माउस क्या है इसकी परिभाषा कार्य और प्रकार?

1

इस लेख में हम आपको बताएंगे What is Mouse in Hindi (माउस क्या है?). आप सभी Computer Mouse से अच्छी तरह से परिचित होंगे क्योंकि ये कंप्यूटर में उपयोग होने वाली सबसे प्रमुख Input Device है. एक माउस को ‘Mice’ भी कहा जाता है, जो इसका बहुवचन (plural) नाम है. यदि इस पोस्ट में आपको कही ये शब्द दिखाई दे तो हमारा इशारा Mouse की तरफ ही होगा.

Mouse Kya Hai Hindi

कई सालों पहले विकसित हुई ये डिवाइस आज लगभग सभी Desktop Computer के साथ उपयोग की जाती है. हालांकि पुराने mice आज के optical mouse से भिन्न होते थे उन्हें हम trackball mouse के नाम से जानते है. इस उपकरण का प्रमुख कार्य cursor movement को control करना होता है.

उदाहरण के लिए इसकी मदद से हम computer display में प्रदर्शित items पर cursor को point, select, या click कर पाते है. इस पोस्ट में आगे हम आपको detail में explain करेंगे कि कंप्यूटर माउस क्या होता है और इसके उपयोग साथ ही Mouse कितने प्रकार के होते है इस बारे में भी प्रकाश डालेंगें. तो चलिए सबसे पहले माउस की परिभाषा को समझते है.

माउस क्या है – What is Mouse in Hindi?

Mouse एक कंप्यूटर हार्डवेयर है, जिसे हम Input Device भी कहते है. ये display screen पर cursor या pointer की movement को control करता है. Mice आज computer में व्यापक रूप से इस्तेमाल होने वाली डिवाइस है. इसे कंप्यूटर के साथ केबल या वायरलेस तरीके से जोड़ा जाता है.

माउस एक handheld इनपुट डिवाइस है, इसे किसी desk या mouse pad के उप्पर रखकर इस्तेमाल किया जाता है. आमतौर पर Mouse में two Button (left & Right) और एक scroll wheel होती है. इन बटनों के उपयोग से आप स्क्रीन पर टेक्स्ट को सलेक्ट या मूव करा सकते है वही स्क्रोल व्हील के द्वारा किसी पेज पर उप्पर-नीचे जा सकते है.

History of Mouse

“Mouse” का अविष्कार सन 1964 में Douglas Engelbart ने किया था. इसको एक लकड़ी के बक्से के रूप में डिजाइन किया गया, जिसमे एक सर्किट बोर्ड और दो धातु के पहिये लगे होते थे. इस Mice को पहली बार Xerox Alto computer के साथ उपयोग किया गया. इससे पहले तक Mouse नही था बल्कि कीबोर्ड पर command type करके data input किया जाता था.

First computer mouse invented Douglas Engelbart
पहला कंप्यूटर माउस जिसे डगलस एंगेलबार्ट ने सन 1964 में बनाया था.

सन 1972 में Ball Mouse ने इसका स्थान लिया जिसमे ball से wheels को replace कर दिया गया. इसे Bill English द्वारा बनाया गया था. इसका फायदा ये था कि अब mice को किसी भी दिशा में घुमा सकते थे. कुछ सालों बाद Steven Kirsch ने mice को एक नई तकनीक के साथ पेश किया जिसे Optical Mouse नाम दिया.

ये मॉडल Mouse की movement को trace करने के लिए light का उपयोग करता है. अधिकतर modern computers में हम optics model के mice उपयोग करते है.

माउस के कार्य

Functions of Mouse:

  • एक Computer mouse यूजर को cursor एक जगह से दूसरी जगह move करने की अनुमति देता है.
  • ये हमे कंप्यूटर स्क्रीन पर text को select करने, files को drag करने, और items पर click करने में मदद करता है.
  • Mice में मौजूद wheel की मदद से हम किसी page को Up and Down scroll कर सकते है.
  • उपयोगकर्ता किसी भी Files या Application पर Double click करके उसे open कर सकते है.

माउस के पार्ट्स और उनके फंक्शन

Parts of Ball Mouse with name
कंप्यूटर माउस के पार्ट्स और उनके नाम

आधुनिक कंप्यूटर माउस के प्रमुख पार्ट्स और उनके कार्य नीचे दिए गए है.

  1. Left और right button: लगभग सभी आधुनिक mice में ये बटन होते है. Left button को press करके हम object को select कर सकते है और इसे double-click करके किसी program को execute किया जाता है. वही Right button को दबाने पर contextual menus का pop-up खुलता है.
  2. Scroll wheel: ये दो बटनों के बीच मौजूद होती है, जो हमे एक page पर scroll करने में मदद करती है.
  3. Ball, Laser और LED: यदि माउस एक mechanical mouse हो, तो उसमे computer screen पर pointer को X-Y direction में move करने के लिए Ball का उपयोग होता है. इसके विपरीत optical mouse में laser या LED light लगी होती है.
  4. Circuit board: जो इनपुट हम दे रहे है, उसे signal में बदलकर computer तक transmit करने के लिए mice के भीतर एक board मौजूद होता है.
  5. Cable: Computer से mice को connect करने के लिए इस केबल का यूज होता है. ये केबल USB या PS/2 port के साथ आती है.

अधिकतर सामान्य Mouse में यही पार्ट्स मौजूद होते है. हालांकि गेमिंग या किसी विशिष्ट प्रकार के माउस में इससे अधिक फंक्शन भी दिए जाते है. आइये अब Mice में इस्तेमाल होने वाले विभिन्न connection types के बारे में जानते है.

कंप्यूटर माउस के विभिन्न Connection Types

कंप्यूटर से माउस को कनेक्ट करने के लिये Mouse कई प्रकार के ports में आते है. आइये उन विभिन्न प्रकार के पोर्ट के बारे में जाने.

PS/2

Personal System/2 या PS/2 एक port है, जो mouse को computer से connect करने के लिए उपयोग होता है. IBM द्वारा बनाया गया ये पोर्ट पुराने personal computer में सबसे अधिक देखने को मिलता है. PS/2 port का डिज़ाइन एक mini DIN plug की तरह दिखता है जिसमे six pin होते है. आज के समय USB connectors ने इन्हें लगभग पूरी तरह से replace कर दिया है.

हालांकि अभी भी कई कंप्यूटर मदरबोर्ड में PS/2 port के लिए अतिरिक्त slot दिए जाते है. पहले के समय ये technology लगभग सभी PC mouse और keyboard में देखने को मिलती थी.

USB

इनका डिजाइन बाकी प्रकार के mice की तरह ही होता है. लेकिन इन्हें computer से connect करने के लिए USB port का उपयोग किया जाता है. सभी peripheral devices के connection को standardize करने के लिए ये port सबसे उपयोगी है. Universal Serial Bus शार्ट में USB, plug and play interface को support करता है.

USB पोर्ट hot plugging का समर्थन करते है. इसका मतलब ये है, कि बिना computer को turn off किये आप USB को कनेक्ट कर सकते है. आज हम अपने कम्प्यूटरों में अधिकतर USB port वाले mice का इस्तेमाल करते है.

Serial Port

इन mice में कंप्यूटर से connection स्थापित करने के लिए serial port का उपयोग किया जाता है. ये एक D-type 9 pin male port (DB9M) है, जो दूसरे प्रकार के mouse की तरह ही two dimensional motion का पता लगाने के सिद्धांत पर काम करता है.

Serial port एक physical communication interface होता है. इसके माध्यम से data या जानकारी को bit by bit कंप्यूटर में इन और आउट किया जाता है. आज के समय serial port वाले mice अप्रचलित है, क्योंकि इनकी जगह PS/2 और USB mouse ने ले ली.

Wireless Mice

ये mice कंप्यूटर से जुड़ने के लिए किसी भी तरह की cable या wire का उपयोग नही करते है. बल्कि ये wireless technology जैसे – Bluetooth, RF, और infrared radio waves के माध्यम से कंप्यूटर में जोड़े जाते है. ये तकनीक अभी नई है और तेजी से मार्केट में फैल रही है. इसके साथ ही ये आपके डैस्कटॉप पर केबलों की अव्यवस्था को समाप्त करता है.

इन mouse के साथ एक USB receiver आता है, जिसे आप अपने कंप्यूटर में लगाने के बाद इसे bluetooth से connect कर यूज कर सकते है. इस प्रकार के माउस को Cordless mouse भी कहते है.

Bus Mice

वो mice जिन्हें सबसे पहले computer में उपयोग किया गया था. तब इन्हें Bus mice के नाम से संदर्भित किया गया. इनका उपयोग उस समय IBM personal computer में किया गया था. इन्हें PC से जोड़ने के लिये विशेष bus interface का यूज किया जाता था जिसे ISA add in card के माध्यम से implement किया गया था.

Computer Mouse के Drivers

हम सभी जानते है, कि Mouse एक piece है computer hardware का. तो फिर वो काम कैसे करता है यानी किसी भी command को कंप्यूटर तक कैसे पहुँचाता है. इसके लिए आपके कंप्यूटर में एक उचित device driver को install किया जाता है. ये driver एक प्रकार का सॉफ्टवेयर होता है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) के साथ communicate करके उसे बताता है कि mice की तरफ से क्या निर्देश दिए जा रहे है.

Mouse ही नही बल्कि बाकी सभी हार्डवेयर डिवाइस उनके drivers के बिना computer को सही ढंग से data send करने और receive करने में सक्षम नही होंगे. यदि कभी सब ठीक होने के वावजूद भी आपका mice काम नही कर रहा तो इसका मतलब आपका mouse driver missing है. जिसे आपको फिर से इनस्टॉल करना होगा.

माउस के प्रकार – Mouse Types in Hindi

आज हमारे पास Mouse के विभिन्न प्रकार मौजूद है, जिन्हें आप अपनी सुविधा के अनुसार उपयोग में ले सकते है. आइये उन विभिन्न प्रकार के माउस के बारे में जाने.

Wired Mouse

वे Mouse जिन्हें कंप्यूटर से connect करने के लिए cable का उपयोग होता है Wired या Corded mouse कहलाते है. ये USB और PS/2 port के साथ आ सकते है. आज भी कई gamers और designers इनका इस्तेमाल करना पसंद करते है, क्योंकि इन mice में less input lag होता है.

इनका फायदा ये भी है, कि इन्हें आपको charge करने के लिए battery की जरुरत नही पड़ती. ये cable के द्वारा ही power लेते है. इसके अलावा ये कम price के साथ मार्केट में आसानी से उपलब्ध होते है.

Mechanical Mouse

इन mouse में movement को detect करने के लिए rubber ball का उपयोग होता था. इन्हें ball mouse के नाम से भी जाना जाता है. Mechanical mouse का उपयोग पुराने समय मे सबसे अधिक होता था. इससे पहले के mice में move करने के लिए wheel लगी होती थी जिससे हर दिशा में mice को घुमाने में दिक्कत होती थी परन्तु मेकैनिकल माउस ने इसमे हमे स्वतंत्रता दी.

मैकेनिकल माउस अब अप्रचलित हो चुके है क्योंकि इन्हें optical mouse द्वारा replace किया जा चुका है. इनका एक नुकसान ये था कि ball पर dust बहुत अधिक जल्दी चिपकती थी जिससे उसे बार-बार सफाई की आवश्यकता होती थी.

Optical Mouse

आज widely use होने वाले ये माउस movement को track करने के लिए LED और optical sensors का उपयोग करते है. इन mouse के नीचे से आपको Red light दिखाई देगी. इनमे एक tiny low-resolution वाला camera लगा होता है, जो हर सेकंड में एक हजार या इससे अधिक pictures लेता है.

आप जैसे ही mice की स्थिति को बदलते है, तो ये नई तस्वीरे लेता है, जिससे sensor को पता लगता है कि movement हुई है. ये reflective surface पर काम नही करता है. बेहतर अनुभव के लिए आप इसे touchpad के उप्पर रखकर चलाये.

Laser Mouse

Laser mouse भी एक प्रकार का optical mouse है ये भी position track करने के लिए समान तकनीक का उपयोग करता है. इनके बीच सिर्फ एक अंतर है कि laser mouse, LED की जगह laser beam को यूज में लेता है. इसका benefit ये है कि आप इसे glass और plastic surface पर यूज कर सकते है. हालांकि ये उतना प्रसिद्ध नही है क्योंकि इसमें कुछ खामिया भी है.

Wireless Mouse

ऐसे mouse जो किसी भी तरह के wired connection का इस्तेमाल नही करते है बल्कि wireless technology का उपयोग करके computer को input देते है. इसमे आपको अपने कंप्यूटर में USB receiver को plug-in करना होता है जिसके बाद आप mice को चला पाएंगे. हालांकि bluetooth के द्वारा connect करने के लिए भी mice आते है.

ये battery से चलते है और tracking के लिए optical mice में उपयोग होने वाली technology का उपयोग करते है. इन्हें आप कही भी ले जा सकते है. इस प्रकार के माउस को Cordless Mouse भी कहा जाता है.

कंप्यूटर माउस के बारे में रोचक तथ्य

Computer Mouse के बारे में कुछ महत्वपूर्ण Facts:

1) आप जानते है Computer mouse का नाम कैसे पड़ा अगर आप एक चूहे को देखे तो उसका size, shape और tail बिल्कुल mice से मिलती है. इसलिये इस pointing device को माउस कहा जाने लगा

2) क्या आपको पता है, Mouse से पहले सभी कंप्यूटर text interface का यूज करते थे. अर्थात प्रत्येक command को keyboard के द्वारा type करके input किया जाता था.

3) यदि किसी items के उप्पर point करना है तो आपको एक laser light pen को उपयोग में लेना होता था.

4) सबसे पहला mice लकड़ी से बनाया गया था, जिसमे एक circuit board और इधर से उधर जाने के लिए दो धातु के पहिये लगे थे.

5) Xerox PARC दुनिया का पहला computer जिसमे Mouse इस्तेमाल किया गया. ये graphical user interface (GUI) को उपयोग करने वाला भी पहला कंप्यूटर था.

6) Mouse को अक्सर इसके plural, Mice या Mouses नाम से भी पुकारा जाता है. हालांकि इसके नाम को लेकर अलग-अलग मत है.

7) यदि आप किसी webpage के tab box पर scroll wheel को press करेंगे तो वह tab close हो जाएगी.

8) Ctrl key को दबाए रखने और फिर scroll wheel को up और down करने से आप उस webpage को Zoom in and out कर पाएंगे.

9) किसी भी शब्द पर double click करके आप उसे select कर पाएंगे वही three-time click करने से आप पूरे paragraph को select कर पाएंगे.

10) Webpage पर कही भी Scroll wheel पर क्लिक करने से auto scrolling ON हो जाती है. जिसके बाद सिर्फ pointor को ऊपर-नीचे करके पेज को स्क्रॉल कर सकते है.

Mouse Pointer क्या है?

Pointer या cursor उसे कहा जाता है, जो आपके mice की स्थिति या location को graphical user interface में दर्शाता है. ये एक graphical image है, जो arrow के आकार में आपकी computer screen पर दिखाई देती है. Mice को desk पर move करने पर pointer भी अपना स्थान बदलता है. इसकी मदद से हम program open कर सकते है और एक file को किसी अन्य स्थान पर drag भी कर सकते है.

Mouse pad क्यों important है

Mouse pad एक पतली प्लास्टिक या रबर की पट्टी होती है जो हमारे Mice के लिए बेहद महत्वपूर्ण है. ये हमें एक smooth surface प्रदान करती है, जिससे आपको mice को इधर-उधर करने में कोई परेशानी नही होती है. Mouse pointer की accuracy और speed के लिए ये बेहद महत्वपूर्ण है. हालांकि optical mouse में लगे sensor किसी भी surface में mouse की movement को detect कर सकते है.

परन्तु यदि आप reflective surface पर mice का use करना चाहते है, तो आपको mouse pad की जरूरत पड़ेगी. इसके अलावा ये आपके माउस को धूल और रघड़ से भी protect करता है.

Conclusion

इस पोस्ट What is Mouse in Hindi (माउस क्या है?) में हमने आपको माउस की जानकारी हिंदी में दी. जिसके अंतर्गत आपने जाना कि ये कितनी महत्वपूर्ण इनपुट डिवाइस है और इसके अविष्कार के बाद हमे अपने कमांड को कंप्यूटर में इनपुट करने में कितनी आसानी हुई है. इसके साथ ही आपने विभिन्न प्रकार के computer mice जैसे ऑप्टिकल माउस और बॉल माउस के प्रयोग के बारे में भी जाना.

तो उम्मीद है, इस लेख से आप कंप्यूटर माउस क्या होता और इसके कार्य के बारे में समझ पाए होंगे. अगर आपके पास इस लेख से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया Comment कर जरूर बताये आप चाहे तो इस पोस्ट को Share भी कर सकते है.

इन्हे भी पढ़े –

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here