मदरबोर्ड क्या है और इसके कार्य? – Motherboard in Hindi

इस लेख में आप जानेंगे Motherboard क्या है और इसका क्या काम है? हम सभी computer का उपयोग अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में करते है और एक मदरबोर्ड, कंप्यूटर.का सबसे प्रमुख घटक (major component) है. इसे main circuit board, mainboard, system board, baseboard और logic board जैसे दूसरे नामो से भी जाना जाता है. ऐसा नहीं है, कि motherboard सिर्फ कंप्यूटर का हिस्सा है. phones के अंदर भी मदरबोर्ड पायी जाती है, जिन्हे हम लॉजिक बोर्ड के नाम से जानते है. 

Motherboard Kya Hai in Hindi

जबसे कंप्यूटर का अविष्कार हुआ है, तब से ही motherboard इसका एक अहम हिस्सा है. हालाँकि पुरानी मदरबोर्ड में सिर्फ कुछ ही components होते थे. जैसे- IBM के द्वारा बनायीं गयी पहली PC Motherboard में सिर्फ processor और card slot मौजूद थे. परन्तु अगर आप आज की motherboard को देखे तो इनमे आपको विभिन्न प्रकार के features मिलेंगे. यही कारण है, कि आज के computer इतने capable है. 

इस पोस्ट में हम आपको मदरबोर्ड और उसके कार्य क्या है? इस बारे में पूरी जानकारी देंगे. साथ ही हम आपको computer motherboard के मुख्य पार्ट्स और उनके कार्यो के बारे में भी विस्तार से बताएँगे ताकि आप मदरबॉर्ड की पूरी जानकारी प्राप्त कर सके. तो चलिए सबसे पहले जानते है, मदरबोर्ड क्या होता है? फिर इसके बाकि पहलुवों पर बात करेंगे. 

मदरबोर्ड क्या है? (What is Motherboard in Hindi)

Motherboard, कंप्यूटर में मौजूद एक “Main Printed Circuit Board (PCB)” है. जो विभिन्न internal components को आपस में connect करता है और बाहरी उपकरणों (external peripherals) को computer से जोड़ने के लिए connectors प्रदान करता है. इसे कंप्यूटर सिस्टम का सबसे महत्वपूर्ण भाग माना जाता है. अगर आप एक motherboard के चित्र को देखे तो उसमे आपको हरे रंग का एक circuit board दिखाई देगा, जिसमे बहुत सारे equipment लगे हुवे होंगे. 

मदरबोर्ड से जुड़े कुछ important equipment में Central Processing Unit (CPU), RAM, Hard disk और I/O devices (Keyboard, Mouse, Monitor, USB devices etc.) को जोड़ने के लिए connectors शामिल है. देखा जाये तो कंप्यूटर में power supply करने से लेकर अन्य hardware components के बिच communication करवाने तक का सारा काम motherboard का होता है. यहाँ तक की कंप्यूटर का  हर एक पार्ट किसी न किसी तरह से मदरबोर्ड में जुड़ा होता है. 

मदरबोर्ड के कार्य – Functions of Motherboard

मदरबोर्ड के कुछ प्रमुख कार्य:

  • Central Backbone: अक्सर मदरबोर्ड को कंप्यूटर की रीढ़ की हड्डी कहा जाता है. वो इसलिए क्युकी computer के दूसरे आवश्यक घटक (essential components) जैसे- रैम, हार्ड डिस्क, सीपीयू इत्यादि सभी को motherboard में इनस्टॉल किया जाता है. अर्थात मदरबोर्ड सभी कंप्यूटर हार्डवेयर के लिए जमीन का काम करती है. 
  • External Peripherals के लिए Slots प्रदान करना: बाहरी उपकरणों को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए motherboard में कई expansion slots लगे होते है. इन स्लॉट्स की मदद से आप कंप्यूटर में extra expansion card (नेटवर्क कार्ड, साउंड कार्ड, फायरवायर कार्ड, ईथरनेट कार्ड, लेन कार्ड इत्यादि) जोड़ सकते है. 
  • Computer में Power Supply का काम: कंप्यूटर के विभिन्न घटको के लिए बिजली आपूर्ति का काम भी मदरबोर्ड का होता है. सबसे पहले power connector की मदद से बिजली motherboard तक पहुँचती है, उसके बाद मदरबोर्ड से जुड़े various components को power supply की जाती है.
  • Data Flow को नियंत्रित करना: मदरबोर्ड इससे जुड़े सभी components के लिए संचार केंद्र (communication hub) के रूप में कार्य करता है. यह computer system के भीतर सूचना यातायात के प्रबंधन के लिए जिम्मेदार है. आसान भाषा में सभी उपकरण motherboard की मदद से आपस में data को receive और send कर पाते है.
  • BIOS: मदरबोर्ड Basic I/O system को भी hold करता है, यह कंप्यूटर सिस्टम की boot process के लिए आवश्यक है. 

मदरबोर्ड के प्रकार- Types of Motherboard in Hindi 

कंप्यूटर के विकास के साथ ही मदरबोर्ड की क्षमता व आकार में भी बदलाव आये है. हमारे पास विभिन्न प्रकार की motherboard उपलब्ध है और ये सभी एक – दूसरे से भिन्न है. तो चलिए इनके बारे में विस्तार से जानते है.

AT Motherboard

Computer में इस्तेमाल होने वाली सबसे पुरानी मदरबोर्ड में AT Motherboard का नाम आता है, इसे  “Full AT” भी कहते है. AT का मतलब है, Advance technology अर्थात board में नयी तकनीक के power connectors मौजूद है. Motherboard के प्रत्येक माउंट में 6 pin के दो पावर कनेक्टर लगे होते थे. मदरबोर्ड की लम्बाई 351mm और चौड़ाई 305mm होती थी. अपने आकार के कारण ये मदरबोर्ड, mini desktop में फिट नहीं होता था. 

Motherboard के इस dimensions के कारण ही इसमें नई drives को स्थापित करना मुश्किल होता था. इस motherboard को 1980 के दशक में IBM द्वारा बनाया गया था. जिसके बाद लगभग कई दशकों तक AT motherboard और इसके variants (Baby AT) ने कंप्यूटर बाजार में अपनी अच्छी पकड़ बनाये रखी. लेकिन 1997 के बाद AT form factor को ATX द्वारा दबा दिया गया. 

ATX Motherboard

लगभग 1990 के दशक में Intel द्वारा ATX Motherboard (Advanced technology extended) को प्रस्तुत किया गया. ये AT family की मदरबोर्ड से बहुत अलग थी. पुरानी मदरबोर्ड के मुकाबले आकार (305×204mm) में भी एटीएक्स काफी हद तक छोटी थी. इस प्रकार की मदरबोर्ड में advance control की सुविधाएं उपलब्ध थी. इसके अलावा कई दूसरे महत्वपूर्ण बदलाव भी ATX Motherboard में किये गए थे. 

जैसे- एक keyboard connector जोड़ा गया था और पीछे की plats में विभिन्न add-ons के लिए extra slots दिए गए थे. इसमें BIOS program की मदद से power management किया जा सकता था. विभिन्न विशेषताओं के कारण ही एटीएक्स  को आज भी उपयोग में लिया जाता है. ATX family में Full ATX, Micro ATX और Flex ATX मदरबोर्ड भी शामिल है. 

Mini ITX Motherboard

इस प्रकार की मदरबोर्ड small form factor वाले computer system में उपयोग की जाती है. इसे 2001 में VIA Technologies द्वारा बनाया था. Mini ITX का आकार 6.7 × 6.7 inch होता है, जो किसी भी अन्य motherboard से कम है. छोटे आकार और fan-less cooling के कारण ये मदरबोर्ड सबसे less power consumption करती है. motherboard के कम साइज के कारण इसमें कुछ ही USB connectors होते है. इसके अलावा PCI slot की संख्या भी एक ही होती है. कुल मिलाकर ये पूरी तरह से एक छोटे आकार के PC में उपयोग की जाती है. 

इसके अलावा भी कई प्रकार की motherboards उपलब्ध है, परन्तु उप्पर बताई गयी मदरबोर्ड अधिकतर उपयोग में ली जाती है. तो अब तक आपने जाना कंप्यूटर मदरबोर्ड क्या है और क्या काम करता है? इसके साथ ही हम आपको मदरबोर्ड के कुछ प्रमुख प्रकारो की जानकारी भी दे चुके है. चलिए अब motherboard पर स्थापित महत्वपूर्ण parts के नाम और उनके functions के बारे में जानते है. 

Motherboard  के प्रमुख Parts और उनके Functions

कंप्यूटर के सभी पार्ट्स को एक साथ जोड़ने के लिए computer motherboard एक platform की तरह है. निचे उन पार्ट्स के नाम और उनके कार्यो के बारे में बताया गया है.

Parts of a Motherboard
  1. CPU Socket: ये मदरबोर्ड में लगा सबसे महत्वपूर्ण सॉकेट है, क्युकी इसमें CPU (सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट) यानि computer brain को फिट किया जाता है.  इसे processor भी कहते है, जिसका काम program instructions को लाने उनकी processing करने और data को transfer करना होता है. 
  2. RAM Slots: कंप्यूटर का वो स्थान जहां रैम (रैंडम एक्सेस मेमोरी) को लगाया जाता है. RAM, computer performance को बढ़ाने के लिए dynamic data को temporarily store करके रखती है. 
  3. I/O Ports: मदरबोर्ड में मौजूद ये ports कंप्यूटर के Input / Output components को computer से connect करने का काम करते है. इनमे keyboard, mouse, microphone, speaker, monitor, USB devices, Ethernet network cable और headphones को जोड़ने के लिए पोर्ट्स शामिल है. 
  4. North Bridge Chipset: नार्थ ब्रिज या host bridge एक micro chip है, जो सीधे CPU से जुडी होती है. इसका काम RAM,hard disk और PCI devices को manage करना है. नए motherboard में ये heat sink के निचे मौजूद होती है. 
  5. SouthBridge Chipset: इसे IC chip भी कहते  है, जो northbridge से connect होता है. ये सभी input/output functions को control करने का काम करता है.  
  6. Power Connector: ये 20-24 pin का एक पावर कनेक्टर है. जो SMPS (Switch Mode Power Supply) से connect होता है. इसका काम Electricity खींचना और मदरबोर्ड में power supply करना होता है. आप कह सकते है, computer system को संचालित करने के लिए आवश्यक बिजली आपूर्ति का काम इन्ही connector द्वारा किया जाता है.
  7. Expansion Card Slots: मदरबोर्ड में लगे वो स्लॉट्स जहां आप अतिरिक्त कार्ड को स्थापित कर सकते है. ये तब काम आते है, जब आप अपना PC upgrade करना चाहे. इन कार्ड स्लॉट्स को AGP slots (Accelerated Graphics Port) और PCI slots के नाम से जाना जाता है. इनकी मदद से आप अपने motherboard में extra  graphic card, audio card, network card और modem card लगा सकते है.
  8. IDE Connector: IDE जिसका पूरा नाम Integrated Drive Electronics है, ये computer के अंदर hard disk और optical disc devices को नियंत्रित करने के लिए जिम्मेदार होता है. हालाँकि आज motherboard में नए प्रकार के कनेक्टर इस्तेमाल किये जाते है, जिनमे SATA connector शामिल है. IDE के 40 pin के मुकाबले ये 7 pin वाला कनेक्टर है.
  9. CMOS Battery: इसकी फुल फॉर्म है, Complementary Metal Oxide Semi-Conductor ये बैटरी संचालित चिप है, जो date एंड time और hardware setting जैसी information को स्टोर करके रखती है. 
  10. Heat Sink: एक metal device  है, जो मदरबोर्ड के गर्म होने पर high temperature को absorb कर लेता है. जिससे गर्म हुए पार्ट्स अधिक गर्म नहीं होते और वे सही तरह से काम कर पाते है. मदरबोर्ड में ये नार्थ ब्रिज के उप्पर स्थापित होता है. 

इसके अलावा motherboard में कई छोटे-छोटे दूसरे पार्ट्स भी लगे होते है. इतना कुछ जानने के बाद आप एक बात तो समझ गए होंगे कि एक computer motherboard की क्या भूमिका है. चलिए अंत में मदरबोर्ड की विशेषताएं क्या है इस पर एक नजर डालते है. 

मदरबोर्ड की विशेषताऍ – Characteristics

एक कंप्यूटर में Motherboard की महत्वता किसी भी दूसरे computer hardware से कही अधिक है. हालाँकि कंप्यूटर के बेहतर कार्य करने के लिए प्रत्येक घटक महत्वपूर्ण है. चलिए हम आपको बताते है, कि मदरबोर्ड की कौन सी विशेषताएं इसे कंप्यूटर का सबसे महत्वपूर्ण अंग बनाती है. जैसा की हमने आपको बताया motherboard एक circuit board है जिसके उप्पर सभी महत्वपूर्ण internal computer hardware जैसे – सीपीयू इत्यादि लगे होते है. 

एक motherboard ना सिर्फ उन components के बैठने के लिए जगह प्रदान करता है, बल्कि उनका सीपीयू के साथ communication भी कराता है , जिससे वे data को आपस में share कर पाते है. इसके साथ ही मदरबोर्ड में कई slots लगे होते है, जो external devices जैसे  – माउस को computer में जोड़ने का काम करते है. जिससे आप कंप्यूटर को input देते है और output प्रदान करते है. 

Motherboard इससे जुड़े सभी कंप्यूटर घटकों के लिए जरुरी power supply का काम भी करती है. अर्थात कंप्यूटर को चालू करने से लेकर operate करने तक सभी महत्वपूर्ण कार्यो में motherboard की उपयोगिता को बिलकुल नकारा नहीं जा सकता. यदि हम CPU को कंप्यूटर का brain मानते है, तो मदरबोर्ड उसका nervous system है. 

Conclusion 

इस पोस्ट में आपने जाना Motherboard क्या है और इसका क्या काम है? अगर आप कंप्यूटर साइंस के छात्र है या computer को अच्छे से समझना चाहते है, तो motherboard एक महत्वपूर्ण विषय है. उम्मीद है, हमारे द्वारा दी गयी मदरबोर्ड की जानकारी से आपको इसे समझने में मदद मिली होगी. फिर भी अगर आपको इससे संबंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया comment के माध्यम से हमें जरूर बताये.

इन्हे भी पढ़ें

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here