IIT क्या होता है और कैसे करें? जानिए IIT करने के फायदे

जो भी स्टूडेंट इंजीनियरिंग की पढ़ाई करना चाहते है, उन्होंने IIT का नाम जरूर सुना होगा। देश मे अधिकांश माता-पिता की भी यही ख्वाहिश होती है, कि उनके बच्चें को कैसे भी करके IIT कॉलेज में एडमिशन मिल जाये। परन्तु इसकी प्रवेश परीक्षा (एंट्रेस एग्जाम) इतनी कठिन होती है, कि ज्यादातर स्टूडेंट के लिए IIT में एडमिशन पाना सिर्फ सपना बनके ही रह जाता है।

IIT Kya Hai - What is IIT in Hindi

IIT क्लियर करना कितना मुश्किल है, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते है, कि हर साल लाखों स्टूडेंट्स इसकी परीक्षा के लिये बैठते है, जिसमें से कुछ हजार स्टूडेंट ही सफल हो पाते है। इसकी डिग्री प्राप्त करना अपने आप में एक बहुत बड़ी बात होती है। दुनिया की शीर्ष कंपनियां उदाहरण के लिए गूगल, माइक्रोसॉफ्ट और अमेज़न हमेशा ऐसे स्टूडेंट्स को अपने यहाँ नॉकरी पर रखती है, जिन्होंने IIT से पास-आउट किया हो।

कुछ प्रशिद्ध IITians जिनमें सुंदर पिचाई, एन.आर. नारायण मूर्ति, चेतन भगत, सचिन बंसल और न जाने कितने ही नाम शामिल है। तो अगर आप भी इंजीनिरिंग, मेडिकल और साइंस की पढ़ाई करना चाहते है, तो आपका लक्ष्य IIT में एडमिशन प्राप्त करना होना चाहिए। आगे हम आपको IIT क्या है और इससे सम्बंधित पूरी जानकारी देंगे।

आईआईटी क्या है – What is IIT in Hindi?

IIT की फुल फॉर्म “Indian Institute of Technology” है, जिसे हिंदी में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कहा जाता है। यह उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिये देश के सबसे प्रतिष्ठित और मान्यता प्राप्त संस्थानों का समूह है। भारत के अलग-अलग हिस्सों मे कुल 23 IITs मौजूद है। पहला भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान 1951 में खड़कपुर में स्थापित किया गया था।

IITs को इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए विश्व-स्तरीय संस्थान का दर्जा प्राप्त है, साथ ही यह रिसर्च के माध्यम से दुनिया भर में भारत के वैज्ञानिक प्रभाव को बढ़ाने में भी मदद करते है। ये संस्थान 1961 के IIT एक्ट द्धारा शासित है और इन्हें देश के भीतर इंजीनियरिंग प्रतिभा को बढ़ावा देने के उद्देश्य से स्थापित किया गया था।

देश में मौजूद सभी IITs स्वायत्त विश्वविद्यालय (ऑटोनोमस यूनिवर्सिटी) की कैटेगरी में आते है, अर्थात इनके पास खुद के फैसले लेने और नियम बनाने की स्वतंत्रता होती है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में एडमिशन लेने के लिये कैंडिडेट को दो परीक्षाएं देनी होती है जिनमें JEE Mains और JEE Advanced शामिल है। इन परीक्षाओं को हर साल राष्ट्रीय परिक्षण ऐजेंसी (NTA) द्वारा आयोजित किया जाता है।

BA कोर्स की पूरी जानकारीB.Com क्या है और कैसे करें
इनफार्मेशन टेक्नोलॉजी (IT) कोर्सकंप्यूटर साइंस कैसे करें

भारत में मौजूद कुल IIT कॉलेज

भारत मे मौजूद कुल 23 IIT कॉलेज की लिस्ट इस प्रकार है:

  1. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, दिल्ली
  2. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मुंबई
  3. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, खड़कपुर
  4. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रुड़की
  5. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर
  6. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, गुवाहाटी
  7. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, हैदराबाद
  8. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, इंदौर
  9. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, वाराणसी
  10. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, धनबाद
  11. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भुबनेश्वर
  12. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान गांधीनगर
  13. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मद्रास
  14. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, रोपड़
  15. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, पटना
  16. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जोधपुर
  17. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, तिरुपति
  18. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, मंडी
  19. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, भिलाई
  20. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, जम्मू
  21. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, गोआ
  22. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, धारवाड़
  23. भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, पलक्कड़

IIT करने के लिए शैक्षिक योग्यता

कैंडिडेट जो IIT की प्रवेश परीक्षा लिए अप्लाई करना चाहते है, उनके पास निम्नलिखित शैक्षिक योग्यता होनी चाहिए।

  • कैंडिडेट ने वर्ष 2019-20 में देश के किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12वीं की परीक्षा उत्तीर्ण की होनी चाहिये। इसके अलावा 2021 में 12वीं की परीक्षा दे रहे स्टूडेंट भी इसकी प्रवेश परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकते है।
  • जनरल कैटेगरी के कैंडिडेट के न्यूनतम क्वालीफाइंग मार्क्स 89.75%, SC के 54%, ST के 44%, OBC के 74%, और PWD कैटेगरी के कैंडिडेट के 0.11% होने चाहिए।
  • 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और मैथमेटिक्स कैंडिडेट के अनिवार्य सब्जेक्ट होने चाहिये।
  • अगर कैंडिडेट एक डिप्लोमा होल्डर है, तो वह IIT प्रवेश परीक्षा के लिए अप्लाई कर सकता है।
  • प्रवेश परीक्षा में बैठने के लिये कैंडिडेट की उम्र मायने नही रखती है।

IIT में कौन से कोर्स ऑफर किये जाते है

देश मे मौजूद सभी भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों में अंडरग्रेजुएट, पोस्टग्रेजुएट और पीएचडी लेवल के कोर्स ऑफर किये जाते है। यह कोर्स सामान्यतः विज्ञान, इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी स्ट्रीम के अंतर्गत आते है। इन संस्थानों में पढ़ाये जाने वाले विभिन्न कोर्स की लिस्ट नीचे आप देख सकते है।

IIT संस्थानों द्वारा अंडरग्रेजुएट लेवल पर ऑफर किये जाने वाले कोर्स Bachelor of Technology (B.Tech), Bachelor of Science (B.Sc.), Bachelor of Architecture (B.Arch.) and Bachelor of Design (B.Des.) है।

पोस्टग्रेजुएट लेवल पर ऑफर किये जाने वाले कोर्स Master of Technology (M.Tech), Master of Science (M.Sc.), Master of Architecture (M.Arch.), Matser of Design (M.Des.) and Master of Business Administration (MBA) है।

पीएचडी लेवल पर ऑफर किये जाने वाले कोर्स Master of Philosophy (M.Phil.) and Doctor of Philosophy (PhD.) है।

IIT संस्थानों में ड्यूल डिग्री भी ऑफर की जाती है। जिनमें B.Tech+M.Tech, B.Sc.+M.Sc., M.Sc.+PhD and M.Tech+PhD शामिल है।

आईआईटी में एडमिशन कैसे लें

IIT की बेसिक जानकारी प्राप्त कर लेने के बाद आइये अब एडमिशन प्रकिया के बारे में जाने। अगर कैंडिडेट एडमिशन के लिये तय किये गए सभी मानदंडों को पूरा करता है, तो वह इसकी प्रवेश परीक्षाओं में बैठ सकता है। यह परीक्षाएं दो चरणों में कराई जाती है-

1. JEE (Joint Entrance Exam) Main
2. JEE Advanced

JEE Main क्या होता है

JEE Main देश के विभिन्न IIT कॉलेजों में एडमिशन पाने के लिये पहले चरण की प्रवेश परीक्षा है। जिसे NTA द्वारा 2021 में चार बार आयोजित कराया जाएगा। यह परीक्षा फरवरी, मार्च, अप्रैल और मई के महीने में होगी। जो भी कैंडिडेट इन प्रवेश परीक्षाओं में शामिल होना चाहते है, वह एक या चारों परीक्षाएं दे सकते है। अगर कैंडिडेट चारों परीक्षाएं देते है, तो ऐसे में जिस भी परीक्षा में उनके बेहतर नम्बर आयेंगे उसी आधार पर कैंडिडेट की रैंकिंग तय की जाएगी।

जो कैंडिडेट B.E./B.Tech कोर्स के लिये अप्लाई कर रहे है, उन्हें इसका पेपर CBT (Computer Based Test) मोड के द्वारा देना होता है। यह पेपर कुल 300 अंको का होता है। जिसमें फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथमेटिक्स के बराबर सवाल पूछे जाते है। पेपर में कुछ सवाल MCQ (Multiple Choice Questions) होते है, और कुछ Numerical Value टाइप के सवाल होते है।

वही B.Arch./B.Planning कोर्स में एडमिशन के लिये आपको दो चरणों मे पेपर देना होगा। इसमें पार्ट 1 – मैथमेटिक्स और पार्ट 2 – एप्टीट्यूड टेस्ट होता है। यह भी ऑनलाइन मोड के द्वारा दिया जाता है। दोनों पार्ट को मिलाकर यह कुल 400 अंको का पेपर बनता है। मैथमेटिक्स के पेपर में कुछ MCQ और कुछ Numerical Value टाइप के सवाल पूछे जाते है। वही एप्टीट्यूड टेस्ट में सभी सवाल MCQ होते है।

B.Arch.के लिये आपको पार्ट 3 का टेस्ट भी देना होता है। जिसमे कैंडिडेट की ड्राइंग स्किल को टेस्ट करने के लिए सवाल पूछे जाते है। यह टेस्ट ड्राइंग शीट पर पेन और पेपर के द्वारा ऑफलाइन मोड में दिया जाता है। इसके अलावा B.Planning के लिए भी आपको पार्ट 3 का टेस्ट देना होता है। जिसमें कैंडिडेट की विश्लेषणात्मक स्किल को जांचने के लिए प्लानिंग आधारित प्रश्न पूछे जाते है

JEE Advanced क्या है

यह IIT कॉलेज में एडमिशन पाने के लिये दूसरे चरण की प्रवेश परीक्षा है। जिन कैंडिडेट ने JEE Main में NTA द्वारा तय की गई Cutoff से अधिक स्कोर किया है, वो ही JEE Advanced की परीक्षा में बैठ सकते है। हर साल लगभग 12 लाख से उप्पर कैंडिडेट JEE Mains के लिए अप्लाई करते है, जिसमें से कुल 2 लाख 50 हजार के आस-पास कैंडिडेट JEE Advanced के लिये क्वालीफाई कर पाते है। JEE Advanced की परीक्षा देने के लिये कैंडिडेट को 2 मौके मिलते है।

यह परीक्षा भी कंप्यूटर आधारित होती है। इसे JAB (Joint Admission Board) के मार्गदर्शन में 7 जोनल IITs में से किसी एक के द्वारा कराया जाता है। JEE Advanced परीक्षा में आमतौर पर दो प्रश्नपत्र होते है, जिन्हें करने के लिए तीन-तीन घंटे का समय मिलता है। दोंनो में ही फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथमेटिक्स के सवाल पूछे जाते है। B.Arch. कोर्स में एडमिशन के लिये आपको AAT (Architecture Aptitude Test) देना होता है। यह पेपर और पेंसिल आधारित टेस्ट होता है।

JEE Advanced की परीक्षा पूर्ण हो जाने के बाद वो प्रौद्योगिकी संस्थान जो इस परीक्षा को आयोजित करवा रहे थे, उनके द्वारा Cutoff जारी की जाती है। जो भी कैंडिडेट Cutoff से अधिक स्कोर करते है, उन्हें अपना नाम AIR (All India Rank) लिस्ट में मिल जाएगा। इसके बाद वह IIT में एडमिशन ले सकते है।

IIT में फीस कितनी है

आमतौर पर सभी IIT कॉलेजों में फीस स्ट्रक्चर थोड़ा अलग होता है। इसके अलावा कैंडिडेट द्वारा चुने गए कोर्स और अलग-अलग कैटेगरी के कैंडिडेट के हिसाब से भी फीस ऊपर-नीचे हो सकती है। अगर हम कोर्स फीस, होस्टल फीस, बिजली, पानी और अन्य सभी खर्चो को जोड़ दे तो जनरल और OBC कैटेगरी के कैंडिडेट की औसतन फीस 2.5 लाख प्रति वर्ष तक हो सकती है। इसके अलावा SC/ST/PH कैटेगरी के कैंडिडेट की औसतन फीस 35 हजार प्रति वर्ष तक हो सकती है।

हालांकि फीस आपको हर सेमेस्टर में भरनी होती है। इसके अलावा सभी IITs द्वारा कई तरह की स्कॉलरशिप भी ऑफर की जाती है। अगर कोई कैंडिडेट किसी स्कॉलरशिप के लिये योग्य होगा, तो उसकी फीस में कटौती की जाएगी।

IIT प्रवेश परीक्षा की तैयारी कैसे करें

IIT में एडमिशन लेने के लिए लाखों कैंडिडेट इसकी प्रवेश परीक्षा में भाग लेते है। जबकि सभी IITs कॉलेजों में कुल सीट 16,053 है। इन आंकड़ों से आप अंदाजा लगा सकते है, कि क्यों ये देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। अगर आप इन परीक्षाओं में क्वालीफाई होना चाहते है। तो आपको इसके लिये अच्छे से तैयारी करनी होगी। आपको जानकर हैरानी होगी कि कई सारे स्टूडेंट्स क्लास 8 से ही इसकी कोचिंग लेना शुरू कर देते है।

IIT JEE एग्जाम की तैयारी के लिए कोचिंग लेना सबसे अच्छा विकल्प माना जाता है और अधिकांश स्टूडेंट्स 10वीं क्लास पास करने के ठीक बाद अपनी तैयारी के लिये किसी कोचिंग इंस्टिट्यूट को जॉइन करते है। हालांकि अगर आपके पास एक बेहतर प्लान है, तो आप घर से भी इसकी तैयारी कर सकते है। नीचे हमने कुछ टिप्स आपके साथ शेयर किए है, जिन्हें आपको जरुर फॉलो करना चाहिये।

JEE एग्जाम के सिलेबस का पता करें: JEE एग्जाम की तैयारी शुरू करने के लिये सबसे पहले पता करिए कि आपको पढ़ना क्या है। एक तो आपको 11वीं और 12वीं के फिजिक्स, केमेस्ट्री और मैथमेटिक्स के सिलेबस को अच्छे से पढ़ना चाहिये। हालांकि सिर्फ इतना काफी नही है, क्योंकि JEE का सिलेबस बहुत बड़ा है।

स्टडी टाईमटेबल बनाएं: जब आपको ये आईडिया हो जाये कि क्या-क्या पढ़ना है, तो उसके बाद अपना एक स्टडी टाईमटेबल बनाएं। जो भी टॉपिक अधिक महत्वपूर्ण है, उन्हें टाईमटेबल में प्राथमिकता दें। पूरे दिन आपको कितना समय पढ़ाई को देना है, और कौन से टॉपिक कितने घन्टें पढ़ने है, इन सब बातों को एक बोर्ड में लिखकर उसे अपने स्टडी रूम में लटका दें। यह स्टडी शेड्यूल आपको अपने लक्ष्य की तरफ बढ़ने में एकाग्रता प्रदान करेगा।

ऑनलाइन कोचिंग क्लास जॉइन कीजिये: अगर आप किसी इंस्टिट्यूट में जाकर कोचिंग नही ले सकते तो आपको ऑनलाइन कोचिंग क्लास जरूर जॉइन करनी चाहिये। यह IIT की तैयारी में आपकी बहुत अधिक मदद करेंगी।

NCRT की बुक्स पढ़ें: JEE प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए NCRT की बुक्स आपको सबसे अधिक मदद करेंगी। क्योंकि इसमें सभी टॉपिक को अधिक विस्तार से समझाया जाता है जिससे स्टूडेंट्स परीक्षा में अच्छा प्रदर्शन करते है। हर साल ऐसा देखा गया है कि JEE Main के पेपर में 60-70% प्रश्न NCRT की बुक्स से आते है। तो अगर एक स्टूडेंट ने इन बुक्स को अच्छे से पढ़ा होगा तो वह JEE परीक्षा में बेहतर रैंक प्राप्त कर पायेगा।

JEE एग्जाम के पिछले वर्ष के प्रश्नपत्रों को हल करें: JEE परीक्षा की अपनी तैयारी को जांचने के लिए आपको पिछले सालों के प्रश्नपत्रों को हल करने का प्रयास करना चाहिये। इससे आपको ये भी आईडिया होगा कि JEE परीक्षा मे किस तरह के सवाल पूछे जाते है। इन प्रश्नपत्रों की पीडीएफ आप ऑनलाइन डाउनलोड कर सकते है।

समय-समय पर रिवीजन करें: जितना भी आप पढ़ें उसे हफ्ते में एक-दो बार रिवीजन जरूर करें। जितना अधिक आप रिवीजन करेंगें, उतना ही याद रख पाएंगे। जो भी हम पढ़ते है अक्सर उसे कुछ ही दिनों में भूलने लगते है। जबकि समय-समय पर उस टॉपिक को रिवीजन करने से वह लंबे समय तक आपको याद रहता है।

ऑनलाइन मॉक टेस्ट दें: IIT JEE की परीक्षा से अच्छी तरह परिचित होने के लिए आपको अधिक से अधिक मॉक टेस्ट देने चाहिए। यह टेस्ट NTA की आधिकारिक वेबसाइट पर उपलब्ध है। इसके अलावा आप अन्य वेबसाइट से भी ये टेस्ट कर सकते है। इससे आपके आत्मविश्वास में सुधार होता है और आपको परीक्षा का उतना तनाव भी नही रहता।

आवश्यक पुस्तकें और अन्य अध्ययन सामग्री का इंतजाम करें: अपनी तैयारी को बेहतर करने के लिये आपको ऐसी बुक्स को ढूढ़ना चाहिये जिसमें बेसिक से लेकर एडवांस लेवल तक के सिलेबस को कवर किया गया हो। NCRT की बुक्स के अलावा आप रिफरेन्स बुक्स की भी मदद भी ले सकते है।

एक्सपर्ट की सलाह लें: अगर आप IIT JEE की परीक्षा में अधिक स्कोर करना चाहते है, तो आपको ऐसे लोगों की सलाह लेनी चाहिये जो या तो ये परीक्षा दे चूंके है, या इसके एक्सपर्ट है। यही वो लोग है, जो आपको सबसे बेहतर गाइड कर सकते है।

आईआईटी की तैयारी के लिए बेस्ट बुक्स

IIT की तैयारी करने के लिये आपको कड़ी मेहनत और आत्मसमर्पण की आवश्यकता तो पड़ती ही है। लेकिन आप किन बुक्स से पढ़ रहे है, ये भी उतना ही मायने रखता है। हालांकि कई सारी बुक्स पहले ही बाजार में उपलब्ध है। नीचे IIT टॉपर द्वारा सुझायी सर्वश्रेष्ठ बुक्स की लिस्ट दी गयी है।

IIT बेस्ट फिजिक्स बुक्स

BooksAuthors
Concept of Physics for JEEH.C. Verma
Fundamental-PhysicsHalliday, Resnick and Walker
IIT JEE Physics 35 years chapter-wise solved papersD.C. Pandey
Problems in PhysicsA.A. Pinsky
A Collection of questions and problems in PhysicsL.A. Sena
Advanced Level Physics: Examples and ExercisesNelkon, Michael, Parker, Philip
Physics (Vol. I and II)Paul A. Tipler

IIT बेस्ट केमिस्ट्री बुक्स

BooksAuthors
Physical chemistryO.P. Tandon and A.S. Singh
Numerical chemistryP. Bahadur
Physical chemistryPeter Atkins, Julio De Paula
Organic chemistryO.P. Tandon
Organic chemistryMorrison, Boyd, Bhattacharjee
Inorganic chemistryO.P. Tandon
Inorganic chemistryJ.D. Lee

IIT बेस्ट मैथमेटिक्स बुक्स

BooksAuthors
Mathematics class XI Vol. I
Mathematics class XII Vol. II
R. D. Sharma
IIT JEE MathematicsM.L. Khanna and J.N. Sharma
New pattern IIT JEE MathematicsS.K. Goyal
Integral Calculus for IIT JEEAmit M Agarwal

IIT ग्रेजुएट का औसतन सैलरी पैकेज

एक IIT ग्रेजुएट का औसतन सैलरी पैकेज उसकी योग्यता और कंपनी के प्लेसमेंट पर निर्भर करता है। भारत के सर्वोच्च IITs में यह पैकेज 10-20 लाख प्रतिवर्ष तक होता है। इसके अलावा अन्य प्रौद्योगिकी संस्थानों में यह 5-10 लाख प्रतिवर्ष रहता है। हालांकि किसी ग्रेजुएट को अब तक का सबसे अधिकतम पैकेज एक से डेढ़ करोड़ रुपये तक दिया गया है। आमतौर पर इस तरह के पैकेज कुछ अतंर्राष्ट्रीय कंपनियों द्वारा ऑफर किये जाते है।

IIT करने के फायदे

IIT करने के कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित है —

  • इसमें प्रवेश कर लेने के बाद देश मे लोग आपको जानने लगते है और आपका सम्मान भी बढ़ जाता है।
  • ये संस्थान आपको अध्ययन के लिए विश्व-स्तरीय सुविधाएं मुहैया कराती है।
  • इन संस्थानों से पढ़ने वाले स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप जैसी सुविधाओं का लाभ भी मिलता है।
  • आपको देश के बेहतर प्रोफेसरों से सीखने का मौका मिलता है।
  • इंजिनीरिंग और रिसर्च के अलावा स्टूडेंट्स मैनेजमेंट, फाइनेंस और सोशल स्किल्स के बारे में भी सीखते है।
  • ये देश के सबसे बेहतर संस्थानों में से एक है। यहां से अध्ययन करने पर आपको उच्चस्तर की एजुकेशन प्राप्त होती है।
  • जब आप IIT से ग्रेजुएट हो जाते है, तो आपको निश्चित रूप से उच्च सैलरी पैकेज मिलने की संभावना बहुत बड़ जाती है।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

IIT की फुल फॉर्म क्या है?
IIT की फुल फॉर्म “Indian Institute of Technology” है। हिंदी में इसे भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कहते है।

IIT करने के लिए क्या करें?
इसके लिए आपको दो प्रवेश परीक्षाएं JEE Main और JEE Advanced देनी होगी। यदि कोई इन दोनों ही परीक्षाओं में क्वालीफाई कर जाता है, तो वह आईआईटी कॉलेजों में स्टडी कर सकता है।

IIT के फॉर्म कब निकलेगा 2021?
IIT JEE परीक्षा 2021 में आवेदन के लिए 16 दिसम्बर से 23 जनवरी तक फॉर्म भरे जाएंगे।

IIT कितने साल का होता है?
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान में B.Arch/B.S. कोर्स 4 साल का होता है, जबकि B.Arch./Dual Degree/Integrated M.Tech./Integrated M.Sc. कोर्स करने में 5 साल का समय लगता है।

इंडिया में कितने IIT कॉलेज है?
इंडिया में कुल 23 IIT कॉलेज है। जो देश के अलग-अलग हिस्सों दिल्ली, मुंबई, कानपुर, खड़गपुर, गुवाहाटी, हैदराबाद, इंदौर, मद्रास, रुड़की, वाराणसी, धनबाद, भुबनेश्वर, जोधपुर, मंडी, तिरुपति, गांधीनगर, पटना, भिलाई, गोआ, जम्मू, रोपड़, पलक्कड़ और धारवाड़ में स्थित है।

IIT क्लियर करने के कितने प्रयास मिलते है?
एक कैंडिडेट को IIT JEE Main की परीक्षा क्लियर करने के लिए 3 प्रयास और IIT JEE Advanced की परीक्षा के लिये 2 प्रयास मिलते है।

IIT करने के लिए कितनी परसेंटेज चाहिये?
जनरल कैटेगरी के स्टूडेंट्स के न्यूनतम अंक 89.75% होने चाहिए। SC/ST के लिये ये आंकड़ा क्रमश: 54% और 44% है। इसके अलावा OBC 74% और PWD कैटेगरी के कैंडिडेट के 0.11% अंक होने चाहिए।

IIT और NIT में अंतर
ये दोनों ही भारत के टॉप लेवल इंजिनीरिंग इंस्टीट्यूट्स है। अगर कैंडिडेट ने JEE Main की परीक्षा क्वालीफाई कर ली है, तो वह NIT (National Institute of Technology) में एडमिशन ले सकता है। जबकि IIT में एडमिशन के लिये उसे साथ मे JEE Advanced की परीक्षा भी क्वालीफाई करनी होती है। तो इनके बीच मुख्य अंतर ये है, कि NIT के मुकाबले IIT में बेहतर एजुकेशन प्रदान की जाती है।

पोस्ट में आपने IIT क्या है? इस बारे में विस्तार से जाना। उम्मीद करते है, पोस्ट पढ़कर आपको इससे सम्बंधित सभी सवालों के जवाब मिल गए होंगे। यदि फिर भी कोई सवाल आपके पास हो, उसे कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं। अंत में पोस्ट ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे Social Media पर Share जरूर करे, ताकि आपके माध्यम से अन्य लोगों तक यह जानकारी पहुंच पाए।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम निर्मल सिंह खोलिया है ,और में इस ब्लॉग का फाउंडर हूँ। मेने कंप्यूटर साइंस में स्नातक की हुयी है, और मुझे टेक्नोलॉजी से संबंधित जानकारी शेयर करना बेहद पसंद है। अगर आप टेक्नोलॉजी, कंप्यूटर और इंटरनेट से संबंधित विषयो में रूचि रखते है, तो यह ब्लॉग आपके लिए ही बनाया गया है। मुझसे जुड़ने के लिए आप मुझे सोशल मीडिया पर फॉलो कर सकते है।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here