Software क्या है? सॉफ्टवेयर की जानकारी हिंदी में

6

Software क्या होता है तथा Hardware और सॉफ्टवेयर में अंतर क्या है?आज के इस युग को देखें तो Computer हमारी एक बुनयादी जरूरत है हम कार्यालय या घर दोनों जगह अपने कार्यो को करने के लिए कंप्यूटर का उपयोग करते है. यह कहना संभव है,की आज की दुनिया कंप्यूटर से चलने वाली दुनिया है,जहां हर कार्य कंप्यूटर के माध्यम से होता है.आमतौर पर computer system को दो प्रमुख भागों में वर्गीकृत किया जाता है:Hardware और Software. इन दोनों के बिना कंप्यूटर का कोई अस्तित्व नही है.

Software Kya Hai

अगर आम भाषा मे समझना हो कि सॉफ्टवेयर का मतलब क्या है? तो Computer software एक तरह का tool है, जो user को कंप्यूटर में machine या hardware के साथ बातचीत करने में मदद करता है. बिना software आप कंप्यूटर को चलाने में सक्षम नही होंगे. इस पोस्ट में हम आपको यह तो बताएंगे ही कि सॉफ्टवेयर किसे कहते है? साथ ही सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते है? इस बारे में भी सम्पूर्ण जानकारी देंगे. तो चलिए समय का सदुपयोग करते हुए सबसे पहले जानते है, सॉफ्टवेयर क्या है? फिर इसके बाकी पहलुवों पर बात करेंगे.

सॉफ्टवेयर क्या होता है (What is Software in Hindi)

Software (S/W) एक set of instructions अथवा program है, जिसका उपयोग computer को संचालित करने (operate computers) और कुछ विशिष्ट कार्यो (specific task) को निष्पादित करने के लिए किया जाता है. आम तौर पर Software शब्द का इस्तेमाल कंप्यूटर में चलने वाले Application, script और program के लिए करते है. सॉफ्टवेयर कंप्यूटर का एक महत्वपूर्ण भाग है, इसके बिना अधिकांश कंप्यूटर बेकार है.

उदाहरण के लिए आपका Internet browser जिस पर आप अभी इस लेख को पढ़ रहे है एक “Software” है. सोचो यदि हमारे पास इस तरह का कोई tool नही होता तो क्या internet surf करना संभव हो पाता. आम भाषा मे सॉफ्टवेयर उन programs को कहा जाता है, जो कंप्यूटर पर चलते है, और कुछ विशिष्ट कार्यो को करते है.

जब हम एक computer या smartphone खरीदते है, तो उसके भौतिक भाग (physical parts) अर्थात keyboard, monitor, speaker इत्यादि hardware है. दूसरी तरफ इनको निर्देश देने वाले computer program अर्थात internet browser, windows, android, Microsoft office, music player, Adobe Photoshop इत्यादि सभी software है. इसलिए सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर का variable part और हार्डवेयर को invariable part कहा जाता है.

Software program को programming language में लिखा जाता है. हालांकि computer सिर्फ machine language को समझते है, इसीलिये compiler या interpreter का उपयोग करके प्रोग्रामिंग भाषा को मशीन भाषा मे बदला जाता है. हम आमतौर पर सॉफ्टवेयर को Application software और System software में विभाजित करते है. इसके बारे में हम आपको नीचे विस्तार से बतायेंगे.

History of Software

  • Ada Lovelace ने 19 century में दुनिया का first software लिखा था. यह सॉफ्टवेयर Charles Babbage के Analytical engine के लिए प्रकाशित किया गया था. एडा को first computer programmer के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि उन्होंने यह साबित किया था कि यह इंजन Bernoulli Numbers की गणना कैसे करेगा. Software का सिद्धांत सर्वप्रथम 1935 में Alan Turing ने अपने निबंध “Computable Numbers, with an Application to the Entscheidungsproblem” में लिखा था. हालांकि सॉफ्टवेयर शब्द का निर्माण John Tukey ने किया था, जो एक mathematician और statistician थे.

सॉफ्टवेयर का क्या काम है

सॉफ्टवेयर क्या कर सकता है? यह इस बात पर निर्भर करता है, कि आप किस प्रकार का software उपयोग कर रहे है तथा उस सॉफ्टवेयर को किस उद्देश्य से बनाया गया है. उदाहरण के लिये hardware पर stored files को manage करने के लिए operating system का उपयोग किया जाता है, जो एक प्रकार का system software है. संख्याओं की गणना के लिए calculator का उपयोग किया जाता है, यह एक application software है.

इसके अलावा Windows, Linux, Android, iOS इत्यादि सभी operating system एक प्रकार के software है जो हमारे computer का संचालन करते है. आपके smartphone में उपयोग होने वाले application भी इसी श्रेणी में आते है. जो भी कार्य आप अपने कंप्यूटर या मोबाइल द्वारा कर पा रहे है, वो सब software की मदद से ही संभव है. मनोरंजन और स्वास्थ्य सेवा से लेकर शिक्षा और बिक्री तक, दुनिया के किसी भी उद्योग का काम सॉफ्टवेयर की मदद से किया जाता है.

यदि आप अपने smartphone में whatsapp या facebook उपयोग करना चाहते है, तो पहले आपको उसका software download करना होगा. तो कुल मिलाकर software का क्या काम है, यह इस बात पर निर्भर है कि उसे किस उद्देश्य से बनाया गया है.

सॉफ्टवेयर के प्रकार – types of software in hindi

Software के कार्यो के आधार पर इन्हें मुख्य दो भागों में बांटा गया है.

  1. System software.
  2. Application software.

System Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर का उपयोग hardware के संचालन और अन्य application software को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है. System software को background software के रूप में भी जाना जाता है, क्योंकि इनके program अग्रभूमि प्रक्रिया (foreground process) का समर्थन करने के लिए background पर चलते है. यह hardware devices के साथ communicate करने से लेकर CPU, memory, peripheral devices जैसे monitor, printer आदि विभिन्न हार्डवेयर संसाधनों के उचित उपयोग को control और monitor करता है. इसके साथ ही अन्य application software के निष्पादन और विकास का समर्थन करता है. सिस्टम सॉफ्टवेयर चार प्रकार के होते है.

1. Operating system

इस प्रकार के System software उपयोगकर्ता को एक device पर अन्य application चलाने की अनुमति देते है. यह  software और hardware के बीच एक interface के रूप में कार्य करते है. operating system कंप्यूटर का उपयोग करने से सम्बंधित कई तकनीकी कार्यो को संभालता है. सभी computing devices जैसे computer, smartphone, tablet, laptop इत्यादि को operating system की आवश्यकता होती है.

उदाहरण -:

Windows
Linux
Android
macOS
Unix
iOS

2. Utilities

Utilities एक प्रकार के service program  है. इनका उपयोग आपके computer की efficiency और performance को बनाये रखने में किया जाता है. इन्हें हम सहायक प्रोग्राम भी कह सकते है, जो एक computer system की दक्षता बनाये रखने और बड़ाने के लिए विशिष्ट उपयोगी कार्य करता है. यह operating system के साथ एक tool kit के रूप में आते है.

उदाहरण -:

Antivirus
Data backup
Data recovery
Firewall
Disk defragmentation
System diagnosis

3. Device driver

एक Hardware device को computer से connect करने के लिए एक खास प्रकार के software program की जरूरत होती है, जिसे हम Device driver कहते है. यह डिवाइस ड्राइवर operating system के साथ काम करता है. उदाहरण के लिए जब keyboard को कंप्यूटर से connecte करते है, तो वह कार्य कर पाए इसके लिए कंप्यूटर में पहले से ही एक keyboard driver मौजूद होता है.

उदाहरण -:

USB drivers
Printer drivers
Motherboard driver
Network adapter drivers
ROM drivers
VGA drivers

4. Language translator

यह सॉफ्टवेयर programming language में लिखे code या instructions को machine language में translate करते है, ताकि computer इसे समझ कर process कर सके. सभी प्रकार के software को अलग – अलग प्रकार की programming language में लिखा जाता है, परन्तु कंप्यूटर सिर्फ machine language ही समझ पाता है. इसीलिये इसका अनुवाद करने के लिए language translator का उपयोग होता है.

उदाहरण -:

Compiler
Interpreter
Assemblers

Application software

एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर को end user software भी कहा जाता है, क्योंकि इसका इस्तेमाल अंतिम उयोगकर्ता अपने specific task को complete करने के लिए करते है. इस तरह के application किसी खास मकसद के लिए program किये जाते है. अपने दैनिक जीवन मे हम कई प्रकार के Application software का उपयोग करते है, फिर चाहे वो ईमेल भेजना हो या गाने सुनना यह सभी एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर की श्रेणी में आते है. यह user के input को समझने में सक्षम होते है. एक बार install कर लेने के बाद इन्हें आसानी से access किया जा सकता है. निम्नानुसार दो प्रकार के एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर होते है.

1) Basic application software

इन्हें general purpose application भी कहा जाता है. उदाहरण के लिए word processor, spreadsheet, database managment system बुनयादी application software के सामान्य प्रकार है. इनका उपयोग लगभग हर व्ययसाय में बड़ी मात्रा में किया जाता है.

2) Specialized application software

खास मकसद के लिए बनाए गए Application software इस श्रेणी में आते है. आप जिस browser में इस पोस्ट को पढ़ रहे है, वह भी इसी श्रेणी में आता है. इसके अलावा music player, video editor, social media app, इत्यादि सभी application जो एक खास मकसद के लिए बनाए गए है, विशिष्ट अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर कहलाते है.

Software कैसे बनाये

अगर आप software development में interested है, तो आपको इसकी शुरुआत programming language सीखने से करनी चाहिए. इन भाषाओं को सीख कर सभी प्रकार के software विकसित किये जा सकते है. लेकिन इसमे एक समस्या है, प्रोग्रामिंग भाषाएं बहुत सारी है और इनमे से किसको सीखे यह चुनाव करना सबसे बड़ी चुनोती है. इससे निपटने के लिए आपको देखना होगा कि आप किस प्रकार का software बनाने में रुचि रखते है.

उदाहरण के लिए अगर आप Application या program development में रुचि रखते है, तो आपको C,C#, C++, Java, Swift इत्यादि भाषाओ को सीखना होगा. Artificial intelligence में रुचि है, तो आप Python जैसी high level programming language सीख सकते है. कहना का अर्थ है, अपने intrested के आधार पर कि आप क्या develop करना चाहते है. आपको प्रोग्रामिंग भाषाओ का चुनाव करना होगा. इसके लिए आप सॉफ्टवेयर इंजीनियर की पढ़ाई भी कर सकते है.

एक बार चुनाव कर लेने के बाद आप उस भाषा को सीखने के लिए resources की तलाश करे. आज internet पर हजारों ऐसी websites और youtube videos उपलब्ध है, जहां से आप मुफ्त में किसी भी programming language को आसानी से सीख सकते है. नीचे कुछ प्रमुख प्रोग्रामिंग भाषाओं के नाम दिए गए है, जिन्हें आप सीख सकते है.

Python
JavaScript
PHP
Java Language
C Language
C#
Swift
Ruby
C++
Golang

यह जरूरी नही की एक भाषा को सीख लेने से आप प्रोग्रामिंग में माहिर हो जायेगें. आपको कई भाषाओं की सीखना होता है, तब कहि जाके आप एक बेहतर software developer बन पाते है.

Software और Hardware में अंतर

Hardware एक device है, जो computer के साथ भौतिक रूप में जुड़ा हुआ होता है. जिसे हमारे द्वारा देखा व छुवा जा सकता हो. उदाहरण के लिए Mouse यह कंप्यूटर से सीधे तौर पर जुड़ा होता है. इसके अलावा computer के वह सभी पार्ट जो भौतिक रूप से जुड़े है, जैसे Monitor, CPU, Keyboard, Printer, RAM, Hard drive, Motherboard इत्यादि सभी hardware कहलाते है. इसे हम कंप्यूटर की body या शरीर भी कह सकते है. इसके बिना कंप्यूटर कार्य नही कर सकता है.

Software शब्द का उपयोग एक computer program को परिभाषित करने के लिए किया जाता है. उदाहरण के लिए आप जिस internet browser पर इस पेज को देख रहे है वो एक software है, जो अपने program की वजह से कार्य कर पा रहा है. सॉफ्टवेयर सिस्टम के दो प्रमुख भाग होते है: System software व Application software. सिस्टम सॉफ्टवेयर का कार्य हार्डवेयर को निर्देश देना होता है, वही एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर कुछ विशेष कार्य के लिए develop किये जाते है.

सॉफ्टवेयर व हार्डवेयर दोनों ही एक दूसरे के लिए कार्य करते है और इनके बिना कंप्यूटर या अन्य device का कोई अस्तित्व नही है. जिस तरह मनुष्यों के पास कार्य करने के लिए शरीर और सोचने के लिए दिमाग है. उसी तरह कंप्यूटर के पास hardware और softwares है.

Conclusion

इस लेख से आपने सीखा Software क्या होता है तथा Hardware और सॉफ्टवेयर में अंतर क्या है? एक कंप्यूटर या अन्य डिवाइस के लिए जितना महत्वपूर्ण हार्डवेयर है, उतना ही महत्वपूर्ण सॉफ्टवेयर भी है. इन दोनों के विकास ने ही आज कंप्यूटर को इतना सशक्त बना दिया है, कि आज इसके माध्यम से हम कई असम्भव कार्य कर सकते है. अपनी इस पोस्ट में हमने आपको सॉफ्टवेयर की पूरी जानकारी हिंदी में देने की कोशिश की है. उम्मीद है, आपको इसे पढ़ने व समझने में कोई परेशानी नही हुई होगी. अगर आपका इस पोस्ट से सम्बंधित कोई सवाल या सुझाव हो तो कृपया नीचे comment कर हमें बताये. आप चाहे तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों तक share भी कर सकते है. धन्यवाद ।। जय हिंद

इन्हे भी पढ़ें-

6 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here