ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है – Operating System Definition in Hindi?

5

इस लेख में आप जानेगें Operating System क्या है और इसकी आवश्यकता क्यों है? जरा सोचिए Computer को इस्तेमाल करना आज जितना आसान है, क्या उतना आसान पचास साल पहले होगा. ब्लिकुल नही, बल्कि जितनी गतिविधियां आधुनिक कंप्यूटर करते है उसकी एक प्रतिशत भी उन सिस्टम द्वारा नही की जा सकती थी.

Operating System Kya Hai

यही कारण है, कि हम operating system को computer evolution अर्थात कंप्यूटर के विकास के रूप में देखते है. पहले के कंप्यूटर बहुत उलझे हुए होते थे. अर्थात एक समान व्यक्ति के लिए उनका इस्तेमाल करना संभव नही था. अगर आपको कंप्यूटर के द्वारा कोई कार्य करना है, तो उसके लिए एक operator होता था जो आपके program को C.P.U में input करता था.

कहने का मतलब है, एक user और computer के बीच कोई direct interaction नही था. इस मुश्किल का समाधान निकालते हुए operating system का अविष्कार हुआ. हालांकि वह आज के OS जीतना सक्षम नही था परन्तु उसने कंप्यूटर को थोड़ा आधुनिक बना दिया. तो चलिए अब विषय पर आते है और सबसे पहले जानते है, Operating System क्या होता है? फिर इसके बाकी पहलुवों को समझेंगे.

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है (What is Operating System in Hindi)

Operating System अथवा “OS” एक Software है, जो user और computer के बीच Interface के रूप में कार्य करता है. अर्थात computer hardware और application program को manage करता है. बिल्कुल आसान शब्दों में ये वो सिस्टम सॉफ्टवेयर है, जो आपको computer के साथ communicate करने में मदद करता है बिना computer language को सीखे.

एक operating system का उद्देश्य computer के इस्तेमाल को convenient और efficient बनाना है. उपयोगकर्ता द्वारा किसी भी कंप्यूटिंग डिवाइस (Desktop, Laptop, Mobile, Tablet etc.) में अन्य प्रोग्राम को चलाने के लिए operating system की आवश्यकता होती है. कुछ जाने पहचाने OS के उदाहरण जिनमे Windows, Android, iOS, macOS, Linux, Chrome OS और Windows Phone OS शामिल है.

विशेष रूप से एक operating system का कार्य उपयोगकर्ता को hardware complexity से बचाना और computational resources को manage करना है. OS concept को पहली बार 1950 के दशक में tap storage को manage करने के लिए लाया गया था. Operating System को निम्नलिखित Definition से भी समझा जा सकता है:

  1. ऑपरेटिंग सिस्टम एक program है, जो computer पर hardware और अन्य software को maintain और manage करता है.
  2. OS एक System software है, जिसकी मदद से उपयोगकर्ता कंप्यूटर को आसान और बेहतर तरीके से उपयोग कर पाते है.
  3. यह एक प्रकार का विशेष software है, जो कंप्यूटर में उपलब्ध सभी programs के execution को नियंत्रित और मॉनिटर करता है. इन प्रोग्राम में application program और अन्य system software शामिल है.
  4. Operating system एक कंप्यूटर सिस्टम के भीतर सबसे बुनियादी प्रोग्राम है, जो input/output और memory allocation जैसे हार्डवेयर कार्यो के लिए, program और computer hardware के बीच intermediary के रूप में काम करता है.
  5. ओएस C.P.U के संचालन की निगरानी करने वाले प्रोग्रामों की एक एकीकृत प्रणाली (integrated system) है. ये प्रणाली कंप्यूटर के इनपुट/आउटपुट और स्टोरेज फंक्शन को नियंत्रित करने के साथ विभिन्न सहायता सेवाएं प्रदान करती है.

Operating System की Importance

निम्नलिखित बिंदु जो ऑपरेटिंग सिस्टम की आवश्यकता को दर्शाते हैं:

1) कंप्यूटर में एक समय मे एक से अधिक computer program चल रहे होते है, और उन सभी को आपके कंप्यूटर की सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (सीपीयू), मेमोरी और स्टोरेज की आवश्यकता होती है. ऑपरेटिंग सिस्टम उन सभी programs के लिए resources का management करता है. इसीलिए operating system को resources manager भी कहा जाता है.

2) एक उपयोगकर्ता के लिए कंप्यूटर सिस्टम को बिना किसी operating system के इस्तेमाल करना लगभग असंभव है, क्योंकि एक program को execute करने पर कई process एक साथ चलती है. जिसे manage करना एक इंसान के लिए आसान नही है.

3) OS, user और computer के बीच एक communication link बनाता है, ताकि उपयोगकर्ता किसी भी application program को ठीक से चला पाये और उसे आवश्यक आउटपुट प्राप्त हो सके.

4) आप अपने माउस का इस्तेमाल application को खोलने तथा menu पर क्लिक करने के लिए करते है. यह सब आधुनिक operating system की बदौलत संभव है. ये ओएस, GUI (Graphical user interface) की मदद से आपको ऐसा करने की अनुमती देते है.

5) Operating system, उपयोगकर्ता को file management में मदद करता है. इसके द्वारा यूजर अपनी जरूरतों के अनुसार डेटा को व्यवस्थित तरीके से सेव कर सकता है.

6) Multitasking, ऑपरेटिंग सिस्टम की एक बेहद महत्वपूर्ण विशेषता है. इसकी मदद से हम कई program को एक समय मे चला पाते है.

7) कंप्यूटर में किसी भी application program को चलाने के लिए OS एक platform प्रदान करता है. जिसके कारण हम उस एप्लीकेशन की मदद से अपने कार्य को कर पाते है.

इसके अलावा भी OS की कई ऐसी विशेषताएं है, जिनके कारण हम आधुनिक तकनीकों के फायदे ले पा रहे है. तो चलिए अब operating system के कुछ महत्वपूर्ण functions पर एक नजर डालते है.

ऑपरेटिंग सिस्टम के कार्य – Function of Operating System in Hindi

अब तक आप जान चुके होंगे कि एक कंप्यूटिंग डिवाइस के लिए operating system कितना महत्वपूर्ण है. इन डिवाइस के लिए ओएस द्वारा कई महत्वपूर्ण कार्य किये जाते है. ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा निष्पादित किये जाने वाले विभिन्न कार्य निम्नानुसार है.

Structure of operating system

Process Management

जैसा कि हम जानते है, CPU एक समय मे एक ही process को execute कर सकता है. परन्तु हम अपने computer या mobile में multiple program को एक साथ run कर पाते है. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि OS उन प्रॉसेस को Multi-programming environment की सुविधा देता है. अर्थात सभी निष्पादन के लिए तैयार प्रोसेस CPU को कब और कितने समय के लिए access करेंगी यह सब ऑपरेटिंग सिस्टम तय करता है.

OS के इस function को process scheduling कहा जाता है. इसके अलावा ओएस, process और processor की status पर नजर रखता है और जब प्रक्रिया पूर्ण हो जाती है, तो प्रोसेसर अर्थात CPU को De-allocate कर देता है. प्रोसेस और प्रोसेसर की स्थिति पर नजर रखने वाले प्रोग्राम को traffic controller के रूप में जाना जाता है.

Memory Management

मेमोरी प्रबंधन एक प्रमुख कार्य है, जो ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा किया जाता है. जब भी हम किसी application या program को execute करते है, तो वह सबसे पहले main memory में load होता है. अब यदि हम कई प्रोग्राम को एक समय में निष्पादित करते है, तो उन सभी को मेमोरी की आवश्यकता होगी. यहां पर operating system द्वारा main memory (प्राइमरी मेमोरी भी कहते है) को manage किया जाता है.

मुख्य मेमोरी CPU से intimately connect होती है, इसीलिये instructions और data को processor के अंदर और बाहर ले जाना बहुत fast होता है. Multi programming में OS यह सुनिश्चित करता है, कि सभी process द्वारा memory का इस्तेमाल किया जा सके ताकि सिस्टम अच्छी तरह से कार्य कर पाए.

एक ऑपरेटिंग सिस्टम memory management के लिए विभिन्न कार्य करता है. उदाहरण के लिए मेमोरी का track रखता है, यानी कोनसा भाग किस प्रोसेस के उपयोग में है और कोनसा नही. जब कोई process मेमोरी की मांग करती है, तो उसे memory allocate करता है. जब प्रोसेस को इसकी आवश्यकता नही होती या प्रोसेस समाप्त हो जाती है, तो मैमोरी को De-allocate करता है.

Hardware Management

प्रत्येक hardware device एक अलग कार्य करता है, परन्तु ओएस respective drivers (एक प्रकार का सॉफ्टवेयर) की मदद से device communication को manage करता है. प्रत्येक हार्डवेयर डिवाइस के लिए एक अलग device driver होता है. ये ड्राइवर अन्य software और hardware के बीच संचार को सफल बनाते है.

सिस्टम से जुड़े सभी हार्डवेयर डिवाइस का OS द्वारा ट्रैक रखा जाता है. इसके लिए I/O controller नामक प्रोग्राम का उपयोग किया जाता है. ओएस तय करता है, कि कोन सी प्रोसेस एक certain device को access करेगी और कितने समय के लिए. इसके अलावा ऑपरेटिंग सिस्टम प्रभावी और कुशल तरीके से hardware device को allocate करता है. जब वे आवश्यक नही होते, तो डिवाइस को De-allocate करता है.

File Managment

कंप्यूटर में मौजूद files को easy navigation के साथ और efficient तरीके से उपयोग किया जा सके इसके लिए हम उन्हें directories में व्यवस्थित करते है. जिसके अंतर्गत एक operating system अहम भूमिका निभाता है. उदाहरण के लिए ओएस देखता है, कि data कहा store है साथ ही resources को खोजने में मदद करता है. इन सामुहिक सुविधाओं को अक्सर file system के रूप में जाना जाता है.

Security

OS यह सुनिश्चित करता है, कि केवल एक authorized user ही computer और इसके data तक पहुँच प्राप्त करे. ऐसा करने के लिए ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा password protection और अन्य तकनीकों का उपयोग किया जाता है. Data किसी भी computer system का एक महत्वपूर्ण भाग है. अगर यह किसी दूसरे व्यक्ति की पहुँच में आ जाये तो, वह डेटा का अवैध उपयोग और उसमें हेरफेर कर सकते है.

User को Interface Provide करना

यूजर computer resources का इस्तेमाल कर पाए उसके लिए operating system एक interface के रूप में कार्य करता है. यह एक Graphical user interface (GUI) हो सकता है, जिसमे यूजर OS के साथ संवाद करने के लिए on-screen elements पर क्लिक करता है. इसके अलावा यह Command-line interface (CLI) हो सकता है, जिसमे यूजर कार्य को करने के लिए ओएस को commands देते है.

Error बताना

सिस्टम की खराबी से बचने के लिए OS उसमे आ रहे errors को लगातार detect करता है. त्रुटि का पता लगाने के लिये ऑपरेटिंग सिस्टम विभिन्न तरीकों का उपयोग करता है.

System Performance देखना

Operating system हमारे कंप्यूटर की overall performance पर नजर रखता है साथ ही हमें CPU की status भी बताता रहता है. इसकी मदद से हम देख सकते है, कि हमारा सीपीयू कितना व्यस्त है, या हमारी हार्ड ड्राइव डेटा को कितनी जल्दी पुनर्प्राप्त करती है इत्यादि. सिस्टम में हो रही सभी activities की रिकॉर्डिंग करने का काम एक ऑपरेटिंग सिस्टम का है.

Goal of Operating System in Hindi

जब हम कंप्यूटर को चालू करते है, तो hardware द्वारा permanent memory यानी हार्ड डिस्क से एक code को main memory में load किया जाता है. कोड में मौजूद instructions कंप्यूटर में operating system को चलाने का काम करते है. ओपेरेटिंग सिस्टम के कंप्यूटर में स्टार्ट हो जाने के बाद ये application program को शुरू करने और उनके के लिए आवश्यक hardware resources का प्रबंधन करने के लिए जिम्मेदार होता है.

एक ऑपरेटिंग सिस्टम के मुख्य दो goal होते है- Convenience (सुविधा) और Efficiency (कुशलता). उदाहरण के लिए यदि आपको किसी कंप्यूटर का उपयोग करने से पूर्व यह समझना होता कि, एक operating system कैसे काम करता है. तो क्या लगता है, यह आपके लिए सुविधाजनक होता. बिल्कुल, नही इसीलिये OS को इतना आसान बनाया गया है, की उसे कोई भी बड़ी आसानी से इस्तेमाल कर सकता है. इसके साथ ही एक ओपरेटिंग सिस्टम का कुशल होना भी एक महत्वपूर्ण लक्ष्य है.

ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार – Types of Operating System in Hindi

ऑपरेटिंग सिस्टम निम्नलिखित प्रकार के होते है-

  • Batch Operating System
  • Multi programming Operating System
  • Multitasking Operating System
  • Distributed Operating System
  • Network Operating System
  • Real Time Operating System
  • Time Sharing Operating System
  • Multiprocessing Operating System

इन सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में विस्तार से जानने के लिए इस पोस्ट को पढ़े – Types of operating system in hindi

Operating System Video Lectures in Hindi

इस विषय को आप नीचे दी गयी वीडियो के माध्यम से भी समझ सकते है. जिसमे Sanchit Sir (YouTube Channel -Knowledge Gate ) ने ऑपरेटिंग सिस्टम को बेहतरीन ढंग से समझाया है.

Conclusion

इस पोस्ट में आपने जाना Operating System क्या है और इसकी आवश्यकता क्यों है? उम्मीद है, पोस्ट पढ़ने के बाद आपको ऑपरेटिंग सिस्टम और इसके कार्य के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल चुकी होगी. अगर आप टेक्नोलॉजी के विषय मे रुचि रखते है, तो आप हमारे newsletter को सब्सक्राइब जरूर करे. यह आपको सबसे नीचे या होम पेज में मिल जाएगा. इसके अलावा यदि आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो comment के माध्यम से जरूर बताये. धन्यवाद।।

5 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here