Computer Ports in Hindi: क्या है, प्रकार और उपयोग

इस पोस्ट “Computer Ports in Hindi” में आप कंप्यूटर Cabinet के आगे (Front) और पीछे तरफ (Back-side) मौजूद विभिन्न Ports के बारे में जानेंगे। सभी कम्प्यूटिंग उपकरणों में यह Computer Ports बेहद महत्वपूर्ण है, वो इसलिए क्योंकि यह विभिन्न Peripheral Devices जैसे: कीबोर्ड, माउस, मॉनिटर और प्रिंटर को Computer में कनेक्ट करने का काम करते है। यदि आप Computer का उपयोग करना सीखना चाहते है, तो आपको इनकी जानकारी होनी ही चाहिए। इनके बारे और अधिक जानने से पहले आइये Computer Port क्या है? इसे अच्छे से समझे।

Computer Port क्या है?

Computer Port, कैबिनेट में मौजूद वो कनेक्शन पॉइन्ट है, जिनमें विभिन्न Peripherals की केबल को प्लग-इन किया जाता है। उदाहरण के लिये आप कीबोर्ड के Cable Connector को कंप्यूटर कैबिनेट के पीछे तरफ मौजूद जिस छेद (Hole) में डालते है, उसे Computer Port कहा जाता है। यही वह हिस्सा है, जिसके माध्यम से Computer और उसके Peripherals के बीच कनेक्शन स्थापित हो पाता है।

हम यह कह सकते है, कि Computer और उसके Peripherals को आपस मे कनेक्ट करने के लिये यह Ports एक इंटरफेस के रूप में कार्य करते है। चूंकि यह Computer की इनपुटआउटपुट डिवाइस के लिये कनेक्शन पॉइन्ट है, इसलिए इन्हें I/O (Input/Output) Ports भी कहते है; इसके अलावा इनके कारण ही Computer का अन्य डिवाइस के साथ कम्युनिकेशन संभव हो पाता है, इसलिए इन्हें Communication Ports भी कहा जाता है।

कंप्यूटर पोर्ट्स के प्रकार (Types of Computer Ports)

Computer Ports को दो कैटेगरी में बांटा जाता है ― Physical और Virtual. प्रत्येक कंप्यूटर सिस्टम में आपको यह दोनों प्रकार के Ports देखने को मिलेंगे। आइये इनके बारे में विस्तार से जाने।

Physical Ports

यह Computer में Keyboard, Mouse, Monitor, Printer, और अन्य Peripherals को कनेक्ट करने की अनुमति देते है। आमतौर पर एक सामान्य Desktop Computer के सामने और पिछे की तरफ यह Ports मौजूद होते है। एक Computer में आपको कई सारे Ports दिखाई दे सकते है ― यह संख्या अलग-अलग Computers में कम या ज्यादा हो सकती है।

सिस्टम में प्रत्येक I/O Devices के लिये एक विशेष Port बना होता है, जिसका आकार और बनावट अन्य Ports से अलग होती है। तो जब भी आप किसी डिवाइस को कंप्यूटर से कनेक्ट करे, तो उसके कनेक्टर को सही Port में लगाए। कुछ मुख्य Physical Ports के उदाहरण है: सीरियल पोर्ट, पैरेलल पोर्ट, USB पोर्ट, PS/2 पोर्ट, VGA पोर्ट इत्यादि। इनके बारे में नीचे हम विस्तार से जानेंगे।

Virtual Port

इनका सम्बन्ध नेटवर्किंग से है। जिस तरह माउस या अन्य हार्डवेयर को Computer से कनेक्ट करने के लिये Physical Port इस्तेमाल में आते है, उसी प्रकार एक नेटवर्क में दो कम्प्यूटरों को आपस मे कनेक्ट करने के लिए Virtual Ports काम मे आते है। यह Ports मुख्य रूप से Transfer Control Protocol (TCP) और User Diagram Protocol (UDP) के लिये उपयोग किये जाते है।

कंप्यूटर के पीछे (Back-side) मौजूद Ports

computer back panel ports with label
इमेज 1: Computer Back-panel Ports

आइये इमेज 1 के माध्यम से सामान्य Desktop Computer के पिछे तरफ मौजूद विभिन्न Ports और उनके उपयोग के बारे मे जाने।

  • PS/2 Port: उप्पर इमेज में आपको दो अलग-अलग कलर (Green & Purple) के गोलाकार Ports दिखाई दे रहे होंगे, इनका नाम PS/2 Port है। यह 6-pin वाले DIN कनेक्टर होते है। जिसमे ग्रीन कलर वाले पोर्ट का उपयोग Mouse और पर्पल कलर वाले पोर्ट का उपयोग Keyboard को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है। हालांकि अब इनका इस्तेमाल बहुत कम मात्रा में होता है; क्योंकि इनकी जगह USB Ports ने लेली है।
  • S/PDIF Port: इसकी फुल फॉर्म है ― Sony/Philips Digital Interface. यह एक प्रकार का ऑडियो पोर्ट है, जिसका उपयोग उच्च-गुणवत्ता वाले Digital Audio को एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में ट्रांसफर करने के लिए किया जाता है। आमतौर पर S/PDIF का इस्तेमाल DVD प्लेयर, CD प्लेयर, Mini-Disc प्लेयर और Sound Card इत्यादि को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है।
  • USB (Universal Serial Bus) Ports: इनका उपयोग कई कार्यो के लिये किया जा सकता है। उदाहरण के लिये USB Ports की मदद से आप इनपुट व आउटपुट डिवाइस ― कीबोर्ड, माउस और प्रिंटर को Computer से कनेक्ट कर सकते है, डेटा ट्रांसफर कर सकते है, इसके अलावा फोन और डिजिटल कैमरा को चार्ज भी कर सकते है। एक सामान्य Computer में 4 USB Ports मौजद होते है।
  • LAN (Local Area Network) Port: इसे नेटवर्क पोर्ट और Ethernet Port भी कहा जाता है। इसकी मदद से आप अपने Computer को किसी Network (और इंटरनेट) से कनेक्ट कर सकते है। इसके अलावा दो कंप्यूटर को आपस मे कनेक्ट करने के लिये भी LAN Port का उपयोग किया जाता है।
  • eSATA Port: इसका मतलब है ― External Serial Advanced Technology Attachment. आप इसका उपयोग विभिन्न External Storage Device को Computer से कनेक्ट करने के लिये कर सकते है। आमतौर पर eSATA Port अपनी फास्ट डेटा ट्रांसफर स्पीड के लिये जाना जाता है।
  • Audio Ports: एक Computer में आपको कई अलग-अलग कलर के Audio Jack देखने को मिल जाएंगे। इनकी मदद से आप विभिन्न ऑडियो डिवाइस जैसे: Speakers, Headphones और Microphones को कंप्यूटर से कनेक्ट कर सकते है। आमतौर पर अधिकांश PC में Pink कलर वाला ऑडियो जैक Mic के लिये, Green कलर वाला Audio out के लिये, और Blue कलर वाला Audio in के लिये होता है।
  • VGA Port: इसका पूरा नाम, Video Graphics Adapter है। एक डेस्कटॉप में इसका उपयोग Monitor, Projector और TV को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है। यह एक D-Sub Port होता है, जिसमें कुल 15-Pin के लिये छेद मौजूद होते है। हालांकि डिजिटल वीडियो के उपयोग में व्रद्धि के कारण के VGA Port को HDMI Port से धीरे-धीरे रिप्लेस किया जा रहा है।
  • DVI Port: Digital Visual Interface (DVI) भी डिस्प्ले डिवाइस (मॉनिटर) को कनेक्ट करने के लिये Computer में मौजूद एक पोर्ट है। इसे VGA Port का बेहतर वर्शन भी कह सकते है, क्योंकि यह उसके मुकाबले बेहतर पिक्चर क्वालिटी प्रदान करता है। इसकी खाशियत है, कि यह डिजिटल और एनालॉग सिग्नल दोनों को ट्रांसफर कर सकता है।
  • HDMI Port: फुल फॉर्म है, High Definition Multimedia Interface. यह मुख्य रूप से उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो डिवाइस को Computer से कनेक्ट करने के लिये उपयोग होता है। इसके माध्यम से ऑडियो और वीडियो सिग्नल को एक साथ ट्रांसफर किया जा सकता है। डिस्प्ले डिवाइस की बदलती टेक्नोलॉजी के कारण आजकल लगभग सभी डेस्कटॉप कंप्यूटर व लैपटॉप में आपको HDMI Port देखने को मिलेगा।
  • Serial Ports: यह PC में मौजूद वह पोर्ट्स है, जो एक समय मे सिर्फ 1-bit Data ही प्रसारित करते है। इनकी पहचान यह है कि, ये D-Shape में होते है, और इनमें कुल 9/25 Holes मौजूद होते है। उदाहरण के लिए ― DB9 और DB25 Serial Connector. आमतौर पर इनका इस्तेमाल माउस, मॉडम और गेमिंग कंट्रोलर को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है। इसे Computer में मौजूद सबसे स्लो पोर्ट माना जाता है। हालांकि टेक्नोलॉजी में प्रगति के कारण आज ये आपको शायद एक PC में देखने को ना मिले।
  • Parallel Ports: यह एक 25-Pin Connector है, जो D-Shape में आता है। आमतौर पर इसका उपयोग Printer और External Storage Device को कनेक्ट करने के लिये किया जाता है। यह एक बार में कई Bits डेटा ट्रांसफर कर सकता है। हालांकि HDMI Port आने के बाद इसका उपयोग बहुत कम हो चुका है।

कंप्यूटर के सामने (Front-side) मौजूद Ports

computer front panel ports with label
इमेज 2: Computer Front-panel Ports

लगभग सभी PC कैबिनेट में सामने की तरफ भी कुछ Ports दिए जाते है (इमेज 2 देखे)।

  • Front USB Ports: एक कंप्यूटर कैबिनेट में सामने की तरफ भी कुछ USB Ports दिए गए होते है। जिनका उपयोग Pen Drive को कनेक्ट करने, या USB डेटा केबल की मदद से डेटा ट्रांसफर करने के लिये किया जा सकता है।
  • Front Audio Ports: लगभग सभी डेस्कटॉप Computer में सामने की तरफ भी कुछ Audio Jacks दिए जाते है। इनके उपयोग से आप Speaker और Microphone को डेस्कटॉप से कनेक्ट कर सकते है।

Computer Ports in Hindi

तो Computer Ports एक PC कैबिनेट के पीछे और आगे तरफ मौजूद वह Holes अथवा कनेक्शन है, जो हमें विभिन्न Peripheral Devices को कनेक्ट करने की अनुमति देते है। यह प्रमुख इनपुट/आउटपुट डिवाइस को Computer से कनेक्ट करने के लिये एक इंटरफेस के रूप में कार्य करते है; इसी कारण इन्हें I/O Ports भी कहा जाता है। उप्पर हमने आपको सभी Computer Ports के बारे में जानकारी दी। उम्मीद करते है, आप इससे बहुत कुछ सीख पाए हो। अपने सवाल या सुझाव के लिये आप नीचे कमेंट कर सकते है।


कंप्यूटर फंडामेंटल्स से सम्बंधित अन्य महत्वूर्ण लेख पढ़ें:

पोस्ट ज्ञानवर्धक लगी हो तो कृपया इसे Social Media पर Share जरूर करे, ताकि आपके माध्यम से अन्य लोगों तक यह जानकारी पहुंच पाए।

2 COMMENTS

  1. I just would like to offer you a huge thumbs up for your great information you have got right here on this post.
    Thanks for the information

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here