने में थोड़ा delay हो जाता है. परन्तु अब ये उतना मायने नही रखता क्योंकि आजकल के CPU काफी powerful होते है. जो आपको इस देरी का पता चलने नही देते.

Conclusion

इस लेख में आपने जाना Keyboard क्या है इसका यूज कैसे करते है. ये पोस्ट पढ़ने के बाद आपने एक बात समझी होगी कि Keyboard एक computer या laptop का कितना essential part है. बिना इसके आप सिस्टम में कुछ भी input नही कर सकते. कुल मिलाकर अगर आप कंप्यूटर में काम करना चाहते है, तो आपको कीबोर्ड के बटन और उनके उपयोग के बारे में पता होना चाहिए.

इस पोस्ट में हमने आपको Computer Keyboard के विषय मे पूरी जानकारी देने की कोशिश की है. उम्मीद है, इससे आपको बहुत कुछ जानने को मिला होगा. अगर आपके पास कोई सवाल या सुझाव है, तो कृपया अपने विचार नीचे comment में हमारे साथ जरूर शेयर करे. धन्यवाद

3 COMMENTS

  1. आपका बोलोक बोहुत हि आचाहे आपने देई हुई जानकारी भूतही आची हे

  2. आपने कीबोर्ड के बारे में बहुत ही अच्छा जानकारी प्रदान किया हाई, इसी तरह लोगों को कुछ ना कुछ सिखाते रहिए आपका धन्यबाद ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here